क्लार्क ने ऑस्ट्रेलियाई टीम से कहा- 'तुम लोग विराट से डरते हो', कप्तान फिंच ने दिया ऐसा जवाब

Aaron Finch replies to Michael Clarke: ऑस्ट्रेलियाई टीम के पूर्व कप्तान माइकल क्लार्क ने भारत के खिलाफ ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों के दबाव में आने व विराट कोहली से डरने को लेकर बयान दिया, तो फिंच ने जवाब दिया।

Virat Kohli and Tim Paine
विराट कोहली और टिम पेन की भिड़ंत  |  तस्वीर साभार: AP, File Image

मुख्य बातें

  • भारत के खिलाफ ऑस्ट्रेलियाई टीम की घर पर हार को लेकर माइकल क्लार्क ने दिया था बयान
  • क्लार्क ने ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों पर विराट से डरने व दबाव में आने का आरोप लगाया था
  • मौजूदा ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज आरोन फिंच ने अपने पूर्व कप्तान माइकल क्लार्क को दिया है जवाब

नई दिल्ली: ऐसा कम ही होता है जब एक ही देश के दो दिग्गज खिलाड़ी किसी बात पर भिड़ते नजर आएं। इन दिनों ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट में कुछ-कुछ यही हो रहा है। पूर्व कप्तान माइकल क्लार्क ने एक ऐसा बयान दिया जो वहां के खिलाड़ियों के पच नहीं रहा है। क्लार्क ने दावा किया था कि टीम इंडिया के खिलाफ 2018-19 में घर पर खेली गई टेस्ट सीरीज में ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी सही भावना से नहीं खेले और आईपीएल के लालच में विराट कोहली से छींटाकशी करने व दबाव बनाने से बचते नजर आए। अब मौजूदा दिग्गज आरोन फिंच ने क्लार्क को खुलकर जवाब दिया है।

ऑस्ट्रेलिया के सीमित ओवरों के कप्तान आरोन फिंच ने पूर्व कप्तान माइकल क्लार्क के दावे को पूरी तरह से खारिज कर दिया है। उस टेस्ट टीम का हिस्सा रहे फिंच ने स्पोर्ट्स तक से कहा, ‘ऐसा बिल्कुल भी नहीं है कि वे आईपीएल अनुबंध के कारण वे किसी को प्रभावित करने के लिए ऐसा कर रहे थे। अगर आप किसी भी खिलाड़ी से पूछेंगे तो वो यही कहेगा कि सीरीज बहुत-बहुत चुनौतीपूर्ण थी। मुझे नहीं पता ऐसा विचार कहां से आया।’

टीम एक बदलाव के दौर से गुजर रही थी

इसके बाद फिंच ने स्मिथ और वॉर्नर जैसे खिलाड़ियों का उस सीरीज में नदारद रहना भी वजह बताई। गौरतलब है कि गेंद से छेड़छाड़ विवाद के कारण स्टीव स्मिथ और डेविड वॉर्नर के निलंबन के बाद ऑस्ट्रेलियाई टीम की यह सिर्फ दूसरी टेस्ट श्रृंखला थी। फिंच ने कहा, ‘टीम एक बदलाव के दौर से गुजर रही थी और बहुत सारे खिलाड़ी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पहचान बनाने की कोशिश कर रहे थे। ये भारत के खिलाफ काफी मुश्किल है।’

इन भारतीय गेंदबाजों के सामने खेलना आसान नहीं

फिंच ने अपनी बात में दम भरते हुए आगे कहा, ‘किसी भी बल्लेबाज के लिए जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी, इशांत शर्मा, उमेश यादव, रवींद्र जडेजा और रविचंद्रन अश्विन जैसे गेंदबाजों का सामना करना आसान नहीं है। क्लार्क ने कहा कि हम अच्छा बनने की कोशिश कर रहे थे लेकिन सच्चाई ये है टीम के खिलाड़ी अपने खेल को बेहतर करना चाहते थे। वे अपने सर्वश्रेष्ठ तरीके से टेस्ट मैच खेलना चाहते थे।’

सबको सोचने व बोलने का हक है

इसके बाद फिंच ने अपने पूर्व कप्तान क्लार्क के बारे में कहा, ‘हर किसी को अपना विचार रखने का हक है। उन्होंने शायद (मैदान के) बाहर से कुछ देखा होगा जो हमने अंदर से नहीं देखा था।’ विराट की अगुवाई वाली टीम इंडिया ने उस सीरीज को 2-1 से जीता था जो कि ऑस्ट्रेलिया जमीन पर भारत की ऐतिहासिक सफलता थी। टीम इंडिया ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज जीतने वाली उपमहाद्वीप की पहली टीम बनी थी। इससे पहले ऑस्ट्रेलिया के टेस्ट कप्तान टिम पेन, तेज गेंदबाज पैट कमिंस और भारत के पूर्व बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण ने क्लार्क की इन टिप्पणियों को खारिज कर दिया था। अब देखना ये होगा कि आने वाले दिनों में जब भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया का दौरा करेगी और उनके पास स्टीव स्मिथ- डेविड वॉर्नर की जोड़ी भी होगी, तब उन स्थितियों में भारत कैसा प्रदर्शन करेगा।

अगली खबर