'ऑटो पर लिखा I love Kejriwal, मिला 10,000 रुपए का चालान, गरीबों से बदला लेना बंद करे बीजेपी'

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को बीजेपी पर गरीबों से 'बदला' लेने का आरोप लगाया और ये विनती की।

Delhi CM Arvind Kejriwal
Delhi CM Arvind Kejriwal  |  तस्वीर साभार: IANS

नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को बीजेपी पर शहर में गरीबों से "बदला" लेने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि बीजेपी इस तरह के कार्यों को रोकें। उनका ट्वीट एक खबर के जवाब में आया है जिसमें कहा गया है कि एक ऑटो ड्राइवर को उसके ऑटो पर "आई लव केजरीवाल" लिखने के लिए 10,000 रुपए का चालान किया गया था।

इस खबर पर प्रतिक्रिया देते हुए केजरीवाल ने हिंदी में ट्वीट किया कि बीजेपी अपनी पुलिस का इस्तेमाल गरीब ऑटो चालकों के गलत चालान के लिए कर रही है। ऑटो चालक की गलती सिर्फ इतनी थी कि उसने" आई लव केजरीवाल "लिखा था। गरीबों के प्रति इस तरह की दुर्भावना ठीक नहीं है। मैं बीजेपी से गरीबों से बदला लेना बंद करें।

दिल्ली में ऑटो चालकों द्वारा 'आई लव केजरीवाल' अभियान शुरू किया गया था। AAP के अनुसार, वे "मुख्यमंत्री के प्रति अपनी निष्ठा व्यक्त करने के लिए" केजरीवाल के लिए 'आई लव केजरीवाल' लिख रहे हैं। 

उधर दिल्ली हाई कोर्ट ने एक ऑटो रिक्शा पर 'आई लव केजरीवाल' लिखे होने की वजह से ड्राइवर को थमाए गए 10,000 रुपए के चालान को चुनौती देने वाली याचिका पर मंगलवार को आप सरकार, पुलिस और चुनाव आयोग से जवाब मांगा। जज नवीन चावला ने दिल्ली सरकार, पुलिस और चुनाव आयोग को नोटिस जारी कर ऑटो ड्राइवर की याचिका पर उनका रुख पूछा जिसने दावा किया है कि कार्रवाई राजनीतिक दुर्भावना से प्रेरित है।

दिल्ली सरकार के वकील और पुलिस ने अदालत को बताया कि 10,000 रुपए का चालान क्यों काटा गया, इसका अध्ययन करने के लिए समय जरूरी है और इस बारे में रिपोर्ट दाखिल की जाएगी। चुनाव आयोग के वकील ने कहा कि संभवत: आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के मामले में कार्रवाई की गई जिस दौरान राजनीतिक विज्ञापनों पर पाबंदी होती है।

ऑटो चालक के वकील ने चुनाव आयोग की दलील का विरोध करते हुए कहा कि पहली बात तो यह राजनीतिक इश्तहार नहीं है और अगर है भी तो इस पर प्रतिबंध नहीं लगाया जाएगा क्योंकि यह याचिकाकर्ता के खर्च पर किया गया है ना कि राजनीतिक दल के खर्च पर। उन्होंने कहा कि आचार संहिता में किसी व्यक्ति के खर्च से राजनीतिक विज्ञापनों की बात नहीं है।

Delhi News in Hindi (दिल्ली न्यूज़), Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। साथ ही और भी Hindi News (हिंदी समाचार) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर