चेतेश्वर पुजारा ने कहा, यदि टीम इंडिया में अब नहीं हुआ इस खिलाड़ी का चयन तो होगी हैरानी

चेतेश्वर पुजारा ने सौराष्ट के लिए रणजी ट्रॉफी का खिताब पहली बार जीतने के बाद कहा है कि यदि इस इस खिलाड़ी को भारतीय टीम में मौका नहीं मिलता है तो उन्हें बेहद हैरानी होगी।

Cheteshwar-Pujara-and-Jaydev-Unadkat
Cheteshwar-Pujara-and-Jaydev-Unadkat  |  तस्वीर साभार: Twitter

मुख्य बातें

  • पुजारा ने कहा इस बार मिलेगा उनादकट को टीम इंडिया में मौका
  • चयन में रणजी के प्रदर्शन को मिलती है वरीयता
  • 2 साल पहले आखिरी बार नजर आए थे टीम इंडिया की जर्सी में नजर

राजकोट: सौराष्ट्र की टीम ने पिछले दो सीजन से रणजी ट्रॉफी में शानदार प्रदर्शन किया है। पिछली बार विदर्भ के खिलाफ खिताबी जीत से चूकने के बाद सौराष्ट्र ने बंगाल को मात देकर पहली बार रणजी ट्रॉफी पर कब्जा कर लिया। सौराष्ट्र की जीत के बाद हर तरफ एक खिलाड़ी की जमकर तारीफ हो रही है और वो हैं कप्तान जयदेव उनादकट। 

उनादकट के लिए हालिया रणजी सीजन बेहद शानदार रहा है। उन्होंने 10 मैच में 67 विकेट लेकर टीम की खिताबी जीत में अहम भूमिका अदा की। ऐसे में सौराष्ट्र की टीम में उनके साथी खिलाड़ी और भारतीय टेस्ट टीम से सदस्य चेतेश्नर पुजारा ने कहा है कि यदि अब उनादकट को टीम इंडिया में शामिल होने का मौका नहीं मिलता है तो उन्हें बेहद आश्चर्य होगा। 

10 मैच में 13.23 की औसत से लिए 67 विकेट
उनादकट ने इस बार 10 मैच में 13.23 के शानदार औसत से कुल 67 विकेट लिए। वो एक रणजी सीजन में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले तेज गेंदबाज बने। हालांकि वो एक सीजन में सबसे ज्यादा विकेट लेने का रिकॉर्ड अपने नाम करने से महज एक विकेट से चूक गए। ऐसे में पुजारा ने उनादकट की तारीफ करते हुए कहा, जयदेव इस बात से चिंतित नहीं है और न ही सोच रहे हैं कि उन्हें टीम इंडिया में मौका नहीं मिल रहा है। लेकिन अब उन्हें भारतीय टीम में शामिल नहीं किया गया तो उन्हें बहुत आश्चर्य होगा।'

रणजी के प्रदर्शन को मिलती है प्राथमिकता 
हिंदुस्तान टाइम्स से बात करते हुए उनादकट ने कहा, जयदेव ने पूरे सीजन में शानदार गेंदबाजी की है। यदि कोई खिलाड़ी एक सीजन में 67 विकेट लेता है तो मुझे नहीं लगता कि और कोई खिलाड़ी इससे अच्छा प्रदर्शन रणजी ट्रॉफी में कर सकता था। भारतीय टीम में शामिल किए जाने के लिए रणजी ट्रॉफी के प्रदर्शन को प्राथमिकता मिलती है।' 10 साल पहले टेस्ट डेब्यू करने वाले उनादकट साल 2018 में निदहास ट्रॉफी के फाइनल में भारतीय जर्सी में नजर आए थे। उसके बाद से उन्हें टीम इंडिया में शामिल होने का मौका नहीं मिला। लेकिन इस दौरान उन्होंने घरेलू क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन करते हुए एक बार फिर भारतीय टीम के लिए दरवाजे खोल लिए हैं। सुनील जोशी की अध्यक्षता वाली नई चयन समिति को उनके भाग्य का फैसला करना है। 

बची है वापसी की भूख
28 वर्षीय उनादकट के अंदर टीम इंडिया में वापसी की भूख बाकी है। उन्होंने कहा, मेरे अंदर अब भी वापसी करने की भूख बाकी है। ये भूख इस सीजन जितनी प्रबल पहले कभी नहीं रही इसी वजह से मैं पूरे सीजन शानदार प्रदर्शन करने में सफल रहा।'

उन्होंने आगे कहा, इमानदारी के कहूं तो पूरे सीजन शारीरिक रूप से तैयार रहना चुनौतीपूर्ण रहा। एक तेज गेंदबाज के रूप में तकरीबन सभी मैच में लंबे स्पेल में गेंदबाजी की। मैं चाहता हूं कि गेंदबाजी की ये लय आगे भी बरकरार रहे। मैं नहीं चाहता कि ये यहीं खत्म हो जाए। हमने रणजी ट्रॉफी जीत ली है और फिलहाल दुनिया में मुझसे सुखी कप्तान और कोई नहीं हो सकता। 

Cricket News (क्रिकेट न्यूज़) Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। और साथ ही IPL News in Hindi (आईपीएल न्यूज़) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर