छह हजार रुपए के लिए हुआ था इस एक्ट्रेस का मर्डर, चार दिन तक कमरे में सड़ती रही लाश

Kritika Choudhary Murder Mystery: साल 2017 में एक्ट्रेस और मॉडल कृतिका चौधरी की लाश उनके कमरे से बरामद हुई। पुलिस ने जब तहकीकात की तो कई चौंकाने वाले सच सामने आए। जानिए एक्ट्रेस की मर्डर मिस्ट्री...

GDP Data Release: ?????? ????? ?? ?? ?? ??? ???, ????? ??? ????? ?????? ?? ??????
कृतिका उर्फ ज्योति चौधरी। 

मुख्य बातें

  • साल 2017 में बॉलीवुड और टीवी एक्ट्रेस कृतिका चौधरी की कमरे में लाश मिली।
  • कृतिका की लाश कमरे में चार दिन तक सड़ती रही थी।
  • कृतिका कंगना रनौत के साथ फिल्म रज्जो और एकता कपूर के सीरियल में काम कर चुकी हैं।

मुंबई. 12 जून 2017 अचानक मुंबई के अंबोली पुलिस स्टेशन में एक फोन आता है। फोन करने वाला पुलिस को बताता है कि भैरवनाश हाउसिंग सोसाइटी के पांचवीं मंजिल के कमरा नंबर 503 से बदबू आ रही है। पुलिस पहुंचती है और दरवाजा खोलती है। दरवाजा खोलते ही मिलती है कंगना रनौत के साथ रज्जो फिल्म में काम कर चुकीं बॉलीवुड और टीवी एक्ट्रेस कृतिका उर्फ ज्योति चौधरी की लाश।कृतिका की लाश सड़ चुकी थीं।  उसकी लाश को हाथ लगाना भी संभव नहीं था। कमरे में खून के निशान थे।    

कृतिका उत्तराखंड के हरिद्वार की रहने वाली थीं। उसे स्कूल के दौरान एक्टिंग का शौक था। हालांकि, घरवालों के न चाहते हुए वह एक्टिंग में करियर बनाने के लिए मुंबई आ गईं। इसके बाद उसे मॉडलिंग के असाइनमेंट मिल जाते हैं। हालांकि, वह फिल्मों में काम करना चाहती थी,लेकिन उसे कामयाबी नहीं मिल रही थी। 

कृतिका की इसके बाद एक पार्टी में दिल्ली के रहने वाले बिजनेसमैन राज त्रिवेदी से मुलाकात होती है। कुछ वक्त बाद दोनों की शादी हो जाती है। हालांकि, एक्टिंग करियर के कारण कृतिका की अपने पति से लड़ाई होती रहती है। शादी के एक साथ बाद दोनों का तलाक हो जाता है।  

 

 

ठग से की थी दूसरी शादी
कृतिका की तलाक के बाद विजय द्विवेदी से मुलाकात होती है। विजय खुद को कांग्रेस नेता जनार्दन द्विवेदी का भतीजा बताता था। कुछ वक्त बाद कृतिका और विजय की शादी हो जाती है। इस दौरान कृतिका मुंबई आ जाती है। यहां उन्हें फिल्म रज्जो और एकता कपूर का सीरियल परिचय में काम मिल जाता है। 

कृतिका अपना करियर बना रही थीं। वहीं, खुद को जनार्दन द्विवेदी का भतीजा बताने वाले विजय की सच्चाई सामने आती है। विजय दरअसल एक ठग था, जिसे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। इसके बाद दोनों का तलाक हो गया था।   

 

 

छह हजार रुपए के कारण हुआ था कत्ल
पुलिस ने कृतिका के घर जब छापा मारा तो उन्हें बिस्तर पर एक सफेद पाउडर भी मिला था। बाद में ये सफेद पाउडर ड्रग्स निकला। कृतिका की कॉल डिटेल्स खंगालने पर एक ड्रग पेडलर आसिफ अली का नंबर मिला था। आसिफ की कॉल डिटेल खंगाली गई तो दूसरे ड्रग पेडलर शकील का नंबर मिला। 

 

 

शकील से पूछताछ की तो खुलासा हुआ कि- कृतिका को जब काम नहीं मिल रहा था तब वह आसिफ से ड्रग्स लेती थीं। आसिफ ने कृतिका को शकील से मिलवाया। शकील जब जेल से छूटा तो वह आसिफ के साथ कृतिका से छह हजार रुपए मांगने गया। कृतिका ने एक हफ्ते बाद देनी की बात कही। इस पर दोनों ने मिलकर रॉड से कृतिका पर हमला कर उसकी हत्या कर दी थी।

अगली खबर