इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने से मिलते हैं ये बड़े फायदे

बिजनेस
Updated Jul 18, 2019 | 13:39 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

जिन लोगों की सैलरी टैक्सेबल नहीं है उन लोगों को भी इनकम टैक्स फाइल करना चाहिए। इनकम टैक्स फाइल करने के ढेर सारे फायदे हैं। अब तो इसको भरना और भी आसान है।

Tax Return
इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने के फायदे।  |  तस्वीर साभार: Thinkstock

पहली बार इनकम टैक्स रिटर्न फ़ाइल करने वाले लोगों को, इनकम टैक्स रिटर्न फ़ाइल करना एक जटिल प्रक्रिया लगती है। लेकिन ऐसा नहीं है। रिटर्न फ़ाइल करने की प्रक्रिया को और ज्यादा आसान बनाने के लिए सरकार लगातार टैक्सपेयर फ्रेंडली प्रयास करती आ रही है। इसके बावजूद, कई टैक्सपेयर्स यह सोचकर अभी भी अपना इनकम टैक्स रिटर्न फ़ाइल नहीं करते हैं कि उनका इनकम टैक्सेबल नहीं है या वे इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की नजर में नहीं आएंगे। 

किन्हें अपना रिटर्न फ़ाइल करना चाहिए 
यदि आपका टैक्सेबल इनकम 2.5 लाख रुपए से अधिक है और आपकी उम्र 60 साल से कम है तो आपके लिए इनकम टैक्स रिटर्न फ़ाइल करना अनिवार्य है। 3 लाख रुपए और 5 लाख रुपए के टैक्सेबल इनकम वाले 60 और 80 साल से ऊपर के लोगों के लिए भी ऐसा करना अनिवार्य है। यदि आप एक भारतीय निवासी हैं और विदेश में आपकी संपत्ति है तो आपको भी अपना रिटर्न फ़ाइल करना पड़ेगा। 

इस साल के केन्द्रीय बजट में तरह-तरह की अन्य परिस्थितियों में रिटर्न फ़ाइल करना अनिवार्य बना दिया गया है जैसे एक फाइनेंशियल इयर में एक करंट अकाउंट में 1 करोड़ रुपए से ज्यादा पैसे जमा होने पर, या किसी विदेश की यात्रा पर उनका व्यक्तिगत खर्च 2 लाख रुपए से अधिक होने पर, या एक साल में 1 करोड़ रुपए से ज्यादा की बिजली का इस्तेमाल करने पर।

यदि एक व्यक्ति का टैक्सेबल इनकम 5 लाख रुपए से कम है तब भी उन्हें ऊपर बताई गई परिस्थितियों में रिटर्न फ़ाइल करना पड़ेगा। लेकिन, याद रखें कि इनकम टैक्स सम्बन्धी क़ानून में हुए ये बदलाव अगले फाइनेंशियल इयर से यानी 1 अप्रैल 2020 से लागू होंगे। 

यदि आपकी सैलरी, आवश्यक कटौतियों के बाद टैक्सेबल नहीं है तो भी आपको अपना रिटर्न फ़ाइल करना चाहिए। आइए देखते हैं कि अपना इनकम टैक्स रिटर्न फ़ाइल करने में क्या फायदा है: 

लोन मिलने में मदद मिलती है 
आपका इनकम टैक्स रिटर्न स्टेटमेंट पिछले फाइनेंशियल इयर में आपके इनकम और दिए गए टैक्स का एक रिकॉर्ड होता है। एक होम लोन या एक कार लोन देते समय, बैंक आपके द्वारा बताए गए इनकम की पुष्टि करने के लिए और आपकी लोन चुकाने की क्षमता का पता लगाने के लिए आपसे पिछले कुछ फाइनेंशियल इयर्स का ITR मांगते हैं। इसलिए यदि आपका इनकम टैक्सेबल नहीं है तब भी आपको अपना इनकम टैक्स रिटर्न फ़ाइल करना चाहिए यदि आप भविष्य में कोई लोन लेना चाहते हैं। 

अपने नुकसान को आगे बढ़ाने में मदद मिलती है 
ITR फ़ाइल करने से आपको एक फाइनेंशियल इयर में अपने नुकसान का उल्लेख करने का मौका मिलता है जिससे आपको अगले फाइनेंशियल इयर में नुकसान को आगे बढ़ाने या नुकसान पर छूट के लिए क्लेम करने में मदद मिलती है। आप अपना रिटर्न फ़ाइल किए बिना छूट के लिए क्लेम नहीं कर सकते हैं। भविष्य में, यदि आप शॉर्ट या लॉन्ग टर्म कैपिटल लॉस या स्पेक्यूलेटिव या नॉन-स्पेक्यूलेटिव लॉस के लिए छूट के लिए क्लेम करना चाहते हैं तो समय पर अपना रिटर्न फ़ाइल करें। 

टैक्स रिफंड की मांग कर सकते हैं 
ऐसा भी हो सकता है कि आपने अपने किसी इनकम पर एक्स्ट्रा टैक्स दे दिया हो। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट आपको आपके द्वारा दिए गए टैक्स पर रिफंड की मांग करने की इजाजत देता है लेकिन आप अपना रिटर्न फ़ाइल करके ही इसे क्लेम कर सकते हैं। 

वीज़ा प्रोसेसिंग में मदद मिलती है 
US, UK, कनाडा जैसे कई देश या यूरोपीय देश आपके वीज़ा एप्लीकेशन को प्रोसेस करने के लिए आपका ITR मांगते हैं। जैसा एक लोन के मामले में होता है, उसी तरह यहाँ भी ITR स्टेटमेंट की मदद से दूतावास को यह सुनिश्चित करने के लिए आपके इनकम और रोजगार की पुष्टि करने में मदद मिलती है कि आप यात्रा के दौरान अपने खुद के खर्च का ख्याल रखेंगे। इसलिए यदि आप बहुत जल्द विदेश की यात्रा पर जाने के बारे में सोच रहे हैं तो अपना रिटर्न जरूर फ़ाइल करें ताकि वीज़ा प्रोसेसिंग में आसानी हो। 

हाई वैल्यू लाइफ कवर पाने में मदद मिलती है 
50 लाख रुपए या उससे बड़ी रकम वाला लाइफ कवर खरीदने के लिए आपको अपना ITR दिखाना पड़ेगा। यदि आपको हाई टर्म कवरेज की जरूरत है तो यह आपके लिए एक इनकम प्रूफ की तरह काम करता है। 

उपरोक्त बातों के अलावा, इनकम टैक्स रिटर्न फ़ाइल करने से उन लोगों को फायदा होता है जिन्हें फॉर्म 16 नहीं मिलता है। यह स्वरोजगार करने वाले लोगों, उद्यमियों और पार्टनर कंपनियों के लिए एक इनकम प्रूफ की तरह काम करता है।

(आदिल शेट्टी, सीईओ, बैंक बाजार)

(डिस्क्लेमर: ये लेख सिर्फ जानकारी के उद्देश्य से लिखा गया है। इसको निवेश से जुड़ी, वित्तीय या दूसरी सलाह न माना जाए। आप कोई भी फैसला लेने से पहले वित्तीय सलाहकार की मदद जरूर लें।)

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर