क्या होता अगर विश्व कप फाइनल में दोनों टीमों की बाउंड्री की गिनती भी बराबर होती?

क्रिकेट
Updated Jul 17, 2019 | 21:24 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

एक दिलचस्प सवाल यह है कि क्या होता अगर सुपर ओवर में टाई होने के बाद दोनों टीमों की बाउंड्री की गिनती भी बराबर होती? आइए जानते हैं कि उन हालातों में कौन विजेता बनता और आईसीसी के नियम क्या कहते हैं।

England Cricket Team
इंग्लैंड क्रिकेट टीम  |  तस्वीर साभार: AP

नई दिल्ली : इंग्लैंड ने भले ही ICC विश्व कप 2019 के फाइनल में जीत हासिल कर ली हो, लेकिन लॉर्ड्स में खेले गए फाइनल को कई कारणों से लंबे समय तक याद रखा जाएगा। ये फाइनल इतना रोमांचक था कि 102 ओवरों की क्रिकेट के बाद भी क्रिकेट प्रेमियों को ये नहीं पता था कि दोनों टीमों में से कौन विजेता होगा। इस मैच में एक बड़ी विवादास्पद घटना भी देखने को मिली, जहां अंपायरों ने अंतिम ओवर में बेन स्टोक्स को ओवर-थ्रो के 6 रन दे दिए, मार्टिन गुप्टिल ने डीप-मिडविकेट से थ्रो किया और वो थ्रो बाएं हाथ के बल्लेबाज स्टोक्स के बल्ले से छूकर बाउंड्री के पार चला गया और अंपायर्स ने इंग्लैंड को 6 रन दे दिए।

यह विश्व कप फाइनल इतिहास के पन्नों में दर्ज हो गया क्योंकि ये शायद पहला ऐसा फाइनल था जो 100 ओवरों में टाई होने के बाद,सुपर ओवर में भी टाई हो गया और उसके बाद इंग्लैंड को ज्यादा बाउंड्री मारने के चलते विजेता घोषित कर दिया गया। सुपर ओवर में भी रोमांच अपनी चरम सीमा पर था अगर आखिरी गेंद पर गुप्टिल रन आउट ना होते, तो आज न्यूजीलैंड की टीम विश्व चैंपियन होती। बाउंड्री के आधार पर इंग्लैंड को विश्व चैंपियन घोषित करना कई दिग्गज खिलाड़ियों की समझ में नहीं आ रहा है।

लेकिन, ICC की नियम पुस्तिका के मुताबिक इंग्लैंड को ही विश्व विजेता घोषित किया गया क्योंकि उन्होंने सुपर ओवर और अपनी पारी में कीवी टीम के मुकाबले ज्यादा बाउंड्री हिट की थी। ICC का ये नियम अभी भी सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बना हुआ है, एक दिलचस्प सवाल यह है कि क्या होता अगर सुपर ओवर में टाई होने के बाद दोनों टीमों की बाउंड्री की गिनती भी बराबर होती? आइए जानते हैं कि उन हालातों में कौन विजेता बनता और आईसीसी के नियम क्या कहते हैं:

1. यदि सुपर ओवर भी टाई होता है, तो 50 ओवरों के साथ-साथ सुपर ओवर में दोनों टीमों में से जिस टीम ने ज्यादा बाउंड्री लगाई होती हैं,उस टीम को विजेता घोषित किया जाता है। विश्व कप के फाइनल में भी यही हुआ क्योंकि इंग्लैंड ने न्यूजीलैंड से ज्यादा बाउंड्री लगाई थी। इस आधार पर इंग्लैंड को विजेता घोषित किया गया।

2. अगर दोनों टीमों द्वारा लगाई गई बाउंड्री की संख्या भी बराबर रह जाएं, तो उस स्थिति में, दोनों टीमों (सुपर ओवर को छोड़कर) द्वारा खेले गए 50 ओवरों में ज्यादा बाउंड्री लगाने वाली टीम को विजेता घोषित किया जाएगा।

3. अगर एक दुर्लभ परिस्थिति में भी देखा जाए, तो उपरोक्त दो समीकरणों को लागू करने के बाद भी अगर बाउंड्री की गिनती बराबर रहती है, उस स्थिति में, वापिस से सुपर ओवर के समीकरण को देखा जाएगा कि दोनों टीमों द्वारा सुपर ओवर की अंतिम गेंद पर किस टीम ने ज्यादा रन बनाए हैं। जिस टीम ने ज्यादा रन बनाए होंगे, उस टीम को विजेता घोषित कर दिया जाएगा।

उदाहरण के लिए, यदि दोनों टीमों ने सुपर ओवर में छह गेंदों का सामना किया, जहां एक टीम ने अंतिम गेंद पर चार रन बनाए और दूसरी टीम ने अपनी अंतिम गेंद पर छह रन बनाए, तो दूसरी टीम विजेता होगी। मतलब ये है कि बाउंड्री भी बराबर होने पर दोनों टीमों द्वारा खेली गई सुपर ओवर की आखिरी गेंद को ध्यान में रखा जाता है। यदि किसी टीम ने सुपर ओवर में 2 विकेट गंवाए और सुपर ओवर में सिर्फ 4 गेंदों का सामना किया हो, ऐसे में जो टीम अपनी अंतिम गेंद पर अधिक रन बनाती है, वो विजेता होगी।

विश्व कप 2019 के फाइनल के बाद से सोशल मीडिया पर आईसीसी को ट्रोल किया जा रहा है और अब हो सकता है कि आने वाले समय में आईसीसी अपने नियमों में बदलाव करे।

क्रिकेट/खेल की खबरें SPORTS/ CRICKET NEWS IN HINDI पर पढ़ें,  देश भर की अन्य खबरों के ल‍िए बने रह‍िए TIMES NOW HINDI के साथ। देश और दुन‍िया की सभी खबरों की ताजा अपडेट के ल‍िए जुड़िए हमारे FACEBOOK पेज से।

Cricket News (क्रिकेट न्यूज़) Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Now Navbharat पर। और साथ ही IPL News in Hindi (आईपीएल न्यूज़) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर