ओडिशा: एक IAS अधिकारी 1 लाख रुपए घूस लेते गिरफ्तार, सरकार ने कहा- किसी भी भ्रष्टाचारी को बख्शेंगे नहीं

क्राइम
Updated Dec 31, 2019 | 11:39 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

ओडिशा में एक आईएएस अधिकारी एक लाख रुपए घूस लेते हुए पकड़ा गया। मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने ये बात कही।

ओडिशा: एक IAS अधिकारी 1 लाख रुपए घूस लेते गिरफ्तार
ओडिशा में एक IAS अधिकारी 1 लाख रुपए घूस लेते गिरफ्तार 

मुख्य बातें

  • ओडिशा बागवानी विभाग का डायरेक्टर बिजय केतन उपाध्याय घूस लेते गिरफ्तार
  • गिरफ्तारी के तुरंत बाद उपाध्याय को ड्यूटी से सस्पेंड कर दिया गया 
  • सीएम नवीन पटनायक ने कहा कि पारदर्शिता इस सरकार का एक महत्वपूर्ण स्तंभ है

भुवनेश्वर: ओडिशा के भुवनेश्वर में एक आईएएस अधिकारी को सोमवार को कथित तौर पर रिश्वत लेते पकड़ा गया। आरोपी राज्य बागवानी विभाग का डायरेक्टर था। उन्होंने कथित तौर पर 1 लाख रुपए का घूस लेने की बात स्वीकार की। आरोपी की पहचान बिजय केतन उपाध्याय के रूप में हुई है। उनकी गिरफ्तारी के तुरंत बाद उपाध्याय को ड्यूटी से सस्पेंड कर दिया गया था। ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने भी इस घटना पर अपना बयान दिया और कहा, पारदर्शिता इस सरकार का एक महत्वपूर्ण स्तंभ है। हम किसी को भी भ्रष्टाचार में लिप्त होने पर नहीं छोड़ेंगे। राज्य सरकार बिजय केतन उपाध्याय को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड करती है।

उपाध्याय से अज्ञात स्थान पर पूछताछ की गई। इस मामले से जुड़े एक अधिकारी ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया कि वे यह पता लगाने के लिए बिजय के कार्यालय और क्वार्टर की जांच कर रहे हैं कि क्या उसके पास आय से अधिक संपत्ति तो नहीं है। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, सरकार को पिछले दिनों इस IAS अधिकारी के खिलाफ निगेटिव फीडबैक मिली थी। आगे की जांच जारी है।

इस साल दिसंबर में, गुजरात में एक एंटी-करप्शन ब्यूरो (एसीबी) के अधिकारी को पकड़ा गया था, जब वह गोसेवा के एक रिटायर सदस्य सचिव से 18 लाख रुपये की रिश्वत ले रहे थे। आरोपी डीडी चावड़ा ने दावा किया कि वह एक धार्मिक व्यक्ति था और उसने 'प्रसाद' मांगा था और रिश्वत नहीं दी थी। उसे गुजरात के अहमदाबाद में संभल चौराहे पर पकड़ा गया था।

कथित तौर पर, चावड़ा ने शिकायतकर्ता से 20 लाख रुपए की रिश्वत की मांग की थी। उन्होंने कथित रूप से शिकायतकर्ता को 10.16 लाख रुपए का अनुदान देने में अनियमितता के मामले में शिकायतकर्ता के खिलाफ केस दर्ज करने की धमकी दी थी। चावड़ा ने कहा कि शिकायतकर्ता ने 'प्रसाद' के लिए उनके अनुरोध को गलत समझा और उन्हें एक बॉक्स में पैसे दिए। चावड़ा ने आगे दावा किया कि उन्होंने बॉक्स को स्वीकार कर लिया क्योंकि उन्हें एहसास नहीं था कि इसमें पैसे हैं।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर