देश के शीर्ष अर्थशास्त्रियों के साथ पीएम मोदी ने की बैठक, थरूर ने पूछा-कहां हैं वित्त मंत्री

Narendra Modi meets top economists: आम बजट से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को देश के शीर्ष अर्थशास्त्रियों के साथ बैठक की। इस अहम बैठक में गृह मंत्री अमित शाह, केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल शामिल हुए।

PM Modi meets top economists of country Shashi Tharoor questions Nirmala Sitaraman absence, देश के शीर्ष अर्थशास्त्रियों के साथ पीएम ने की बैठक, थरूर ने पूछा-कहां हैं वित्त मंत्री
देश के शीर्ष अर्थशास्त्रियों के साथ पीएम मोदी की बैठक।  |  तस्वीर साभार: ANI

मुख्य बातें

  • वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण एक फरवरी को पेश कर सकती हैं आम बजट
  • आम बजट से पहले पीएम ने शीर्ष अर्थशास्त्रियों एवं उद्योगपतियों के साथ की बैठक
  • अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए आम बजट में हो सकती हैं कई अहम घोषणाएं

नई दिल्ली: आम बजट से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को देश के शीर्ष अर्थशास्त्रियों के साथ बैठक की। इस अहम बैठक में गृह मंत्री अमित शाह, केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल और नितिन गडकरी शामिल हुए। हालांकि, इस बैठक में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की गैर-मौजूदगी पर कांग्रेस ने सवाल उठा दिए। कांग्रेस ने कहा कि बजट पर महत्वपूर्ण बैठक लेकिन इसमें वित्त मंत्री शामिल नहीं हैं। पीएम ने हाल ही में देश के शीर्ष उद्योगपतियों के साथ भी बैठक की है।

कांग्रेस नेता शशि थरूर ने अपने एक ट्वीट में सवाल किया, 'वित्त मंत्री कहां हैं? अथवा पीएम और गृह मंत्री यह भूल गए हैं कि उनके पास एक वित्त मंत्री भी है?' बता दें कि सत्ता में दूसरी बार आने के बाद नरेंद्र मोदी सरकार अपना पहला आम बजट 1 फरवरी को पेश कर सकती है। इसे देखते हुए प्रधानमंत्री ने हाल के दिनों में देश के उद्योगपतियों एवं अर्थशास्त्रियों के साथ बैठकें की हैं और उनके सुझाव लिए हैं। 

बता दें कि देश की अर्थव्यवस्था को गति देने और उसे पटरी पर लाने की सरकार के सामने चुनौती है। पिछले 11 सालों में अर्थव्यवस्था के सबसे धीमी गति से विकास करने का अनुमान जताया गया है। इसके बाद से सरकार आर्थिक मोर्चे पर ज्यादा सक्रिय हो गई है। नीति आयोग में हुई इस बैठक में आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार, सीईओ अमिताभ कंत और अर्थव्यवस्था से जुड़े वरिष्ठ लोग शामिल हुए। 

सरकार वित्त वर्ष 2020-21 के लिए आगामी एक फरवरी को बजट कर सकती है। हालांकि, बजट पेश करने की तिथि के बारे में अभी आधिकारिक घोषणा नहीं हुई है। सरकार ने मौजूदा वित्तीय वर्ष में 5 प्रतिशत के विकास दर का अनुमान जताया है जो कि पिछले 11 वर्षों का सबसे निम्न स्तर है। हाल के वर्षों में उत्पादन एवं विनिर्माण क्षेत्रों में गिरावट आई है। समझा जाता है कि अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए वित्त मंत्री बजट में कई घोषणाएं कर सकती हैं।

 

अगली खबर