एमएस धोनी की रिटायरमेंट को लेकर चल रही अटकलों के बीच सहवाग ने तोड़ी चुप्पी

क्रिकेट
Updated Jul 18, 2019 | 19:24 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

ICC विश्व कप 2019 के सेमीफाइनल में न्यूज़ीलैंड से हारने के तुरंत बाद, भारतीय क्रिकेट प्रशंसकों के मन में एक ही सवाल था कि क्या अब पूर्व भारतीय कप्तान एमएस धोनी क्रिकेट से संन्यास ले लेंगे?

Virender Sehwag
वीरेंद्र सहवाग (फाइल फोटो)  |  तस्वीर साभार: AP
मुख्य बातें
  • धोनी की रिटायरमेंट को लेकर अटकलें तेज हो गई हैं
  • सहवाग ने माही की रिटायरमेंट को लेकर चुप्पी तोड़ी है
  • 19 जुलाई को वेस्टइंडीज दौरे के लिए टीम का चयन होना है

नई दिल्ली : ICC विश्व कप 2019 के सेमीफाइनल में न्यूज़ीलैंड से हारने के तुरंत बाद, भारतीय क्रिकेट प्रशंसकों के मन में एक ही सवाल था कि क्या अब पूर्व भारतीय कप्तान एमएस धोनी क्रिकेट से संन्यास ले लेंगे? ऐसा माना जा रहा है कि संभवत: ये विश्व कप उनका आखिरी विश्व कप था। ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं कि उन्होंने नीली जर्सी में अपना आखिरी मैच भी खेल लिया है। हालांकि, अभी धोनी ने अपनी रिटायरमेंट को लेकर कोई खुलासा नहीं किया है। ऐसे में अब ये देखना होगा कि जब चयन समिति 19 जुलाई को वेस्टइंडीज के आगामी दौरे के लिए भारत की टीम की घोषणा करेगी, तो उसमें माही का नाम शामिल होता है या टीम इंडिया ने भी अब धोनी से आगे देखना शुरू कर दिया है।

पूर्व विशेषज्ञों ने इस पर अपने विचार साझा किए हैं कि क्या धोनी को खेल के सभी प्रारूपों से आखिरकार रिटायर होना चाहिए। धोनी के भविष्य के बारे में पूछे जाने पर, पूर्व भारतीय क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग, जिन्होंने धोनी की कप्तानी में खेला, ने कहा कि रांची के क्रिकेटर को अपनी रिटायरमेंट को लेकर फैसला खुद लेने का अधिकार है। नजफगढ़ के नवाब ने आगे कहा कि एमएसके प्रसाद को भविष्य के बारे में बात करने के लिए धोनी तक पहुंचना चाहिए, अगर वे उन्हें पहली पसंद के विकेटकीपर-बल्लेबाज के रूप में नहीं देख रहे हैं, तो उन्हें धोनी से बात करनी चाहिए।

सहवाग ने कहा, 'एमएस धोनी को यह तय करना चाहिए कि वह कब रिटायरमेंट लेंगे। चयनकर्ताओं का कर्तव्य धोनी तक पहुंचना है और उन्हें सूचित करना है कि वो अब धोनी को विकेटकीपर बल्लेबाज के रूप में पहली पसंद नहीं मान रहे हैं। काश, चयनकर्ताओं ने मुझसे मेरी योजनाओं के बारे में भी पूछा होता, तो मैं भी उन्हें सूचित कर सकता था कि मैं रिटायरमेंट लेना चाहता हूं।

सहवाग ने तत्कालीन मुख्य चयनकर्ता संदीप पाटिल पर एक अप्रत्यक्ष रूप से कटाक्ष किया, जिसके जवाब में पाटिल ने कहा, 'सचिन से उनके भविष्य के बारे में बात करने की जिम्मेदारी मुझे और राजिंदर सिंह हंस को दी गई थी जबकि वही जिम्मेदारी सहवाग के लिए विक्रम राठौर को दी गई थी। हमने उनसे पूछा था और उन्होंने कहा कि उन्होंने सहवाग के साथ बात की थी। लेकिन अगर सहवाग कह रहे हैं कि विक्रम ने उनसे बात नहीं की, तो मैं उसकी जिम्मेदारी लेना चाहूंगा।'

सहवाग, जो अपने मन की बात कहने में कभी नहीं हिचकिचाते, ने तुरंत जवाब दिया, 'विक्रम राठौर ने मुझसे बात, तब की जब मैं टीम से बाहर निकाला जा चुका था। इससे पहले अगर वह मुझसे बात करते तो समझ में आता। एक क्रिकेटर से एक बार बात करने के बाद उसे छोड़ दिया जाता है। अगर एमएसके प्रसाद धोनी को ड्रॉप करने के बाद उनसे बात करते हैं, तो धोनी क्या कहेंगे कि वह प्रथम श्रेणी क्रिकेट खेलेंगे और वो रन बनाएंगे। उसके बाद फिर से धोनी को चुना जाना चाहिए। मुद्दा यह है कि चयनकर्ताओं को खिलाड़ियों तक ड्रॉप होने से पहले पहुंचना चाहिए।'

क्रिकेट/खेल की खबरें SPORTS/ CRICKET NEWS IN HINDI पर पढ़ें,  देश भर की अन्य खबरों के ल‍िए बने रह‍िए TIMES NOW HINDI के साथ। देश और दुन‍िया की सभी खबरों की ताजा अपडेट के ल‍िए जुड़िए हमारे FACEBOOK पेज से।

Cricket News (क्रिकेट न्यूज़) Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Now Navbharat पर। और साथ ही IPL News in Hindi (आईपीएल न्यूज़) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर