पीसीबी अध्यक्ष एहसान मनी ने बताया, सरफराज अहमद को कप्तानी से क्यों हटाया

क्रिकेट
Updated Oct 18, 2019 | 17:19 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के अध्यक्ष एहसान मनी ने बताया है कि सरफराज अहमद को टीम की कप्तानी से हटाने का निर्णय किस वजह से लिया गया।

Sarfaraz Ahmed
Sarfaraz Ahmed   |  तस्वीर साभार: Twitter

मुख्य बातें

  • साल 2016 में संभाली थी टी-20 टीम की कमान, इसके बाद बने वनडे और टेस्ट कप्तान
  • सरफराज की कप्तानी में पाकिस्तान ने जीता चैंपियंस ट्रॉफी का खिताब
  • टी-20 में पाकिस्तान को सरफराज ने बनाया नंबर वन, कप्तानी में जीते 78.37 प्रतिशत मैच

लाहौर: साल 2017 में पाकिस्तान को चैंपियंस ट्रॉफी का खिताब दिलाने वाले सरफराज अहमद को शुक्रवार को पीसीबी ने कप्तानी से हटाने का निर्णय किया। सरफराज की जगह अजहर अली को टेस्ट टीम का नया कप्तान घोषित किया गया है वहीं स्टार बल्लेबाज बाबर आजम के हाथों में टी-20 की कमान सौंपी गई है। पीसीबी ने ये फैसला घर पर श्रीलंका के खिलाफ टी-20 सीरीज में 0-3 की हार के बाद लिया गया है। इस हार के बाद से सरफराज को कप्तानी से हटाए जाने के मांग तेज हो गई थी। इसके अलावा टीम के मुख्य चयनकर्ता और हेड कोच मिस्बाह उल हक भी हार के बाद उनसे नाराज चल रहे थे।

सरफराज को कप्तानी से हटाए जाने के निर्णय पर सफाई देते हुए पीसीबी के अध्यक्ष एहसान मनी ने कहा, 'सरफराज को कप्तानी से हटाने का निर्णय मुश्किल था उन्होंने बतौर कप्तान और खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन किया। लेकिन उनका खराब फॉर्म और आत्मविश्वास दिखाई पड़ने लगा था। ऐसे में टीम के हित के लिए उन्हें पद से हटाने का निर्णय किया गया। उन्हें अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से दूर रखकर फॉर्म वापस हासिल करने का मौका दिया गया है।'

उन्होंने आगे कहा, पाकिस्तान क्रिकेट के लिए सरफराज अहमद के योगदान को किसी की भी तुलना में कम नहीं आका जा सकता। इस बात से सभी वाकिफ हैं कि वो एक जुझारू और दिलेर खिलाड़ी है। मुझे इस बात में कोई संदेह नहीं है कि वो एक बार फिर पाकिस्तानी जर्सी पहनकर खेलते नजर आएंगे। 

अहसान मनी ने टीम के नए टेस्ट और टी-20 कप्तान को बधाई देते हुए कहा, मैं अजहर अली और बाबर आजम को पाकिस्तान क्रिकेट टीम के सर्वोच्च पद पर काबिज होने के लिए बधाई देता हूं। ये दोनों के लगातार शानदार प्रदर्शन और कड़ी मेहनत का इनाम है। अपने पहले के कप्तानों की तरह वो भी अपने प्रदर्शन, नेतृत्व और खेलभावना से देश को गौरान्वित करेंगे। 

सरफराज अहमद को साल 2016 में भारत की मेजबानी में खेले गए टी-20 विश्वकप में पाकिस्तान के खराब प्रदर्शन के बाद अप्रैल 2016 में टीम का कप्तान बनाया गया था। इसके बाद फरवरी 2017 में अजहर अली के वनडे कप्तानी से इस्तीफा देने के बाद सरफराज के हाथों में वनडे टीम की कमान भी सौंप दी गई। ऐसे में जून में उन्होंने पाकिस्तान को चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में भारत को मात देकर खिताब दिला दिया और नेशनल हीरो बन गए। 

मिस्बाह उल हक ने टेस्ट क्रिकेट से संन्यास का ऐलान कर दिया और सितंबर में ही टेस्ट टीम की कमान भी उनके हाथों में आ गई। वो पाकिस्तान के 32वें टेस्ट कप्तान बने। चैंपियंस ट्रॉफी के बाद पाकिस्तानी टीम वनडे और टेस्ट में कोई कमाल नहीं कर सकी लेकिन सरफराज ने पाकिस्तान को टी-20 में नंबर एक टीम जरूर बना दिया। इस दौरान वो बल्ले से कोई बड़ा कमाल नहीं कर सके। कप्तानी के बोझ तले उनका फॉर्म लगातार खराब होता गया। अंत में खराब फॉर्म और टीम का गिरता प्रदर्शन उन्हें कप्तानी से बाहर किए जाने का  निर्णय किया गया। 

सरफराज की कप्तानी में पाकिस्तान की टीम टी-20 में नंबर वन बनी। उनकी कप्तानी में पाकिस्तान ने 37 टी-20 मैच खेले जिसमें से टीम को 29 में जीत हासिल हुई। वहीं 8 में हार का सामना करना पड़ा। उनकी कप्तानी में टीम का जीत प्रतिशत 78.37 रहा। 

Cricket News (क्रिकेट न्यूज़) Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। और साथ ही IPL News in Hindi (आईपीएल न्यूज़) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर