ये क्या बोल गए कोच रवि शास्त्री, क्या विराट कोहली के साथ शुरू हो गई है तनातनी?

Ravi Shastri compares 1985 vs 1984 ODI teams: टीम इंडिया के पूर्व दिग्गज व मौजूदा कोच रवि शास्त्री ने विराट कोहली की भारतीय वनडे टीम को लेकर ऐसा बयान दिया है जो चौंकाने वाला है।

Virat Kohli with Indian coach Ravi Shastri
Virat Kohli with Indian coach Ravi Shastri  |  तस्वीर साभार: PTI

नई दिल्लीः टीम इंडिया के मुख्य कोच रवि शास्त्री हमेशा से ही विराट कोहली की अगुवाई वाली मौजूदा टीम को सबसे बेहतरीन भारतीय टीम बताते आए हैं। वो इस टीम के मुख्य कोच हैं और उनका ऐसा बोलना बनता भी है। टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली के साथ कोच-कप्तान का रिश्ता भी काफी मजबूत बताया जाता रहा है लेकिन रवि शास्त्री ने अब एक ऐसा बयान दिया है जो थोड़ा चौंकाने वाला है। उन्होंने 1985 में वनडे मैचों में खेलने वाली भारतीय टीम की तुलना विराट कोहली की अगुवाई वाली मौजूदा टीम से कर डाली और कहा कि 1985 वाली टीम विराट सेना को भी परेशानी में डाल सकती थी।

रवि शास्त्री खुद भी 1985 की उस टीम का अहम हिस्सा थे जिसने सुनील गावस्कर की अगुवाई में क्रिकेट विश्व चैंपियनशिप जीती थी। वो ऑस्ट्रेलिया में खेली गयी इस चैंपियनशिप में भारतीय जीत के नायक थे और उन्हें टूर्नामेंट का सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी चुने जाने पर तब मशहूर ‘ऑडी’ कार मिली थी।

चौंकाने वाला बयान

रवि शास्त्री ने एक ऑनलाइन चर्चा के दौरान कहा, ‘‘इसमें कोई संदेह नहीं। वो (1985 की टीम) सीमित ओवरों की किसी भी भारतीय टीम को कड़ी चुनौती पेश करेगी। वो 1985 वाली टीम आज की भारतीय टीम को भी परेशानी में डाल देगी।’’ टीम इंडिया के मुख्य कोच के इस बयान के बाद चर्चा आगे भी बढ़ सकती है।

विश्व कप विजेता टीम की तुलना में 1985 की टीम मजबूत

इसके साथ ही शास्त्री का ये भी मानना है कि 1985 की टीम 1983 में विश्व कप जीतने वाली टीम से भी बेहतर थी क्योंकि उसमें युवा और अनुभव का अच्छा मिश्रण था। उन्होंने कहा, ‘‘मैं तो यहां तक मानता हूं कि 1983 की तुलना में 1985 की टीम अधिक मजबूत थी। आप जानते हैं कि मैं दोनों टीमों का हिस्सा था। मैं 1983 विश्व कप में खेला था और 1985 में अगर आप प्रत्येक खिलाड़ी पर गौर करो तो उसमें 1983 के 80 प्रतिशत खिलाड़ी शामिल थे। लेकिन इस बीच टीम में शिवरामकृष्णन, सदानंद विश्वनाथ, अजरूद्दीन जैसे युवा खिलाड़ी आ गये थे। हमारे पास पहले से अनुभवी खिलाड़ी थे और इनके जुड़ने से टीम शानदार बन गयी।’’

क्या विराट का वो बयान है वजह

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने हाल ही में एक बयान दिया था जिसमें उन्होंने उन कोचों का नाम बताया था जिन्होंने विराट के करियर में सबसे अहम भूमिका निभाई। विराट ने दक्षिण अफ्रीकी दिग्गज एबी डिविलियर्स के साथ इंस्टाग्राम चैट के दौरान कहा था कि उनके जीवन में जिन कोचों की अहम भूमिका रही उसमें पूर्व भारतीय कोच गैरी कर्स्टन, पूर्व दक्षिण अफ्रीकी दिग्गज मार्क बाउचर और पूर्व भारतीय कोच डंकन फ्लेचर का नाम लिया। रवि शास्त्री और विराट कोहली के बीच कोच व कप्तान के रूप में काफी अच्छे संबंध बताए जाते रहे हैं लेकिन विराट का इस बयान में रवि शास्त्री का नाम ना लेना कुछ सवाल तो खड़े करता ही है।

ऑस्ट्रेलिया जैसी टीम को घर में हराना आसान नहीं था

रवि शास्त्री ने ये भी कहा कि ऑस्ट्रेलिया में 2018-19 में 71 वर्षों में पहली बार टेस्ट श्रृंखला जीतना विशेष रहा लेकिन जब सीमित ओवरों की क्रिकेट की बात आती है तो 1985 का कोई जवाब नहीं। उन्होंने कहा, ‘‘इन दोनों टीमों का हिस्सा होना शानदार है। ऑस्ट्रेलिया को उसकी सरजमीं पर हराना बहुत मुश्किल था क्योंकि कोई एशियाई टीम 71 वर्षों से ऐसा नहीं कर पायी थी।’’

गौरतलब है कि विराट कोहली की अगुवाई वाली मौजूदा भारतीय वनडे टीम को लेकर बहुत दावे किए जा चुके हैं और इन तारीफों की फेहरिस्त में सबसे आगे रवि शास्त्री के बयान ही रहते हैं। हालांकि विराट की अगुवाई में भारतीय टीम 2019 के वनडे क्रिकेट विश्व कप को जीतने में असफल रही जबकि उसे सबसे मजबूत दावेदार बताया जा रहा था। भारत ने अब तक दो बार विश्व कप जीता है, सबसे पहले कपिल देव की अगुवाई में भारत ने 1983 में विश्व कप जीता और उसके 28 साल के इंतजार के बाद महेंद्र सिंह धोनी की अगुवाई वाली टीम ने 2011 में ये सपना पूरा किया था।

Cricket News (क्रिकेट न्यूज़) Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। और साथ ही IPL News in Hindi (आईपीएल न्यूज़) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर