Budget Expectations for Startup & Technology: बजट 2020 से क्या चाहता है देश का स्टार्टअप और टेक्नोलॉजी सेक्टर

Budget Expectations: आम बजट पेश होने वाला है और हर किसी को इस बार के बजट से राहत की उम्मीद है। जानिए क्या चाहता है देश का स्टार्टअप और टेक्नोलॉजी सेक्टर।

Budget 2020 Expectations
Budget 2020 Expectations: क्या चाहता है स्टार्टअप सेक्टर 

नई दिल्ली: आम बजट 2020-21 एक फरवरी को पेश होने वाला है। इस बजट को कई मायनों में महत्वपूर्ण माना जा रहा है, क्योंकि इससे पहले आने वाले सभी आंकड़े अर्थव्यस्था में सुस्ती की पुष्टि कर रहे हैं। हाल में ही आईएमएफ (अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष)  ने सोमवार को भारत सहित वैश्विक आर्थिक वृद्धि परिदृश्य के अपने अनुमान को कम किया है। 

आरबीआई ने भी चालू वित्त वर्ष के लिए जीडीपी का अनुमान घटा दिया है। इससे बजट के विभिन्न सेक्टर की उम्मीदें बढ़ती जा रही हैं। स्टार्ट अप और टेक्नोलॉजी सेक्टर की बज 2020 से उम्मीदों पर Rapyder के सीईओ और को-फाउंडर, अमित गुप्ता ने बताया, 'भारत निसंदेह सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट हब बना रहेगा। सरकार कुछ अनुपालन में ढील दे सकती है, जो पहले भी जरूरी थे। यह एमएसएमई को भुगतान में देरी के मुद्दे को भी संबोधित करेगा।'

वस्तुओं और सेवाओं की मांग में इजाफा होने की उम्मीद

उन्होंने बताया, 'सरकार आने वाले बजट में व्यक्तिगत आयकर को कम कर सकती है। इस बात की उम्मीद है कि वस्तुओं और सेवाओं की मांग में इजाफा होगा, जिससे उपभोक्ता को खरीदने और खपत के लिए अधिक खर्च करना पड़ेगा।' स्ट्रेटा कंसल्टिंग के सह-संथापक शैलेश शाह ने बताया, ' हमें निर्यात और घरेलू खपत को बढ़ावा देना होगा, जिससे हम वर्तमान बजट को बैलेंस करने के लिए टैक्स से ऊपर उठकर सोच सकें।'

कई बड़े कदम उठाने की जरूरत

उन्होंने बताया कि दिवाला और दिवालियापन संहिता सही दिशा में एक कदम है, लेकिन इसकी तुलना में राष्ट्र को हजारों मामलों और खरबों रुपयों को हल करने की आवश्यकता है। एक राष्ट्र के रूप में, हमें मौद्रिक नीति के लिए प्रतिबद्ध होना चाहिए जो मुद्रास्फीति और ब्याज दरों को बड़े पैमाने पर विकास में श्रेणीबद्ध करने में मदद करेगी।

'आयुष्मान भारत का बड़ा लाभ मिला, बजट में कुछ ऐसा ही होना चाहिए'

Pristyn Care के सह-संस्थापक डॉ वैभव कपूर ने बताया, 'सरकारी अस्पतालों के मौजूदा बुनियादी ढांचे, अनुभवी सर्जनों और निजी क्षेत्र से नवीनतम तकनीक के साथ मिलकर यह सुनिश्चित करने के लिए लंबी दूरी तक जा सकते हैं इससे बड़ी आबादी को स्वास्थ्य के जानकारी दी जा सकती है, जो इससे दूर रहे हैं। आयुष्मान भारत के माध्यम से भारत में लेजर जनरल सर्जरी के सबसे बड़े और एकमात्र प्रदाता के रूप में हम पहले ही इस क्षेत्र में एक कदम बढ़ा चुके हैं। सरकार से इस बजट में ऐसी ही अन्य पार्टनरशिप की घोषणा की उम्मीद है।'

उन्होंने बताया कि टियर -1, टियर -2 और टियर -3 शहरों में कॉरपोरेट अस्पतालों के दायरे से परे नई इनवेसिव सर्जिकल टेक्नोलॉजी की पहुंच और सामर्थ्य बढ़ाने की कोशिश कर रहे स्टार्टअप के रूप में, हम सरकार के साथ साझेदारी से बहुत लाभ उठा सकते हैं। गैर-बैंकिग वित्तीय कंपनियों में दबाव और ग्रामीण भारत में आय वृद्धि को वजह बताते हुए आईएमएफ ने वृद्धि के अनुमान को कम किया है। मुद्राकोष के अनुसार 2019 में भारत की आर्थिक वृद्धि दर 4.8 प्रतिशत, 2020 में 5.8 प्रतिशत और 2021 में 6.5 प्रतिशत रह सकती है।

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर