कप्तान रहाणे ने नवदीप सैनी से पूछा, चोट में गेंदबाजी कर सकोगे, तो मिला ये जवाब... 

क्रिकेट
भाषा
Updated Jan 23, 2021 | 17:59 IST

ब्रिस्बेन टेस्ट के दौरान चोटिल होने वाले तेज गेंदबाज नवदीप सैनी से जब कप्तान अजिंक्य रहाणे ने पूछा था कि क्या चोट में गेंदबाजी कर पाओगे तो मिला था ये जवाब।

Navdeep Saini
नवदीप सैनी  |  तस्वीर साभार: AP

मुख्य बातें

  • ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ब्रिस्बेन टेस्ट की पहली पारी में 7.5 ओवर गेंदबाजी करने के बाद चोटिल हो गए थे सैनी
  • दूसरी पारी में गेंदबाजी कर पाने के बारे में अजिंक्य रहाणे ने कप्तान रहाणे ने की थी उनसे चर्चा
  • ऐसे में चोटिल होने के बावजूद सैनी ने दूसरी पारी में डाले थे पांच ओवर

नई दिल्ली: ग्रोइन की चोट के कारण नवदीप सैनी ब्रिसबेन टेस्ट में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं कर सके लेकिन इतने बड़े मौके पर फिर खेलने का मौका नहीं मिल पाने के डर से उन्होंने कप्तान के पूछने पर चोट के बावजूद पांच ओवर डाले। 

बरसों इंतजार के बाद ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण करने वाले 28 वर्ष के सैनी ने कहा, 'अजिंक्य भैया ने पूछने पूछा कि क्या मैं चोट के बावजूद गेंदबाजी कर सकता हूं , मुझे तो हां कहना ही था।'

पहली पारी में कर सके 7.5 ओवर गेंदबाजी
रिषभ पंत ने जब गाबा में विजयी रन बनाये तो दूसरे छोर पर सैनी थे। सिडनी में अपने पहले टेस्ट में चार विकेट लेने के बाद सैनी को गाबा पर ऑस्ट्रेलिया की पहली पारी में चोट लगी और वह 7.5 ओवर ही डाल सके। भारतीय टीम इससे पहले ही खिलाड़ियों की फिटनेस समस्या से परेशान थी।

सैनी ने कहा, 'मैं ठीक था लेकिन अचानक चोट लग गई। मैने सोचा कि इतने अहम मैच में चोट क्यों लगी जब मुझे इतने साल बाद खेलने का मौका मिला था।' उन्होंने कहा, 'मैं बस यही चाहता था कि चोट के बावजूद खेल सकूं। इस तरह का मौका शायद दोबारा कभी ना मिले। कप्तान ने पूछा कि क्या मैं खेल सकूंगा। मुझे दर्द था लेकिन मैने कहा कि मैं जो कर सकूंगा, करूंगा।' सैनी ने कहा, 'अब मैं ठीक हो रहा हूं और जल्दी ही फिट हो जाऊंगा।'

इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज के लिए नहीं मिली है टीम में जगह 
अब तक दस टी20 और सात वनडे खेल चुके सैनी इंग्लैंड के खिलाफ पांच फरवरी से शुरू हो रही टेस्ट श्रृंखला के पहले दो मैचों के लिये भारतीय टीम में नहीं हैं। अपने चार टेस्ट विकेटों में से सबसे कीमती के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा, 'सभी विकेट खास हैं लेकिन पहला विकेट कभी नहीं भूल सकते। जब तक वह नहीं मिल जाता, आप पहले विकेट के बारे में ही सोचते रहते हैं।'

ऑस्ट्रेलिया में पहली बार टेस्ट खेलने को यादगार अनुभव बताते हुए उन्होंने कहा, 'ऑस्ट्रेलियाई पिचों पर मिलने वाले उछाल से रोमांचित होना स्वाभाविक है। ऐसे में शॉर्ट गेंद डालने का लालच आता है लेकिन टेस्ट क्रिकेट सिर्फ इतना ही नहीं है। इसमें संयम रखकर लगातार अच्छा प्रदर्शन करना होता है।'

रणजी ट्रॉफी की तरह गेंदबाजी के लिए कहा 
उन्होंने कहा, 'ऑस्ट्रेलिया में अच्छे प्रदर्शन के लिये मानसिक रूप से दृढ होना जरूरी है। वे अंत तक हार नहीं मानते। भारतीय टीम प्रबंधन काफी सहयोगी था जिसमें कप्तान और रोहित भैया शामिल थे। उन्होंने कहा कि वैसे ही गेंदबाजी करूं, जैसी रणजी ट्रॉफी में करता हूं।'

मोहम्मद सिराज से तालमेल के बारे में उन्होंने कहा, 'वह मेरे सबसे घनिष्ठ दोस्तों में से है। हमने भारत ए के लिये काफी क्रिकेट साथ खेला है। हम गेंदबाजी के बारे में काफी बात करते हैं। वह पहले मैच में मेरी काफी मदद कर रहा था। उसने अपने पिता के निधन के बाद रूककर दिखाया कि वह कितना मजबूत है। उसकी उपलब्धि टीम के लिये काफी अहम है।'


 

Cricket News (क्रिकेट न्यूज़) Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। और साथ ही IPL News in Hindi (आईपीएल न्यूज़) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर