भारत-दक्षिण अफ्रीका पहला टेस्‍ट क्‍यों लंबे समय तक रहेगा याद, सबूत हैं ये रिकॉर्ड्स

मयंक भारतीय सरजमीं पर पहली टेस्ट पारी खेलते हुए शतक जड़ने वाले चौथे भारतीय बल्लेबाज बन गए हैं। उनसे पहले शिखर धवन, पृथ्वी शॉ और रोहित शर्मा ये कारनामा कर चुके हैं।

team india
टीम इंडिया  |  तस्वीर साभार: AP
मुख्य बातें
  • भारत ने पहला टेस्‍ट 203 रन के विशाल अंतर से जीता
  • रोहित शर्मा को उनके शानदार प्रदर्शन के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया
  • भारत ने तीन मैचों की सीरीज में 1-0 की बढ़त बनाई

विशाखापत्‍तनम: टीम इंडिया ने रविवार को दक्षिण अफ्रीका को पहले टेस्‍ट में 203 रन के विशाल अंतर से मात देकर आईसीसी विश्‍व टेस्‍ट चैंपियनशिप में जीत की हैट्रिक लगाई। यह टेस्‍ट लंबे समय तक फैंस नहीं भूल पाएंगे क्‍योंकि इस मैच में बंपर रिकॉर्ड्स बने। बता दें कि भारत ने टॉस जीतकर पहले बल्‍लेबाजी की और अपनी पहली पारी 502/7 के स्‍कोर पर घोषित की। जवाब में दक्षिण अफ्रीका की पहली पारी 431 रन पर सिमटी। मेजबान टीम को पहली पारी के आधार पर 71 रन की बढ़त मिली। इसके बाद भारत ने अपनी दूसरी पारी 323/4 के स्‍कोर पर घोषित की और प्रोटियाज टीम के सामने 395 रन का लक्ष्‍य रखा। इसका पीछा करते हुए दक्षिण अफ्रीका की टीम 191 रन पर ढेर हो गई। भारत ने तीन मैचों की टेस्‍ट सीरीज में 1-0 की बढ़त बनाई और अब सीरीज का दूसरा मैच 10 अक्‍टूबर से पुणे में खेला जाएगा।

चलिए आपको बताते हैं कि पहले टेस्‍ट में ऐसे क्‍या रिकॉर्ड्स बने, जिनकी वजह से यह मैच यादगार बन गया:

# भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच पहले टेस्‍ट में कुल 37 छक्‍के लगे, जो एक वर्ल्‍ड रिकॉर्ड है। पिछला रिकॉर्ड 35 छक्कों का था जो नवंबर 2014 में न्यूजीलैंड और पाकिस्तान टेस्ट के दौरान शारजाह में बना था। भारत ने मैच में 27 छक्‍के जमाए, जो उसकी तरफ से अब तक सर्वश्रेष्‍ठ हैं।

# रविचंद्रन अश्विन ने सबसे तेज 350 टेस्‍ट विकेट लेने के मामले में श्रीलंका के महान ऑफ स्पिनर मुथैया मुरलीधन के विश्‍व रिकॉर्ड की बराबरी की। अश्विन इसी के साथ सबसे तेज 350 टेस्‍ट विकेट लेने वाले भारतीय गेंदबाज बन गए हैं। अश्विन ने मैच में कुल 8 विकेट लिए।

# अश्विन ने 27वीं बार एक टेस्ट पारी में पांच या उससे ज्यादा विकेट हासिल किए। लेकिन एक पारी में 6 या उससे ज्यादा विकेट लेने के मामले में अश्निन ने हरभजन सिंह को पीछे छोड़ दिया। हरभजन ने अपने टेस्ट करियर में एक पारी में 13 बार 6 या उससे ज्यादा विकेट लिए थे। इस मैच से पहले अश्विन उनकी बराबरी पर थे।

# दक्षिण अफ्रीका के बाएं हाथ के स्पिनर केशव महाराज के नाम शर्मनाक रिकॉर्ड दर्ज हुआ।  उन्होंने दोनों पारियों में 300 से अधिक रन खर्च दिए। वह टेस्ट मैच में सबसे अधिक रन खर्च वाले दुनिया के तीसरे गेंदबाज बन गए हैं। सबसे ज्यादा रन देने वाले गेंदबाज टॉमी स्कॉट हैं, जिन्‍होंने 1929-30 में किंगस्टन में इंग्लैंड के खिलाफ 374 रन लुटाए। वहीं ऑस्‍ट्रेलिया के ऑफ स्पिनर जेसन  क्रेजा ने 2008-09 में नागपुर में भारत के खिलाफ 358 रन लुटा दिए थे। महाराज ने पहले टेस्‍ट कुल 318 रन खर्च किए।

# रोहित दुनिया में एक टेस्ट में सबसे ज्यादा छक्के जड़ने वाले बल्लेबाज बन गए हैं। उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ एक टेस्ट मैच में 13 छक्के लगाकर पाकिस्तान के पूर्व ऑलराउंडर वसीम अकसर का 23 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ दिया। अकरम ने 1996 में जिंबाब्वे के खिलाफ एक टेस्ट मैच में 12 छक्के जमाए थे। इससे पहले रोहित ने इस मैच में नौवां छक्का जड़ते ही  भारत के लिए एक टेस्ट में सबसे ज्यादा छक्के जड़ने वाले बल्लेबाज का रिकॉर्ड अपने नाम किया था। रोहित से पहले यह रिकॉर्ड नवजोत सिंह सिद्धू के नाम दर्ज था। सिद्धू ने साल 1994 में श्रीलंका के खिलाफ 8 छक्के जड़े थे।  

# रोहित पहली पारी की शुरुआत करते हुए एक टेस्ट मैच को दोनों पारियों में शतक जड़ने वाले दुनिया के पहले बल्लेबाज बने। हिटमैन ने पहली और दूसरी पारी में क्रमश: 176 और 127 रन की पारी खेली। रोहित एक टेस्ट की दोनों पारियों में शतक जड़ने वाले छठे भारतीय बल्लेबाज है। भारत के लिए ऐसा करने वाले पहले खिलाड़ी विजय हजारे थे। इसके बाद सुनील गावस्कर, राहुल द्रविड़, विराट कोहली और अंजिक्य रहाणे ऐसा कर चुके हैं। सुनील गावस्कर ने तीन बार जबकि राहुल द्रविड़ ने  दो बार एक टेस्ट की दोनों पारियों में शतक जड़े थे।

# 41 साल बाद कोई भारतीय ओपनर किसी टेस्ट की दोनों पारियों में शतक जड़ने में सफल हुआ है। सुनील गावस्कर रोहित से पहले ऐसा करने वाले एकलौते भारतीय ओपनर थे। उन्होंने तीन बार( 1971, 1978, 1978) में एक टेस्ट की दोनों पारियों में शतक जड़े थे। 1978 के बाद कितने ओपनर आए और विदा हो गए लेकिन गावस्कर की तरह दोनों पारियों में शतक कोई भी नहीं जड़ सका। लेकिन रोहित शर्मा ने 41 साल के इस सूखे को विशाखापट्टन में खत्म कर दिया।

# रोहित की दोनों पारियों का अंत भी एक ही तरह से हुआ। दोनों पारियों में वह केशव महाराज की गेंद पर स्टंपिग होकर पवेलियन लौटे। इसी के साथ ही वो एक टेस्ट की दोनों पारियों में स्टंपिंग होने वाले पहले भारतीय भी बन गए हैं। इससे पहले अब तक खेली 137 प्रथमश्रेणी पारियों में रोहित केवल एक बार स्टंपिंग हुए थे।

# रोहित शर्मा बतौर ओपनर पहले टेस्ट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज बन गए हैं। इससे पहले ये रिकॉर्ड श्रीलंका के तिलकरत्न दिलशान के नाम दर्ज था। दिलशान ने टेस्ट क्रिकेट में श्रीलंका के लिए पहली बार पारी का आगाज करते हुए गॉल में दोनों पारियों में 92 और 123* रन की पारियों सहित मैच में कुल 215 रन बनाए थे। वहीं रोहित शर्मा ने पहली पारी में 176 और दूसरी में 127 रन की पारी खेलकर कुल 303 रन बनाकर दिलशान को बड़े अंतर से पीछे छोड़ दिया है। 

# जडेजा सबसे तेज गति से टेस्ट क्रिकेट में 200 विकेट लेने वाले बांए हाथ के गेंदबाज बन गए हैं। जड़ेजा ने करियर का 44वां टेस्ट खेलते हुए यह उपलब्धि हासिल की। जड़ेजा से पहले ये रिकॉर्ड श्रीलंका के पूर्व कप्तान और स्पिनर रंगना हेराथ के नाम दर्ज था। हेराथ ने 47वां टेस्ट मैच खेलते हुए अपने 200 विकेट पूरे किए थे।

# घरेलू सरजमीं पर पहली टेस्ट पारी खेलते हुए मयंक अग्रवाल ने अपनी पारी को दोहरे शतक में तब्दील कर इतिहास रच दिया। वो घर पर पहली टेस्ट पारी में दोहरा शतक जड़ते वाले पहले भारतीय बल्लेबाज बन गए हैं। मंयक ने 358 गेंद में दोहरा शतक पूरा किया और इस दौरान 22 चौके और 5 छक्के जड़े। वो 371 गेंद में 215 रन बनाकर आउट हुए।

# दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहले विकेट के लिए सबसे लंबी साझेदारी का रिकॉर्ड गौतम गंभीर और वीरेंद्र सहवाग की जोड़ी के नाम दर्ज था। दोनों ने साल 2004 में कानपुर में पहले विकेट के लिए 218 रन की साझेदारी की थी। रोहित और मयंक ने पहले विकेट के लिए 317 रन की साझेदारी करते हुए इस रिकॉर्ड को बहुत पीछे छोड़ दिया। 

# मयंक भारतीय सरजमीं पर पहली टेस्ट पारी खेलते हुए शतक जड़ने वाले चौथे भारतीय बल्लेबाज बन गए हैं। उनसे पहले शिखर धवन, पृथ्वी शॉ और रोहित शर्मा ये कारनामा कर चुके हैं। भारतीय क्रिकेट इतिहास में ऐसा दसवीं बार हुआ है जब किसी टेस्ट की एक ही पारी में दोनों ओपनर्स ने शतक जड़ा है। 

# रोहित शर्मा ने टेस्‍ट क्रिकेट में लगातार सातवां अर्धशतक जमाया और राहुल द्रविड़ के रिकॉर्ड को तोड़ दिया। राहुल द्रविड़ ने साल 1997-1998 के बीच घर पर लगातार 6 टेस्ट शतक जड़ने का कारनामा किया था। 

# 2012 के बाद किसी मेहमान टीम ने पहली बार भारत के खिलाफ एक पारी में 400 का आंकड़ा पार किया। दक्षिण अफ्रीका ने यह खास उपलब्धि अपने नाम की है। दक्षिण अफ्रीका ने पहली पारी में 431 रन बनाकर यह खास उपलब्धि अपने नाम की थी।

# मोहम्‍मद शमी पहले भारतीय तेज गेंदबाज बन गए हैं, जिसने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्‍ट की चौथी पारी में दूसरी बार पारी में पांच विकेट लिए। वहीं दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ घरेलू सरजमीं पर चौथी पारी में पांच विकेट लेने वाले पांचवें भारतीय गेंदबाज बने शमी। इससे पहले कर्सन घावरी, कपिल देव, मदन लाल और जवागल श्रीनाथ यह कमाल कर चुके हैं।

Cricket News (क्रिकेट न्यूज़) Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Now Navbharat पर। और साथ ही IPL News in Hindi (आईपीएल न्यूज़) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर