राजस्थान एसआई एग्जाम में खेल करने वाले गिरोह का भंडाफोड़, डमी कैंडिडेट का होता था इस्तेमाल

क्राइम
भंवर पुष्पेंद्र
Updated Sep 17, 2021 | 18:44 IST

राजस्थान पुलिस ने एक ऐसे गिरोह का भंडाफोड़ किया है जो एसआई एग्जाम में डमी कैंडिडेट के जरिए अपना रैकेट चलाता था। उस गिरोह के 6 लोग पुलिस की गिरफ्त में हैं।

Rajasthan SI Exam, Rajasthan Police, Dummy Candidate in SI Exam
राजस्थान एसआई एग्जाम में खेल करने वाले गिरोह का भंडाफोड़, डमी कैंडिडेट का होता था इस्तेमाल 

मुख्य बातें

  • राजस्थान एसआई एग्जाम में खेल करने वाले गिरोह का भंडाफोड़
  • डमी कैंडिडेट के जरिए गिरोह करता था फर्जीवाड़ा
  • करौली, सावईमाधोपुर, दौसा, धौलपुर के अभ्यर्थियों से सम्पर्क में रहता था गिरोह

राजस्थान सब- इन्सपेक्टर परीक्षा में नकल करवाने और डमी से परीक्षा दिलावाने वाले हाई प्रोफाइल गिरोह का पर्दाफाश हुआ है ।राजस्थान पुलिस ने दो डमी परीक्षार्थी सहित 6 लोगों को गिरफ्तार किया है । इस गोरोह का सरगना सरकारी स्कूल का व्याख्याता है । पुलिस के मुताबिक सरगना नेतराम मीणा सवाईमाधोपुर जिले के खंडार स्कूल में व्याख्याता के पद पर कार्यरत है । यह व्यक्ति करौली, सावईमाधोपुर, दौसा, धौलपुर के अभ्यर्थियों से सम्पर्क कर उनकी जगह फर्जी परीक्षार्थी बिठाता था ।

राजस्थान एसआई एग्जाम में डमी कैंडिडेट के जरिए खेल
गिरोह अपने सहयोगियों की मदद से उनके फोटो और आधार कार्ड को तकनीक के माध्यम से काट छांट कर डमी अभ्यर्थियों की फोटो लगाकर उन्हें परीक्षा में बिठाता था । जिसकी एवज में उनसे 18 से 20  लाख रुपए की राशि वसूल करता था ।जिसमें से पांच लाख रुपए डमी परीक्षार्थी को 5 लाख रुपए मध्यस्थ को देता और 10 से 12 लाख रुपए खुद रखता था ।

गिरोह इस तरह करता था काम
डमी परीक्षार्थी के पेपर देने के बाद पेपरबुक और ओएमआर सीट मध्यस्थ के माध्यम से मुख्य सरगना नेतराम तक पहुंचाई जाती थी ।नेतराम इस पेपरबुक और ओएमआर ळीट को मूल अभ्यर्थी को दे देता था। आन्सर सीट मिलान होने के बाद मूल अभ्यर्थी उसे राशि का भुतान करता था । पुलिस ने कार्रवाई करते हुए नेतराम, उसके सहयोगी केदार मीणा,भभूताराम,भंवर लाल,महादेव और पुष्पेन्द्र मीणा को गिरफ्तार किया है । पुलिस फिलहाल नसे पूछताछ कर रेकिट के तारों को जोड़ने का प्रयास कर रही है । 

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर