आपकी तरक्की में रोड़ा बन सकती है, वर्कप्लेस पर की गईं ये 5 गलतियां

Behavior at workplace :वर्कप्लेस पर आपके वर्किंग स्किल के साथ आपके व्यवहार पर भी आपकी प्रगति निर्भर करती है। इसलिए अपने ऑफिस में आप पांच गलतियों से हमेशा खुद को बचा कर रखें।

Things not to do in the workplace, वर्कप्लेस पर नहीं करें ये गलतियां
Things not to do in the workplace, वर्कप्लेस पर नहीं करें ये गलतियां 

मुख्य बातें

  • कंपनी या इंप्लाइज की आलोचना करने से बचें
  • पुरानी कंपनी के बारे में बात करने से हमेशा बचें
  • पर्सनल बातें ऑफिस में नहीं करनी चाहिए

अगर आपको ऐसा लगता है कि अपके इलिजिबल होने के बाद भी आपका प्रमोशन रुका रहता है या आपको वह पद या सैलरी नहीं मिल रही जिसके आप हकदार हैं, तो इसमें केवल आपके बॉस की कमी नहीं बल्कि आपकी कमी भी हो सकती है। ये कमी शायद आप न समझ पा रहे होंगे, लेकिन कई बार आपके व्यवहार के कारण आपका प्रमोशन भी प्रभावित हेता है। ऑफिस में कई बार जाने-अनजाने हम कई ऐसी चीजें करते हैं जो हमारे लिए नकारात्मक साबित होती है। इसलिए वर्कप्लेस पर खुद को बहुत ही संयमित रखने की जरूरत होती है। यहां उन पांच गलतियों के बारे में बताने जा रहे हैं जिनसे आपको हमेशा बच कर रहना चाहिए।

वर्कप्लेस पर भूल कर भी न करें ये गलतियां

1.फ्लेक्सिबिलिटी का फायदा नही उठाएं

ऑफिस में यदि आपको काम करने में फ्लेक्सिबिलिटी दी गई है तो आपको इसका दुरुपयोग नहीं करना चाहिए। अपने काम को सही समय पर करें और फ्लेक्सिबिलिटी का फायदा उतना ही लें जितना आपको ये सेलफिश साबित न करे। भले ही आप काम पूरा करें लेकिन यदि वह समय पर पूरा नहीं होगा तो उसका महत्व नहीं होगा। आपके हर काम पर आपके बॉस और एचआर की नजर रहती है। इसलिए अपने काम में फ्लेक्सिबिलिटी का दुरुपयोग करने से बचें। ये आपके प्रमोशन पर असर डालता है।

2.पुरानी कंपनी की बातें न करें

कभी भी अपनी पुरानी कंपनी या ऑर्गनाइजेशन की बातें न करें। कभी तुलना भी न करें कि पुराने ऑर्गनाइजेशन में ये सुविधाएं थीं या क्या चीजें अच्छी या बुरी थीं। ऐसा कर के आप मौजूद कंपनी में अपनी साख को कमजोर कर रहे होते हैं। कई बार आपके कलिग्स ही आपकी ये बातें ऊपर तक पहुंचाते हैं जिससे आपकी विश्वसनीयता पर धब्बा लगता है। कभी भी अपने पुरान ऑर्गनाइजेशन के इंप्लाइज की बुराई न करें।

3.आलोचना करने से बचें

आप जहां भी काम कर रहे हैं वहां कमिया हो सकती है, लेकिन किसी के सामने किसी की आलोचना करना सही नहीं है। नए लोगों के साथ काम करना जिस तरह से आपके लिए मुश्किल और चैलिंज होगा उसी तरह से नए लोगों को आपके साथ काम करने में मुश्किल आ सकती है। ऐसे में धैर्यता के साथ कमा करें और अपने इंप्रेशन को अच्छा बनाने के लिए कभी किसी की आलोचना न करें। बल्कि उन्हें समय दें ताकि वह आपके साथ काम करने में सहज हो सकें। अगर आप हमेशा कंपनी और लोगों की आलोचना करते रहेंगे तो हो सकता है कि आपको नौकरी से भी हाथ धोना पड़ जाए।

4.पर्सनल बातें शेयर करने से बचें

ऑफिस में कभी भी न तो पर्सनल बातें करें न ही पर्सलन बातें किसी से शेयर करें। पर्सनल बातें करने से आपकी कमजोरी और कमियां सबके सामने उजागर हो जाएंगी और हो सकता है कि आपकी इन्हीं कमजोरी का फायदा कोई उठाएं। साथ ही कभी किसी की पर्सनल बातों को सुनने में भी दिलचस्पी न दिखाएं। ऑफिस पर्सनल बातों की जगह नहीं।  

5.सहकर्मियों का साथ न देना

यदि ऑफिस में किसी सहकर्मी को आपके सहयोग की जरूरत हो तो उसे सहयोग न देना बहुत ही गलत होगा। मौके पर आगे बढ़ कर लोगों की मदद करें। जो लोग दूसरों की मदद नहीं करते या उनके काम में कांटे बोते हैं, उनके साथ भी कभी न कभी ऐसा ही होता है। कई बार ऐसे लोग ऑफिस में अलग-थलग पउ जाते हैं। आपका असहयोगात्मक रवैया आपकी तरक्की में बाधक बनता है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर