हार्दिक पांड्या का फैन गंभीर रूप से हुआ था चोटिल, स्‍टार ऑलराउंडर ने दिल जीतने वाला किया काम

क्रिकेट
Updated Sep 26, 2019 | 16:35 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

भारतीय ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या ने अपने एक फैन मुगुनथन की मदद करके उसे बचाया। कुछ समय पहले इस फैन का एक्‍सीडेंट हो गया था, जिसमें वह गंभीर रूप से चोटिल हुआ था।

hardik pandya and mugunthan
हार्दिक पांड्या और मुगुनथन  

मुख्य बातें

  • मुगुनथन भारतीय ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या के बड़े फैन हैं
  • भारत-दक्षिण अफ्रीका के बीच पहले टी20 देखने के लिए जाते समय रास्‍ते में उसका एक्‍सीडेंट हुआ
  • हार्दिक पांड्या ने अपने फैन की आर्थिक मदद की और उसका पूरा मेडिकल खर्चा उठाया

धर्मशाला: भारत में क्रिकेट को धर्म की तरह माना जाता है और क्रिकेटर्स की दीवानगी फैंस के बीच देखते ही बनती है। क्रिकेट फैंस अपने चहेते क्रिकेटरों का हौसला बढ़ाने के लिए किसी भी हद तक जाने में हिचकिचाते नहीं है। क्रिकेट के भगवान माने जाने वाले सचिन तेंदुलकर के सबसे बड़े फैन सुधीर गौतम की कहानी कई सालों से क्रिकेट प्रेमियों के बीच लोकप्रिय है। अब इस लिस्‍ट में भारतीय ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या का भी एक फैन शामिल हो गया है। इस फैन का नाम है मुगुनथन, जिसने क्रिकेट फैन की दीवानगी के नए कीर्तिमान स्‍थापित किए हैं। 

कोयंबटूर के मुगुनथन ने अपने शरीर पर हार्दिक के नाम के टैटू 16 अलग-अलग भारतीय भाषाओं में गुदवाए हैं। जब इस साल जनवरी में हार्दिक पांड्या अपने विवादित बयान के कारण मुश्किलों से घिरे हुए थे तो मुगुनथन ने अपने सिर का मुंडन कराकर ऑलराउंडर की टीम इंडिया में वापसी की कामना की। हार्दिक का स्‍टाइल आइकॉन के रूप में भी जाना जाता है, जो जल्‍दी-जल्‍दी अपने हेयरस्‍टाइल बदलते हैं। मुगुनथन का हार्दिक के लिए प्‍यार उनके लुक्‍स के कारण भी हैं। जब-जब हार्दिक नए लुक में आते हैं तो मुगुनथन उनके जैसा ही हेयरकट करा लेते हैं। 

कई उत्‍साहित फैंस के समान मुगुनथन भी हार्दिक का उत्‍साह बढ़ाने के लिए धर्मशाला जा रहे थे। वैसे, मुगुनथन अपने चहेते क्रिकेटर हार्दिक से कई बार मिल चुके हैं। भारतीय ऑलराउंडर ने फोटो, ऑटोग्राफ और सेल्‍फी लेकर अपने फैन को खुश भी किया। हालांकि, भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच धर्मशाला वाले पहले टी20 के लिए धर्मशाला जाते समय मुगुनथन का एक्‍सीडेंट हो गया। वह गंभीर रूप से चोटिल हो गए थे। 

मुगुनथन अपने दोस्‍त के साथ कोयंबटूर से धर्मशाला सड़क के रास्‍ते जा रहे थे। उन्‍होंने 3000 किमी की यात्रा में से 2000 किमी पार कर लिए थे ताकि अपने चहेते क्रिकेटर हार्दिक पांड्या को खेलते हुए देखें। मगर जबलपुर के करीब उनका एक्‍सीडेंट हो गया। उन्‍हें पहले एंबुलेंस से सरकारी अस्‍पताल भेजा गया और फिर बाद में जबलपुर के मेट्रो अस्‍पताल में भर्ती कराया गया। मुगुनथन को गंभीर चोट आई थी और डॉक्‍टर ने कहा कि सर्जरी करानी होगी।

एक सूत्र ने बताया कि मुगुनथन की चोट के बारे में जानकर हार्दिक पांड्या काफी डिस्‍टर्ब हो गए। ऑलराउंडर अपने प्रशंसक की चोट से निराश थे ही और साथ ही वह इस बात से भी खफा थे कि मुगुनथन ने ट्रेन से इतनी लंबी यात्रा करने का क्‍यों नहीं सोचा। हार्दिक ने अपने फैन की मदद करने की ठानी और उनके मेडिकल का पूरा खर्चा उठाया। मुगुनथन को कई फ्रैक्‍चर आए और वह 21 सितंबर को कोयंबटूर लौटे। 

भारतीय ऑलराउंडर ने आर्थक मदद की, जिसके चलते मुगुनथन जल्‍दी घर पहुंच सकें। अब मुगुनथन भारत-दक्षिण अफ्रीका टेस्‍ट सीरीज पलंग पर लेटकर देखेंगे। इसमें कोई शक नहीं कि ठीक होते ही वह एक बार फिर अपने चहेते क्रिकेटर को खेलते देखने के लिए मैदान का रुख करेंगे।

अगली खबर
loadingLoading...
loadingLoading...
loadingLoading...