92 साल की उम्र में पाई-पाई को मोहताज है बॉलीवुड सितारा, 2012 में मिला था पद्मश्री पुरस्‍कार

बॉलीवुड
Updated Sep 21, 2019 | 11:03 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

ये स‍िनेमा जगत की हकीकत है कि जब कोई बुलंदी पर होता है तो सब उसे सलाम करते हैं और जब उसके स‍ितारे उतरते हैं तो सब भुला देते हैं। कुछ ऐसा ही हुआ है पद्मश्री पुरस्‍कार व‍िजेता इस शख्‍स के साथ।

Vanraj bhatia
Vanraj bhatia 

ये स‍िनेमा जगत की हकीकत है कि जब कोई बुलंदी पर होता है तो सब उसे सलाम करते हैं और जब उसके स‍ितारे उतरते हैं तो सब भुला देते हैं। कुछ ऐसा ही हुआ है पद्मश्री पुरस्‍कार व‍िजेता इस शख्‍स के साथ। हम बात कर रहे हैं 80-90 के दशक में अनगिनत फ‍िल्‍मों का संगीत दे चुके जिक डायरेक्टर वनराज भाटिया (Vanraj Bhatia) की। वनराज 92 साल के हो चुके हैं और आज पाई-पाई को मोहताज हैं। एक समय में जबरदस्‍त स्‍टारडम देख चुके वनराज से आज मिलने तक कोई नहीं जाता है। उम्र ढ़ल गई तो चमक कम हो गई और लोगों ने साथ छोड़ दिया।

एक वेबसाइट ने वनराज के हालात के बारे में रिपोर्ट प्रकाशित की है। वनराज की हालत काफी खराब है, वह बीमार हैं और इलाज तक को उनके पास पैसे नहीं हैं। अब उनकी मदद को जाने माने गीतकार जावेद अख्‍तर आगे आए हैं। जावेद अख्‍तर ने इंडियन परफॉर्मिंग राइट सोसाइटी (IPRS) के तहत उनकी मदद की है। IPRS के सीईओ राकेश निगम ने उनकी आर्थि‍क सहायता की है। 

जावेद अख्तर IPRS के चेयरमैन हैं। जावेद ने खुद मीडिया को इस बारे में जानकारी दी है। उन्‍होंने बताया कि जब पता चला कि म्यूजिक कंपोजर और हमारे दोस्त वनराज भाटिया ठीक नहीं है तो हमने तुरंत मदद के ल‍िए हाथ बढ़ाया। 

बता दें कि म्यूजिक कंपोजर वनराज भाटिया को 2012 में भारत सरकार ने पद्मश्री पुरस्‍कार से नवाजा था। राष्ट्रपति प्रतिभा देवी पाटिल ने उन्‍हें यह सम्‍मान दिया था। इससे पहले 1988 में आई फिल्म 'तमस' में संगीत देने के लिए उन्हें नेशनल अवॉर्ड भी मिल चुका है।

अगली खबर
loadingLoading...
loadingLoading...
loadingLoading...