पिता के फोन से 16 साल के बेटे ने शेयर किया बाल यौन वीडियो, पुलिस ने दोनों को किया गिफ्तार

Son Upload Child Obsence with Father's Phone: एक नाबालिग लड़के ने अपने पिता के फोन का इस्तेमाल करते हुए सोशल मीडिया अकाउंट पर बाल यौन कंटेंट शेयर कर दिया।

Minor arrested for uploading child porn
चाइल्ड पोर्न अपलोड करने के लिए नाबालिग गिरफ्तार (प्रतीकात्मक तस्वीर) 

मुख्य बातें

  • घटना के बाद बाल यौन अपलोड किए जाने वाले फोन की तलाश में जुटी पुलिस की टीम
  • कई पुलिस स्टेशनों को किया गया अलर्ट, 16 साल का बच्चा निकला मुख्य आरोपी
  • पिता के फोन से अपने फेसबुक अकाउंट पर शेयर कर दिया बाल अश्लील कंटेंट

तंजावुर: तमिलनाडु राज्य के तंजावुर शहर में कथित तौर पर बाल अश्लील (चाइल्ड पोर्न) सोशल मीडिया पर अपलोड करने को लेकर एक शख्स और उसका नाबालिग लड़के को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। बीते बुधवार रात को यह घटना सामने आई है। पुलिस का कहना है कि मामले में 16 साल का नाबालिग मुख्य आरोपी है। हाल ही में लड़के ने 11वीं कक्षा की परीक्षाएं दी थीं।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, अश्लील कंटेंट अपलोड होने के बाद पुलिस ने फोन को ट्रैक करने के लिए एक टीम बनाई। पुलिस सूत्रों का हवाला देते हुए रिपोर्ट में कहा गया कि सभी महिला पुलिस स्टेशन के अधिकारियों की टीम ने आरोपियों पर नज़र रखने के लिए पापनासम के पुलिस उपाधीक्षक (डीएसपी) के साथ एक संयुक्त अभियान चलाया।

पुलिस ने मामले में अधिक विवरण निकालने के लिए सोशल मीडिया सेल की मदद भी ली। बाद में, यह पता चला कि नाबालिग लड़के के फेसबुक अकाउंट से अश्लील कंटेंट अपलोड किया गया है। लड़के ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट को एक्सेस करने के लिए पिता के मोबाइल फोन का इस्तेमाल किया। जांच के बाद, पापनासम पुलिस ने किशोर को गिरफ्तार किया और उसे यौन अपराधों से बच्चों के संरक्षण (POCSO) अधिनियम और सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम के तहत आरोपित किया। साथ ही पिता को भी गिरफ्तार किया गया।

बाल अश्लील कंटेंटअपलोड करने में दिल्ली शीर्ष पर
इस साल जनवरी में, एक अमेरिकी गैर-सरकारी संगठन (एनजीओ) ने खुलासा किया था कि संदिग्ध बाल पोर्नोग्राफी के 25,000 मामले केवल पांच महीनों में भारत के विभिन्न सोशल मीडिया साइटों पर अपलोड किए गए। डेटा को नेशनल सेंटर ऑन मिसिंग एंड एक्सप्लॉइड चिल्ड्रेन (NCMEC) ने भारत सरकार की एजेंसी नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो (NCRB) के साथ साझा किया था। इसमें भी दिल्ली से सबसे ज्यादा मामले देखे गए थे।

अगली खबर