गला घोंटकर नाबालिग बेटी को उतारा मौत के घाट, दूसरी जाति के लड़के के साथ रहने का था संदेह

क्राइम
Updated Sep 28, 2019 | 15:58 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

एक पिता ने अपनी 17 साल की बेटी को दूसरी जाति के लड़के के साथ रहने के संदेह में गला दबाकर मौत के घाट उतार दिया।

Crime
प्रतीकात्मक तस्वीर 

नई दिल्ली: ओडिशा के गंजम जिले में हत्या के एक मामले में 43 वर्षीय एक व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया गया जिस पर अपनी 17 वर्षीय बेटी को गला दबाकर मौत के घाट उतारने के आरोप लगा है। ओडिशा पुलिस को 19 सितंबर को सोरड़ा पुलिस थाना क्षेत्र के अंतर्गत गुंडुरिबाडी गांव के पास पीड़िता का शव मिला है।

लड़की 25 अगस्त को गुंडूरीबाड़ी गांव से लापता हो गई थी और उसके पिता ने सोचा कि वह दूसरी जाति के लड़के के साथ रहती है। जब लड़की 15 सितंबर को वापस लौटी, तो उसके पिता ने उसे घर में नहीं घुसने दिया। जिसके बाद वह पड़ोस के गांव में अपने चाचा के यहां चली गई। लड़की के चाचा ने उसके पिता को बुलाया और 18 सितंबर को मामले को सुलझाने की कोशिश की।

लड़की के पिता और चाचा ने उसे बार-बार उस व्यक्ति के बारे में बताने के लिए कहा, जिसने साथ वह रह रही थी। लेकिन उसने कुछ भी बताने से इनकार कर दिया। चाचा की ओर से बहुत समझाने के बाद लड़की के पिता उसे वापस घर ले जाने के लिए सहमत हुए।

घर लौटते समय लड़की और पिता के बीच बहस हो गई और फिर पिता ने उसकी पिटाई कर दी और साथ ही गला दबाकर लड़की को मौत के घाट उतार दिया। हत्या के बाद आरोपी ने शव को राष्ट्रीय राजमार्ग 59 पर झाड़ी में फेंक दिया। पिता की ओर से गुमशुदगी की शिकायत दर्ज नहीं कराने पर पुलिस को उस पर शक हुआ लेकिन शव की पहचान होने के बाद उसने प्राथमिकी दर्ज कराई कि लड़की को अज्ञात लोगों ने मार डाला।

पुलिस की ओर से कड़ी पूछताछ किए जाने के बाद आरोपी ने अपना अपराध कबूल लिया। आरोपी ने बताया कि उसने गला घोंट कर लड़की की हत्या कर दी क्योंकि वह कुछ दिनों से घर से दूर थी। पिता ने सोचा कि वह एक अलग जाति के लड़के के साथ रहती है। बीते मंगलवार को आरोपी पिता को गिरफ्तार कर लिया गया।

अगली खबर