Dhoni vs Bravo: धोनी के बार-बार बूढ़ा बोलने पर ब्रावो ने उनको दिया चैलेंज और फिर..

Dwayne Bravo challenged MS Dhoni: आईपीएल में दो साल पहले खिताबी मुकाबले के बाद कैरेबियाई ऑलराउंडर ड्वेन ब्रावो ने चेन्नई सुपर किंग्स के दिग्गज कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को एक चैलेंज दे डाला था।

Dwayne Bravo challenged MS Dhoni
Dwayne Bravo challenged MS Dhoni  |  तस्वीर साभार: PTI

मुख्य बातें

  • ड्वेन ब्रावो ने बताया आईपीएल सीजन के दौरान का दिलचस्प किस्सा
  • ब्रावो को बार-बार बूढ़ा बोलकर चिढ़ाते थे चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान एमएस धोनी
  • कैरेबियाई ऑलराउंडर ने माही को दे डाला चैलेंज

नई दिल्ली: इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में अगर किसी एक टीम को लेकर सबसे ज्यादा दीवानगी है, तो वो चेन्नई सुपर किंग्स ही है। 'येलो आर्मी' जितना अपने खेल की वजह से मशहूर है, उतनी ही उसकी लोकप्रियता अपने कप्तान की वजह से भी है। महेंद्र सिंह धोनी। कैप्टन कूल के दुनिया भर में करोड़ों फैंस है और शायद यही वजह है कि CSK को चेन्नई के स्टेडियम में वैसा ही सम्मान और प्यार मिलता है जैसा यूरोप के दिग्गज फुटबॉल क्लबों को अपने मैदानों पर। इसी टीम के एक अहम सदस्य अनुभवी कैरेबियाई ऑलराउंडर ड्वेन ब्रावो भी हैं, जिन्होंने एक दिलचस्प किस्से के पीछे की वजह को याद किया है।

हम बात कर रहे हैं आईपीएल 2018 फाइनल के बाद देखे गए उस पल की जो अब भी फैंस के जहन में ताजा है। उस फाइनल मैच के बाद चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और उनके साथी ड्वेन ब्रावो के बीच मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम पर रेस हुई थी और इसके पीछे की वजह के बारे में ब्रावो ने बताया है। ब्रावो ने खुलासा किया है कि वो एक चुनौती (चैलेंज) थी जो कि उन्होंने धोनी को दी थी, क्योंकि धोनी पूरा सीजन उन्हें बूढ़ा कहकर चिढ़ाते आए थे।

'मैंने दिया था चैलेंज'

ड्वेन ब्रावो ने इंस्टाग्राम लाइव चैट के दौरान उस पूरे वाकये का खुलासा किया, उन्होंने कहा, ''पूरे सीजन के दौरान धोनी कहते थे कि मैं बूढ़ा हूं। वो हमेशा बूढ़ा कहकर चिढ़ाते थे। वो मुझे काफी सुस्त कहते थे। फिर एक दिन मैंने धोनी से कहा कि, मैं आपको विकेटों के बीच दौड़ लगाने का चैलेंज देता हूं। उन्होंने कहा- कोई मौका नहीं है। तो मैंने कहा- टूर्नामेंट के बाद हम करेंगे।''

फाइनल के बाद हुई रेस और फिर..

ब्रावो ने बताया कि, ''हमने ये दौड़ बीच टूर्नामेंट में नहीं करने का फैसला किया क्योंकि हम में से किसी को भी हैमस्ट्रिंग हो जाती तो काफी दिक्कत होती। हमने फाइनल के बाद चैलेंज पूरा किया। रेस बहुत करीबी थी, हालांकि धोनी ने मुझे हरा दिया। ये अच्छी रेस थी।'

थैंक्यू धोनी !

ड्वेन ब्रावो अपने करियर के दौरान कई बार उतार-चढ़ाव से गुजरते रहे लेकिन वो कप्तान धोनी ही थे जिन्होंने वेस्टइंडीज के इस अनुभवी ऑलराउंडर पर अपना भरोसा कायम रखा। ब्रावो ने भी कप्तान धोनी और टीम के कोच स्टीफन फ्लेमिंग को उनकी क्षमताओं में विश्वास दिखाने के लिए धन्यवाद दिया। ड्वेन ब्रावो ने हाल ही में लंबे समय के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में भी वापसी की है। ये फैसला टी20 विश्व कप को देखते हुए लिया गया।

Cricket News (क्रिकेट न्यूज़) Times now के हिंदी न्यूज़ वेबसाइट -Times Network Hindi पर। और साथ ही IPL News in Hindi (आईपीएल न्यूज़) के अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर