सुरेश रैना ने कहा, उनके पास है टीम इंडिया की इस समस्या का समाधान 

क्रिकेट
Updated Sep 27, 2019 | 14:54 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

Suresh Raina targets No four spot in Indian Cricket Team: धमाकेदार बल्लेबाज रहे सुरेश रैना ने कहा है कि वो टीम इंडिया की सबसे बड़ी समस्या का समाधन हो सकते हैं। जानिए रैना का क्या है टीम में वापसी का प्लान।

Suresh Raina
सुरेश रैना ( साभार BCCI)  |  तस्वीर साभार: Twitter

मुख्य बातें

  • साल 2018 से टीम इंडिया से बाहर हैं सुरेश रैना
  • 9 अगस्त को हुआ था घुटने का ऑपरेशन
  • नंबर चार के बल्लेबाज के रूप में करना चाहते हैं टी-20 टीम में वापसी

नई दिल्ली: भारतीय टीम से लंबे समय से बाहर चल रहे बांए हाथ के बल्लेबाज सुरेश रैना ने वापसी की आस नहीं छोड़ी है। उनका मानना है कि वो आगामी टी-20 विश्व कप से पहले लंबे समय से चली आ रही नंबर चार की समस्या का सबसे छोटे फॉर्मेट में समाधान हो सकते हैं। रैना साल 2018 में इंग्लैंड दौरे के बाद से टीम इंडिया की जर्सी में नजर नहीं आए हैं। लेकिन वो आगामी टी-20 विश्व कप से पहले राष्ट्रीय टीम में वापसी पर नजरें बनाए हुए हैं।

दो साल के अंतराल में दो टी-20 विश्व कप (2020, 2021) खेले जाने हैं और रैना की नजर इन टूर्नामेंट्स पर टिकी हुई है। 32 वर्षीय रैना ने इस बारे में कहा, मैं भारतीय टीम का नंबर चार खिलाड़ी बन सकता हूं। मैंने इस पोजीशन पर पहले भी बल्लेबाजी की है और सफल भी रहा हूं। ऐसे में मैं दो टी-20 विश्व कप से पहले मौके का इंतजार कर रहा हूं।'

भारतीय टीम की नंबर चार पोजीशन पिछले दो साल से लगातार चर्चा का विषय बनी हुई है। इस पोजीशन पर टीम मैनेजमेंट ने कुछ समय के लिए अंबाती रायुडू को परखा लेकिन विश्व कप 2019 से ठीक पहले विजय शंकर को नंबर चार बल्लेबाज के लिए टीम में शामिल कर लिया गया। लेकिन टूर्नामेंट के दौरान विजय शंकर के चोटिल होकर बाहर होने के बाद एक बार फिर रिषभ पंत को नंबर चार पर आजमाया गया लेकिन वो भी अपना जादू दिखाने में असफल रहे। इसलिए उनकी लगातार आलोचना हो रही है। पंत लगातार गैर जिम्मेदाराना तरीके के शॉट खेलकर अपना विकेट गंवा रहे हैं। 

रैना ने टीम इंडिया के लिए खेलते हुए वनडे में 5,615 रन और टी-20 में 1,605 रन बनाए हैं। कुछ लोगों का मानना है कि पंत कन्फ्यूज हैं और टीम मैनेजमेंट के लोगों को उनके साथ बैठकर टीम में उनकी भूमिका के बारे में बात करनी चाहिए। इस बारे में रैना ने कहा, वो कन्फ्यूज दिख रहे हैं और अपना नेचुरल गेम नहीं खेल रहे हैं। वो एक रन लेने की कोशिश करने के बजाए बड़े शॉट्स खेलना चाहते हैं। ऐसे में एमएस धोनी जैसे किसी सीनियर खिलाड़ी को उनके साथ बैठकर इस बारे में बात करनी चाहिए। 

रैना ने आगे कहा, क्रिकेट एक मानसिक खेल भी है और टीम को उनका नेचुरल गेम खेलने के लिए सपोर्ट करना चाहिए। अभी ऐसा लग रहा है कि वो लोगों के निर्देश के हिसाब से बल्लेबाजी कर रहे हैं और ऐसा करना उनके लिए कारगर नहीं रहा है। 

बांए हाथ के बल्लेबाज रैना को मैदान पर सबसे अधिक ऊर्जावान और चपल खिलाड़ियों में शामिल किया जाता है। वो एक शानदार विश्व स्तरीय फील्डर हैं। उन्होंने कहा कि धोनी के पास अभी भारतीय क्रिकेट को देने के लिए बहुत कुछ है। और वो अगले टी-20 विश्व कप में भी भारतीय टीम के लिए बहुमूल्य साबित हो सकते हैं। रैना ने कहा, वो फिट हैं,अभी भी शानदार विकेटकीपर हैं और एक बेहतरीन फिनिशर भी। वो आगामी विश्व कप में टीम के लिए एक महत्वपूर्ण साबित होंगे।'

रैना का 9 अगस्त को घुटने का ऑपरेशन हुआ था। इसके बाद वो चोट से उबर कर मैदान पर वापसी करने को पुरजोर कोशिश में जुटे हैं।  

अगली खबर