फेसबुक पर दोस्‍ती, फिर शादी का झांसा देकर फंसाया, पुलिस ने ऐसे सुलझाई अपहरण केस की गुत्‍थी

क्राइम
Updated Dec 12, 2020 | 22:39 IST | भाषा

नाबालिग लड़की का पता लगाने के लिए पुलिस ने 300 से अधिक ऑटो रिक्शा चालकों से पूछताछ की और 50 से अधिक सीसीटीवी कैमरों की पड़ताल की। बदरपुर बॉर्डर क्षेत्र में घर-घर पूछताछ भी की गई।

फेसबुक पर दोस्‍ती, फिर शादी का झांसा देकर फंसाया, पुलिस ने ऐसे सुलझाई अपहरण केस की गुत्‍थी
फेसबुक पर दोस्‍ती, फिर शादी का झांसा देकर फंसाया, पुलिस ने ऐसे सुलझाई अपहरण केस की गुत्‍थी  |  तस्वीर साभार: Representative Image

नई दिल्ली : फेसबुक पर एक नाबालिग लड़की से दोस्ती करने के बाद उसका अपहरण करने के आरोप में कालेज में पढ़ने वाले 18 वर्षीय एक छात्र को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने शनिवार को बताया कि शोएब खान ने लड़की को शादी का झांसा देकर फंसाया और उसे उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ स्थित अपने दोस्त के घर तथा बिहार में मुजफ्फरनगर ले गया। बाद में आरोपी ने लड़की को बदरपुर बॉर्डर पर एक ऑटो रिक्शा में बिठा कर छोड़ दिया।

उन्होंने कहा कि खान राजस्थान के अलवर का रहने वाला है और वहां एक कालेज में बी फार्मा का छात्र है। उन्होंने कहा कि आरोपी को नौ दिसंबर को बदरपुर बॉर्डर से गिरफ्तार किया गया और लड़की को बचाया गया। पुलिस ने कहा कि लड़की के पिता द्वारा 23 अक्टूबर को दर्ज कराई गई शिकायत के आधार पर मामले की जांच शुरू की गई। उन्होंने कहा कि पिता द्वारा दर्ज कराई गई शिकायत के अनुसार उनकी 15 वर्षीय बेटी को अज्ञात लोगों ने अगवा कर लिया था।

50 से अधिक सीसीटीवी फुटेज खंगाले गए

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि उसी दिन राजौरी गार्डन पुलिस थाने में अपहरण का एक मामला दर्ज किया गया और जांच शुरू कर दी गई। उन्होंने कहा कि जांच के दौरान लड़की के कॉल विवरण तथा सोशल मीडिया खातों की पड़ताल की गई। पुलिस उपायुक्त (पश्चिम) दीपक पुरोहित ने बताया कि जांच में पुलिस को खान का फेसबुक खाता मिला और हरियाणा के मेवात में उसके होने का पता चला। उन्होंने कहा कि जब पुलिस के एक दल ने मेवात के गोविंद गढ़ गांव में छापा मारा तो आरोपी वहां नहीं मिला।

उन्होंने कहा कि आरोपी और लड़की का पता लगाने के लिए दिल्ली पुलिस के हेड कांस्टेबल शौकत अली ने स्थानीय व्यक्ति का रूप धर कर जांच शुरू की। उन्होंने कहा कि अन्य स्थानों पर भी छापेमारी की गई और 50 से अधिक सीसीटीवी फुटेज खंगाले गए। अंततः पुलिस के दल को बदरपुर क्षेत्र से आरोपी को पकड़ने में कामयाबी मिली। पूछताछ के दौरान खान के कहा कि फेसबुक पर उसके 4,845 दोस्त हैं।

300 से अधिक ऑटो रिक्शा चालकों से पूछताछ

खान ने कहा कि उसने पीड़िता को फेसबुक पर मित्रता निवेदन भेजा था जो उसने पिछले साल पांच जुलाई को स्वीकार किया जिसके बाद वह अच्छे मित्र बन गए।
आरोपी ने पुलिस को यह भी बताया कि उसने धीरे-धीरे लड़की को फंसाना शुरू कर दिया और उसके सामने शादी का प्रस्ताव रखा। पुलिस ने कहा कि इस साल 22 अक्टूबर को खान दिल्ली आया और लड़की पर शादी का दबाव बनाने लगा। वह उसे मुजफ्फरपुर ले गया और एक दिन के लिए अपने दोस्त के घर पर रुका।

डीसीपी ने कहा कि अगले दिन दोनों आजमगढ़ चले गए जहां वह आरोपी के एक अन्य दोस्त के घर पर रुके। अधिकारी ने कहा कि 26 अक्टूबर को खान लड़की के साथ आजमगढ़ से निकला और ओल्ड फरीदाबाद मेट्रो स्टेशन पहुंचा जहां उसने बदरपुर बॉर्डर पर एक ऑटो रिक्शा में पीड़िता को बिठाया और खुद फरार हो गया। उन्होंने कहा, 'लड़की का पता लगाने के लिए 300 से अधिक ऑटो रिक्शा चालकों से पूछताछ की गई। सीसीटीवी कैमरों की पड़ताल की गई और बदरपुर बॉर्डर क्षेत्र में घर-घर पूछताछ की गई।'

अधिकारी ने कहा, 'अंततः उस ऑटो रिक्शा चालक ने लड़की को पहचाना जिसने उसे 26 अक्टूबर को एक घर पर छोड़ा था। इसके बाद लड़की को बचा लिया गया।' उन्होंने कहा कि आरोपी को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर