Amitabh Bachchan Blog: गिर गया अमिताभ बच्चन का गुलमोहर पेड़, इसी के नीचे अभिषेक-ऐश्वर्या राय ने रचाई थी शादी

Amitabh Bachchan Blog: अमिताभ बच्चन ने आज अपने ब्लॉग पर अपने गुलमोहर के पेड़ की कहानी सुनाई। इसी पेड़ के नीचे अभिषेक बच्चन और ऐश्वर्या राय ने शादी रचाई। पेड़ के गिरने से अमिताभ बच्चन भावुक हो गए।

Abhishek Bachchan, Aishwarya Rai Wedding
Abhishek Bachchan, Aishwarya Rai Wedding 

मुख्य बातें

  • अमिताभ बच्चन ने अपने ब्लॉग में गुलमोहर के पेड़ का किस्सा सुनाया।
  • इस पेड़ के नीचे ही अभिषेक बच्चन और ऐश्वर्या राय की शादी हुई थी।
  • अमिताभ बच्चन ने बताया कि ये पेड़ अब गिर गया है।

मुंबई. अमिताभ बच्चन सोशल मीडिया पर फैंस से अपनी जिंदगी से जुड़ी कई कहानियां शेयर करते हैं। बिग बी ने अब अपने बंगले प्रतीक्षा के बगीचे में लगे 43 साल पुराने गुलमोहर के पेड़ की कहानी बताई है। इसी पेड़ के नीचे ही दोनों शादी के बंधन में बंध थे। 

सदी के महानायक ने अपने ब्लॉग में इसके बारे में विस्तार से बताया है। बिग बी लिखते हैं- '1976 में हम जिस दिन पहली बार इस घर में आए थे। इस पीढ़ी ने कभी इसे खरीदा और बनाया था। हमने एक पौधे को याद के लिए लगाया था।' 

आमिताभ बच्चन आगे लिखते हैं- 'उस वक्त इस पौधे की ऊंचाई कुछ इंच की थी। ये पौधा जब पेड़ बन गया तो उनके बेटे अभिषेक बच्चन ने ऐश्वर्या राय के साथ इसी के पास शादी की थी। इसके अलावा हम होलिका दहन समेत कई समारोह और उत्सव इसी गुलमोहर के पास मनाते थे।'

गर्मियों में खिलते थे फूल 
अमिताभ बच्चन अपने ब्लॉग में आगे लिखते हैं- 'बच्चे इसरे आस-पास खेलते-कूदते थे। नाती-पोते का बर्थडे हो या फिर कोई त्योहार इस पेड़ को सजाया जाता था। इसके नारंगी फूल गर्मियों के दौरान खिला करते थे। बच्चों ने इससे कुछ फीट दूर शादी की और ये अभिभावक बनकर खड़ा था।'

अमिताभ आखिर में बताते हैं कि- 'बाबू जी, मां जी की 13वीं भी यहीं हुई थी।  होलिका दहन में बुरी शक्तियों का यहीं पर जलना। दिवाली की सभी रोशनी अपनी शाखाओं को निहारती है। सत्यनारायण की पूजा या फिर शांति और समृद्धि के लिए हवन यही सम्पन्न होते थे।'

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

“कबीरा ते नर अँध है, गुरु को कहते और। हरि रूठे गुरु ठौर है, गुरु रूठे नहीं ठौर॥” ~ गुरुपूर्णिमा के शुभ अवसर पर , चरण स्पर्श ,शत शत नमन , अपने गुरु देव गुरु परम .. परम पूज्य बाबू जी poet Kabir says , that individual is blinded if he doth ignore or show no belief in the guru ; for if the Lord be upset, then doth the Guru give solace , but when the Guru be upset then there be no comforting solace, no other path .. कबीरदास जी ने सत्य ही कहा है कि यदि परमात्मा रूठ जाए तो गुरु का आश्रय रहता है परंतु गुरु के उपरांत कोई ठौर नहीं रहता। गुरु के बिना ज्ञान नही - ज्ञान के बिना संस्कृति नही꫰ without the guru , there be no knowledge ; without knowledge there be no sacrament ; संस्कृति के बिना संस्कार नही - संस्कार के बिना आचरण नही꫰ without sacrament there be no culture ; without culture there be no conduct ; आचरण के बिना आदर नही -आदर के बिना मनुष्यता नही꫰ without conduct there be no respect ; without respect there be no humanness ; greetings on guru purnima .. my deference on the feet of my guru .. गुरु पूर्णिमा के शुभ अवसर पर सबको हार्दिक शुभकामनाएं !!! आज गुरु पूर्णिमा पर मेरे गुरु जी के चरणों में भी कोटि-कोटि नमन।

A post shared by Amitabh Bachchan (@amitabhbachchan) on

आज गिर गया पेड़ 
अमिताभ बच्चन आखिर में लिखते हैं- 'आज सभी दुखों से दूर ये खत्म हो गया। चुपचाप गिर गया, बिना एक भी आत्मा को नुकसान पहुंचाएं। जो फूल इसमें थे वह बिखर गए हैं। बारिश के बावजूद इसकी टहनियां और पत्ती हिल नहीं रही थी।' 


अमिताभ बच्चन ने प्रतीक्षा बंगने के नाम की कहानी सुनाई। उन्होंने लिखा- 'इस घर में हमने बाबूजी और मां को साथ साथ रहने के लिए आमंत्रित किया था। इसका नाम रखा प्रतीक्षा। ये बाबूजी की पंक्ति से आया है- 'स्वागत सभी का है यहां पर, नहीं किसी की है प्रतीक्षा।'

Bollywood News in Hindi (बॉलीवुड न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर । साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) केअपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर