मार्क बाउचर ने जताई दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेट की बदहाली पर चिंता

क्रिकेट
Updated Nov 09, 2019 | 19:25 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

Mark Boucher is worried about bad state of south Africa: दक्षिण अफ्रीका के पूर्व दिग्गज विकेटकीपर बल्लेबाज मार्क बाउचर ने दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेट की बदहाली पर चिंता जताई है।

Mark Boucher
Mark Boucher  |  तस्वीर साभार: Twitter

जोहान्सबर्ग: दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेट टीम के लिए पिछले कुछ महीने मैदान और मैदान के बाहर अच्छे नहीं गुजरे हैं। इंग्लैंड की मेजबानी में खेले गए विश्व कप में टीम का प्रदर्शन बेहद निराशाजनक रहा। इसके बाद भारत दौरे पर भी उसका हाल टेस्ट सीरीज में बेहाल हो गया। हालांकि टी-20 सीरीज में वो टीम इंडिया की बराबरी करने में सफल रही। टेस्ट सीरीज के दौरान उनकी टीम का हाल खराब खेल और चोटों की वजह से बेहाल रहा। सभी मुकाबले एक तरफा समाप्त हुए और दक्षिण अफ्रीकी टीम कहीं भी भारतीय टीम की टक्कर देती नजर नहीं आई। सीरीज के दो मुकाबलों में उन्हें पारी के अंतर से हार का सामना करना पड़ा। 

मैदान के अंदर सब कुछ अच्छा नहीं चल रहा है तो बाहर भी हाल बेहाल है। दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेट बोर्ड और खिलाड़ियों के संघ एसएसीए के बीच कानूनी लड़ाई चल रही है। पिछले सप्ताह तीन सीनियर अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया। ऐसे में दक्षिण अफ्रीकी टीम के पूर्व दिग्गज खिलाड़ी मार्क बाउचर ने देश के क्रिकेट की बदहाल स्थिति पर चिंता जाहिर की है। लेकिन साथ ही उन्हें इस बात की आशा है कि स्थितियों में जल्दी सुधार आएगा। 

बाउचर ने कहा, बहुत कम लोग ही ऐसे होंगे जो दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेट की वास्तविक स्थिति को छिपाने की कोशिश कर रहे हैं। लेकिन हकीकत यह है कि हमने खुद को बेहद खराब स्थिति में ला खड़ा किया है। आशा करता हूं कि कुछ अच्छे और तेज दिमाग वाले लोग स्थिति को पूरी तरह बदलने में सफल होंगे।'

उन्होंने आगे कहा कि दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेट में बहुत सी नकारात्मक चीजें आ गई हैं। उनके सामने एमएसएल के दूसरे संस्करण में तश्वाने स्पार्टन टीम के कोच के रूप में चीजों को बदलने की बड़ी जिम्मेदारी है। पिछली बार इस टीम का प्रदर्शन एमएएसएल में अच्छा नहीं रहा था। इस बार उसका पहला मुकाबला शनिवार को डरबन हीट के खिलाफ किग्समीड मैदान पर होगा। 

बाउचर ने कहा कि एमएसएल से दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेट की परेशानियों का समाधान नहीं होगा। उनके यहां क्रिकेट में नकारात्मकता बहुत हावी हो गई है। टी-20 टूर्नामेंट में बहुत ज्यादा ध्यान देने की जरूरत नहीं हैं इसकी जगह बड़ी परेशानियों पर ध्यान देना चाहिए। उन्होंने कहा, नई टी-20 लीग का पिछले साल जितना ही सपोर्ट किया गया था उतना ही इस बार भी होना चाहिए। इसे जरूरत से ज्यादा तवज्जो नहीं देना चाहिए और ऐसा करते हुए सावधानी भी बरतनी चाहिए। वर्तमान में इससे बड़ी समस्याओं पर ध्यान देने की जरूरत है। अपने देश के क्रिकेट की बदहाली की खबरें सुनने और  पढ़ने में बुरा लगता है। 

Cricket News (क्रिकेट न्यूज़) Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। और साथ ही IPL News in Hindi (आईपीएल न्यूज़) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर