Haseen Dillruba Review in Hindi: लव स्टोरी का रोमांस और बदले का रोमांच, जानिए कैसी है 'हसीन दिलरुबा' फिल्म

Critic Rating:

Haseen Dillruba Film Review in Hindi: तापसी पन्नू और विक्रांत मैसी और हर्षवर्धन राणे की फिल्म हसीन दिलरुबा नेटफ्लिक्स पर स्ट्रीम हो रही है। यहां जानिए कैसी है विनील मैथ्यू निर्देशित यह फिल्म।

Haseen Dillruba Film Review
Haseen Dillruba Film Review 

मुख्य बातें

  • तापसी पन्नू और विक्रांत मैसी की फिल्म हसीन दिलरुबा हुई रिलीज।
  • लव स्टोरी के रोमांस के साथ दिखाई गई है बदले की कहानी।
  • चुनिंदा बेहद अलग कहानी वाली फिल्मों में से एक है हसीन दिलरुबा।

Haseen Dillruba Film Review and Story in Hindi: फिल्म निर्माता विनील मैथ्यू की हसीन दिलरुबा आम तौर पर दिखाई जाने वाली प्रेम कहानियों जैसी नहीं है। यह एक ऐसी कहानी नहीं है जहां एक लड़का और एक लड़की से मिलता है, दोनों प्यार में पड़ते हैं, शादी कर लेते हैं और हमेशा के लिए खुशी से रहते हैं। यह पागल प्यार, जुनून, वासना, बदला, अपराध, और अन्य कई चीजों से गुजरने वाली कहानी है। यह एक ऐसी फिल्म नहीं है जो हर दिन कमर्शियल स्पेस में बनती है, बल्कि यह उस तरह की पल्प-फिक्शन है जिसमें आप अपना समय लगाना चाहेंगे। सिर्फ इसलिए कि यह बाकी की तुलना में अलग है।

फिल्म की शुरुआत एक ऐसे सीन से होती है जहां एक महिला सड़क पर कुत्तों को खाना खिला रही है और अचानक उसे अपने घर में आग लगने की आवाज सुनाई देती है। वह अंदर भागती है, केवल अपने पति ऋषभ के टैटू वाले हाथ (उसके नाम का टैटू - रानी) को खोजने के लिए। घर जर्जर है, उसका पति इस घटना के बाद नहीं रहता और मामले की जांच के लिए एक पुलिस दल (आदित्य श्रीवास्तव के साथ) आता है।

पत्नी पर ही लगता है पति की मौत का आरोप:
रानी नाम की महिला अपने पति की हत्या के मामले में मुख्य संदिग्ध है। कहानी एक खोजी थ्रिलर की तरह आगे बढ़ती है, जहां दर्शकों को पुलिस स्टेशन के सीन और रानी व ऋषभ के निजी जीवन के सीन के बीच झूलने के लिए मजबूर किया जाता है। दर्शक उतना ही जानते हैं जितना रानी पुलिस के साथ शेयर करती है, इस तरह देखने वालों के बीच भी सस्पेंस बना रहता है। पीछे मुड़कर देखें तो दर्शक पृष्ठभूमि में पुलिस अधिकारियों की तरह हैं, जो रानी और मुख्य जांच अधिकारी के बीच बातचीत के आधार पर कहानी सीख रहे हैं।

ऋषभ सक्सेना (विक्रांत मेसी) एक शांत और डरपोक व्यक्ति है। पेशे से वह बिजली बोर्ड में इंजीनियर है। वह एक अंतर्मुखी व्यक्ति है, जो आसानी से एक महिला के प्यार में पड़ सकता है और आगे बढ़ने में लंबा समय लेता है। उसका परिवार चाहता है कि उसकी शादी एक 'सुंदर सुशील और घरेलू लड़की' से हो और वह उन्हें बहुत प्रयास के बाद रानी कश्यप (तापसी पन्नू) से मिलने के लिए मना लेता है।

रानी पेशे से, वह एक सैलून मैनेजर है और उसे घर के काम करना पसंद नहीं है। उन्हें दिनेश पंडित के अपराध उपन्यास में भी गहरी दिलचस्पी है। उसके अतीत में संबंध रहे हैं और वह ज्वालापुर जाने से हिचकिचाती है, लेकिन किसी कारण से वह शादी के लिए सहमत हो जाती है।

शुरू से ही, वह मानती है कि वह ऋषभ के लिए बहुत अच्छी है, जो अब वास्तव में उसके प्यार में पागल है। रानी और ऋषभ की शादी हो जाती है। थोड़ी देर बाद, सीन में ऋषभ के चचेरे भाई नील त्रिपाठी (हर्षवर्धन राणे) की एंट्री होती है। वह ऐसे समय में सक्सेना निवास पर आता है, जब रानी और ऋषभ के बीच वैवाहिक समस्याएं चल रही होती हैं। इसके बाद रानी और नील एक साथ आ जाते हैं और फिर जो होता है वह कहानी का आधार बनता है।

फिल्म तेजी से एक कॉमेडी-स्पेस से एक मनोवैज्ञानिक-थ्रिलर स्पेस में बदल जाती है। इसमें कोई संदेह नहीं है कि यह पेचीदा और विवादित कहानी है। उदाहरण के लिए, आपको अपने प्यार को सजा देने या बदला लेने के नाम पर कितनी दूर जाने की अनुमति है? क्या प्यार के नाम पर आप जो कुछ भी करते हैं सब जायज है, चाहे वह कितना भी खतरनाक क्यों न हो?

परफॉर्मेंस: प्रदर्शन के लिहाज से तापसी रानी के रूप में फुल फॉर्म में हैं। तापसी ने अपने किरदार को बखूबी निभाया है और अपने किरदार के छोटे से छोटे विवरण को ठीक करते हुए एक यादगार प्रदर्शन किया है। विक्रांत अपने रोल में अविश्वसनीय रूप से प्रभावशाली रेंज दिखाते हैं। उनका किरदार, सबसे मजबूत है जो कई परतों को दिखाने का मौका देता है।

Bollywood News in Hindi (बॉलीवुड न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर । साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) केअपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर