कोविड के दौरान जिन्होंने SIP को जारी रखा, वे हो गए मालामाल

कोरोना वायरस महामारी के दौरान बाजार क्रैश हुआ। जिन्होंने इक्विटी म्यूचुअल फंड एसआईपी में निवेश जारी रखा। उन्होंने काफी पैसा प्राप्त किया।

Those who continued SIP during Covid-19 became rich
एसआईपी में बेहतर रिटर्न मिला  |  तस्वीर साभार: Thinkstock

मुख्य बातें

  • औसतन निवेशकों ने 5 साल की अवधि के लिए अपने एसआईपी पर 13-14% का वार्षिक रिटर्न अर्जित किया है
  • तीन वर्षों में रिटर्न 17-19% से भी अधिक मिला
  • लार्ज कैप फंड्स से 3 साल का CAGR रिटर्न अब 17.65% है

कोरोना वायरस महामारी की वजह से बाजार में आई मंदी के दौरान जिन्होंने अपने इक्विटी म्यूचुअल फंड एसआईपी को जारी रखा। अब उसका पुरस्कार प्राप्त कर रहे हैं। औसतन निवेशकों ने 5 साल की अवधि के लिए अपने एसआईपी पर 13-14% का वार्षिक रिटर्न अर्जित किया है। जबकि इकोनॉमिक टाइम्स ने वैल्यू रिसर्च डेटा का हवाला देते हुए एक रिपोर्ट में उल्लेख किया कि तीन वर्षों में, रिटर्न 17-19% से भी अधिक है। लार्ज कैप फंड्स से 3 साल का CAGR रिटर्न अब 17.65% है, जबकि बड़े और मिडकैप फंड्स का पिछले तीन सालों में औसतन 16.69% रिटर्न मिला है। स्मॉल कैप फंडों ने इसी अवधि में और भी अधिक दिया है।

महामारी के दौरान बाजार क्रैश हुआ। जिसकी वजह से कई अधीर निवेशकों ने अपने एसआईपी को बेतरतीब ढंग से बंद कर दिया था। बाजार में और गिरावट आएगी। उन निवेशकों ने पैसा खत्म कर दिया। एसआईपी एक रणनीति है जिसमें आपको रुपए की औसत लागत का लाभ मिलता है। प्लान रुपी के फाउंडर अमोल जोशी के अनुसार जब बाजार गिरता है तो निवेश के उद्देश्य को धक्का लग सकता है।

वेल्थ मैनेजर का भी मानना है कि किसी लक्ष्य के लिए पैसा जमा करने में एसआईपी एक अच्छा साधन है, लेकिन निवेशकों को अपने दिमाग में यह प्लान रखकर इन पर अमल करना चाहिए। उन्हें इन निवेशों से बाहर निकलने की जरूरत है जब वे अपने लक्ष्य तक पहुंचते हैं, भले ही इसका मतलब पूंजी की रक्षा के लिए जल्दी बाहर निकलना हो।

अमफी से प्रमाणित म्यूचुअल फंड डिस्ट्रीब्यूटर रूषभ देसाई ने कहा कि अपने एसआईपी के साथ पहुंचने के लिए आप जो लक्ष्य तय करते हैं, उसमें 6-12 महीने का समय बफर टाइम जोड़ना आवश्यक होता है ताकि आप सुरक्षित रूप से पैसे निकाल सकें। 10-वर्षीय लक्ष्य की योजना बनाते समय, निवेशकों के पास यह बफर अवधि होनी चाहिए जहां वे विड्रा कर सकते हैं। पिछले तीन-से-पांच वर्षों में, कई पहली बार निवेश करने वालों ने अपने वित्तीय लक्ष्यों को पूरा करने के लिए एसआईपी का रास्ता अपनाया है। भारतीय म्यूचुअल फंड में वर्तमान में करीब 34.1 मिलियन एसआईपी खाते हैं।

एसआईपी में मुद्रास्फीति मार्च 2020 में 8,500 करोड़ रुपए प्रति माह से घटकर नवंबर 2020 में करीब 7,800 करोड़ रुपए प्रति माह हो गई। निवेशकों ने एसआईपी के जरिये कुल 1 लाख करोड़ रुपए डाले हैं, जबकि पहले आठ महीनों में चालू वित्त वर्ष में, उन्होंने 62,929 करोड़ रुपए जोड़े हैं।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर