Cheating in UAE: यूएई के व्यापारियों से करोड़ों की ठगी कर एक भारतीय 'वंदे भारत फ्लाइट' से पहुंचा इंडिया

An Indian Businessman Cheat From UAE traders: कोरोना संकट के बीच एक भारतीय व्यापारी ने यूएई के व्यापारियों को 6.15 करोड़ रुपये का चूना लगाया और फिर वंदे भारत की उड़ान से वापस हैदराबाद पहुंच गया।

Fraud Representational Image
जालसाज रॉयल लक फूडस्टफ ट्रेडिंग का मालिक है 

मुख्य बातें

  • संयुक्त अरब अमीरात के कुछ व्यापारियों के साथ धोखाधड़ी का मामला आया सामने
  • एक भारतीय व्यापारी ने कथित तौर पर वहां के कई व्यापारियों को धोखा दिया
  • भारतीय व्यापारी योगेश अशोक वारियावा 'वंदे भारत मिशन' की फ्लाइट से इंडिया भाग आया

हैदराबाद: जहां लोग कोरोना महामारी के कारण पीड़ित हैं, वहीं कुछ लोग इस स्थिति में भी अपराध करने से बाज नहीं आ रहे हैं, एक चौंकाने वाले मामले में एक 36 साल के एक भारतीय व्यापारी ने कथित तौर पर संयुक्त अरब अमीरात (UAE) में कई व्यापारियों को धोखा दिया और महामारी के बीच विदेशी धरती पर फंसे भारतीयों को वापस लाने के लिए 'वंदे भारत मिशन' (Vande Bharat Mission) के तहत भारत सरकार द्वारा आयोजित एक उड़ान से वापस भारत के हैदराबाद भाग गया।

जालसाजी के आरोपी का नाम योगेश अशोक वारियावा है और वो वंदे भारत अभियान के तहत भारतीयों को लेने गए विमान से अबूधाबी से हैदराबाद के लिए रवाना हुआ। मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक जालसाज रॉयल लक फूडस्टफ ट्रेडिंग का मालिक है।

चेक बाउंस हुए तब व्यापारियों को धोखाधड़ी का एहसास हुआ

धोखेबाज रॉयल लक फूडस्टफ ट्रेडिंग के मालिक योगेश ने व्यापारियों को पोस्ट डेटेड चेक देकर करीब 60 लाख दिरहम (16 लाख डॉलर) की खरीददारी की और फिर भारत भाग आया, खरीदे गए सामान में सैनेटाइजर,मास्क,चावल और पिस्ता व केसर आदि शामिल बताया जा रहा है।

हालांकि बाद में चेक बाउंस हो गए जब व्यापारियों ने उन्हें जमा किया, फिर वो वरियावा के रॉयल लक फूडस्टाफ ट्रेडिंग कार्यालय गए, तो वह पहले ही एक प्रत्यावर्तन उड़ान पर संयुक्त अरब अमीरात से भारत भाग गया था।

तेलंगाना पुलिस को UAE से इस ठगी के बारे में ई-मेल मिला 

उन व्यापारियों ने स्थानीय पुलिस से संपर्क किया और वरियावा के खिलाफ शिकायत दर्ज की। एक फोन कॉल पर द टाइम्स ऑफ इंडिया से बात करते हुए, अधिवक्ता सलाम पाप्पिनसेरी, जो पीड़ित व्यापारियों का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं, ने कहा कि उन्होंने तेलंगाना पुलिस को एक ईमेल भेजा है। ईमेल में, वरियावा ने कई व्यापारियों को कैसे धोखा दिया है, इसका विवरण दिया गया है। पीड़ित व्यापारी यूएई के साथ-साथ भारत में भी उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की योजना बना रहे हैं।

अब तक, वरियावा के ठिकाने के बारे में कोई जानकारी नहीं है। कुछ साल पहले, उन्होंने खाड़ी देश में एक व्यवसाय स्थापित किया था। यह अभी भी अज्ञात है कि वह वंदे भारत की उड़ान में कैसे सफर करने में कामयाब रहा क्योंकि यह सेवा मुख्य रूप से फंसे हुए भारतीय नागरिकों के लिए है।


 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर