JNU Violence: साबरमती हॉस्टल की वार्डन ने जारी की रिपोर्ट, बताया उस दिन का आंखों देखा हाल

JNU Violence: जेएनयू में हुई हिंसा पर साबरमती हॉस्टल की वार्डन ने प्रेस रिलीज जारी कर दी है। जानिए उन्होंने क्या कहा-

jnu violence sabarmati hostel
साबरमती हॉस्टल में हिंसा 

नई दिल्ली : जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में 5 जनवरी को छात्रों के साथ हुए हिंसा के बाद विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। साबरमती हॉस्टल में छात्र संघ अध्यक्ष आईशी घोष के अलावा अन्य छात्रों के ऊपर किए गए हिंसा के बाद अब साबरमती हॉस्टल ने इस पर अपना बयान जारी किया है। साबरमती हॉस्टल के वार्डन ने 5 जनवरी के हिंसा पर जेएनयू प्रशासन को अपनी रिपोर्ट पेश की है।

साबरमती हॉस्टल की वार्डन स्नेहा ने शाम के 4 बजे 40 से 50 लोगों को मास्क पहन कर हॉस्टल में घुसते हुए देखा था। ये नकाबपोश छात्र कुछ खास कमरों में जाकर कुछ खास छात्रों को तलाश रहे थे। सभी वार्डनों की साढ़े 5 बजे आपातकालीन बैठक बुलाई गई। 

वार्डनों ने पीसीआर कॉल किया जिसके बाद अतिरिक्त सुरक्षा के लिए सीएसओ को चिट्ठी भेजी गई। हालांकि 6 बजकर 45 मिनट तक कोई अतिरिक्त सुरक्षा और पुलिस नहीं आई। एक बार फिर से शाम 7 बजे के करीब 150 छात्रों ने हॉस्टल में प्रवेश किए इनमें कई लड़कियां भी थीं। 

इन छात्रों के झुंड ने हॉस्टल में रह रहे कई छात्रों को ऊपर हमला किया और उनके कमरे में तोड़-फोड़ मचाई। कमरा नंबर 51 में एक नेत्रहीन छात्र में भी उन्होंने हमला किया। घटना की गंभीरता को देखते हुए हम इसकी जल्द से जल्द जांच की मांग करते हैं।

बता दें कि गत पांच जनवरी को जेएनयू कैंपस में हिंसा हुई। नकाबपोश हमलावरों ने कई छात्रावासों को निशाना बनाते हुए छात्रों पर हमले किए। इस हमले में जेएनयू छात्र संघ की अध्यक्ष आइशी घोष भी घायल हुईं। लेफ्ट छात्र संगठन ने इस हिंसा के लिए एबीवीपी को जिम्मेदार ठहराया है जबकि एबीवीपी का आरोप है कि हिंसक भीड़ की अगुवाई लेफ्ट छात्र संगठन के नेता कर रहे थे।

 

अगली खबर
loadingLoading...
loadingLoading...
loadingLoading...