1 साल तक लगातार नाबालिग से किया रेप, अस्पताल में इलाज के दौरान हुई पीड़िता की मौत

अनाथालय में 1 साल तक लगातार बलात्कार का दंश झेल रही 14 साल की नाबालिग बच्ची अस्पताल में इलाज के दौरान आखिरकार जिंदगी की जंग हार गई।

minor rape
नाबालिग रेप पीड़िता की अस्पताल में इलाज के दौरान मौत  |  तस्वीर साभार: Representative Image

हैदराबाद : तेलंगाना में अमीनपुर के अनाथालय में कथित रूप से बार-बार बलात्कार झेलने वाली 14 साल की बच्ची की बुधवार को सरकारी अस्पताल में मौत हो गई। पुलिस अधिकारी ने बताया कि बच्ची को पांच दिन पहले अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उसकी हालत में कोई सुधार नहीं हुआ और आज सुबह उसकी मौत हो गई।

इस महीने की शुरुआत में बच्ची की शिकायत के आधार पर उसके साथ करीब एक साल तक बलात्कार करने वाले 51 वर्षीय एक व्यक्ति, महिला प्रभारी और उसके भाई को गिरफ्तार किया गया है।

लगभग 1 साल तक बलात्कार का दंश झेलने के बाद अनाथालय में रहने वाली 14 वर्षीय लड़की की अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई। अमीनपुर स्थित अनाथालय में एक व्यक्ति ने एक साल तक उसे जूस में नशीला पदार्थ मिलाकर पिलाया और उससे बलात्कार करता रहा। हैदराबाद के नीलोफर अस्पताल में इलाज के दौरान बुधवार को उसकी मौत हो गई।

इस मामले में आरोपी बलात्कारी, अनाथालय चलाने वाली प्रभारी महिला और एक अन्य शख्स को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस के मुताबिक अनाथालय में डोनर वेणु गोपाल लगातार उस बच्ची का रेप कर रहा था जिसके बाद पीड़िता को कई स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां होने लगी थी। वह अनाथालय में साल 2015 से रह रही थी।

उसके माता-पिता की मौत के बाद उसके चाचा ने उसे यहां रखवा दिया था। लॉकडाउन के दौरान वह अपने कजिन के यहां चली आई थी जहां पर वह कुछ दिनों से काफी शांत-शांत रह रही थी और उसे चलने में भी काफी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा था।

उसके रिश्तेदारों ने शुरू-शुरू में उसे डांटा कि वह इस तरह शांत शांत क्यों रह रही है। जब उन्हें कोई सुधार नहीं दिखा तो वे उसे डॉक्टर के पास लेकर गए जहां उसे बताया गया कि उस बच्ची का कई बार बलात्कार किया गया है। इसके बाद परिजन पुलिस के पास गए जहां पर आईपीसी की और पॉक्सो एक्ट की संबंधित धाराओं के तहत बलात्कार का केस दर्ज कर लिया गया। 31 जुलाई को ये केस अमीनपुर थाने ट्रांसफर कर दिया गया।

पुलिस ने बाद में वेणु गोपाल को, अनाथालय चलाने वाली महिला विजया और उसके भाई जयदीप को गिरफ्तार कर लिया। बच्ची के परिजन वित्तीय रुप से कमजोर थे इसी वजह से उन्होंने उसे जुवेनाइल होम फॉर गर्ल्स में रखवा दिया था। वे बच्ची को इलाज के लिए अस्पताल ले गए जहां पर उसे आईसीयू में भर्ती कराया गया। 8 अगस्त को बच्ची की हालत काफी खराब हो गई जिसके बाद उसे वेंटीलेटर पर रखा गया।

Telangana State Commission for Protection of Child Rights की सदस्य बी अपर्णा ने बताया कि अनाथालय की दूसरी लड़कियों को दूसरे हॉस्टल में शिफ्ट करवा दिया गया है। पीड़िता के शव को पोस्टमार्टम के बाद उसके परिजनों को सौंप दिया गया है।  


 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर