Amar Singh Jaya Prada: जब जया प्रदा ने कहा- 'अमर सिंह को राखी भी बांध दूं, लोग फिर भी करेंगे बात'

Amar Singh Death: राज्यसभा सांसद अमर सिंह का निधन हो गया है। बॉलीवुड एक्ट्रेस जया प्रदा और अमर सिंह की करीबी काफी चर्चा में रही थी। जया प्रदा ने अमर सिंह के साथ रिश्ते पर एक इंटरव्यू में खुलकर बात की थीं।

Jaya Prada, Amar Singh
Jaya Prada, Amar Singh 

मुख्य बातें

  • अमर सिंह का 64 साल की उम्र में निधन हो गया।
  • एक्ट्रेस जया प्रदा अमर सिंह को अपना गॉडफादर मानती थीं।
  • जया प्रदा और अमर सिंह की नजदीकियों ने काफी सुर्खियां बटोरी थी।

मुंबई. राज्यसभा सांसद अमर सिंह का 64 साल की उम्र में निधन हो गया है। 64 साल के अमर सिंह पिछले काफी वक्त से किडनी समेत कई बीमारियों से जूझ रहे थे। अमर सिंह की बॉलीवुड सेलेब्स के साथ काफी नजदीकियां थीं। एक्ट्रेस जया प्रदा उन्हें राजनीति में अपना गॉडफादर तक मानती थीं।

जया प्रदा और अमर सिंह की नजदीकियों की काफी चर्चा होती रही है। जया प्रदा ने तेलुगु देशम पार्टी (टीडीपी) से साल 1994 में अपने पॉलिटिकल करियर की शुरुआत की थी। इसके बाद वह समाजवादी पार्टी ज्वाइन कर ली थी। 

ज्या प्रदा को सपा में लाने का श्रेय अमर सिंह को जाता है। इसके बाद से ही अमर सिंह और जया प्रदा की नजदीकियों ने सुर्खियां बटोरी थी। जया प्रदा ने ये तक कहा था कि कभी इन खबरों के कारण वह सुसाइड तक करने वालीं थीं।

गलत तरीके से फैलाई थी तस्वीर
जया प्रदा ने एक इंटरव्यू में कहा था- 'मेरे जीवन में कई लोगों ने मेरी मदद की है और अमर सिंह जी मेरे गॉडफादर हैं। अमर सिंह डायलिसिस पर थे और उनके साथ मेरी तस्वीरों को गलत तरीके से फैलाया गया था।' 

जया प्रदा आगे कहती हैं कि- 'मैं सदमे में चली गई थी। मैं आत्महत्या करना चाहती थीं। अपनी सफाई में जया ने कहा- 'यदि मैं उन्हें राखी भी बांध दूं तब क्या लोग बातें करना बंद कर देंगे? लोग क्या कहते हैं मुझे परवाह नहीं।'

ऐसा था अमर सिंह का परिवार 
अमर सिंह ने साल 1987 में पंकजा कुमारी से शादी की थी। शादी के 14 साल बाद यानी साल 2001 में वो जुड़वा बेटियों- दृष्टि और दिशा के पिता बने थे। अमर सिंह की बेटियां अभी पढ़ाई कर रही हैं।

पीएम नरेंद्र मोदी ने अमर सिंह को श्रद्धाजलि देते हुए ट्वीट किया- 'अमर सिंह जी काफी ऊर्जावान व्यक्ति थे। पिछले कुछ दशकों में उन्होंने बड़े राजनीतिक घटनाक्रमों को बेहद करीब से देखा। वह सभी दलों में अपने दोस्त रखने के लिए जाने जाते थे। मैं उनके निधन का समाचार पाकर दुखी हूं।'
 

अगली खबर