प्राइवेट ऑपरेटर्स के हाथ में होगी 150 और ट्रेनों की कमान, जल्द शुरू होगी बोली की प्रक्रिया

बिजनेस
Updated Dec 13, 2019 | 12:59 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

Railway Privatisation: नई प्राइवेट ट्रेनों को लेकर रेलवे के अधिकारियों और रेल मंत्री के बीच बैठक हुई है। इस बैठक में विभिन्न रूट्स पर 150 नई प्राइवेट ट्रेनों के परिचालन को लेकर बातचीत हुई है।

Railway Privatisation
Railway Privatisation: 150 नई प्राइवेट ट्रेनों के परिचालन को लेकर हुई बैठक  |  तस्वीर साभार: BCCL

नई दिल्ली: कुछ वक्त पहले ही आईआरसीटीसी ने तेजस एक्सप्रेस ट्रेन (प्राइवेट) का परिचालन शुरू किया है, इसके बाद 150 अन्य ट्रेनों को प्राइवेट परिचालकों के हाथ में सौंपने की खबर आई थी। इस संबंध में 8-9 दिसंबर को एक उच्चस्तरीय बैठक हुई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस बैठक में केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ब्यूरोक्रेट्स से 150 नए रूट्स की योजना तैयार करने को कहा है।

इन पर दुरंतों, तेजस और राजधानी जैसी ट्रेन का परिचालन हो रहा है। इन रूट्स पर प्राइवेट कंपनियां नई ट्रेनों का परिचालन करेंगी। इनमें से 30 ट्रेनें सेंट्रल और वेस्टर्न रेलवे पर मुंबई से चलेंगी। इन प्राइवेट ट्रेनों को मुंबई-अहमदाबाद और दिल्ली-लखनऊ तेजस एक्सप्रेस ट्रेन के तर्ज पर चलाया जाएगा। जिनका परिचालन आईआरसीटीसी द्वारा किया जाएगा।

सूत्रों के आधार पर लिखी गई रिपोर्ट में बताया गया है कि बैठक में नए रूट्स पर चर्चा हुई है, जिनकी जानकारी जल्द ही जारी की जाएगी। प्राइवेट ऑपरेटर्स इन रूट पर ट्रेन का किराया और खाने की कीमत तय करेंगे। इसके साथ ही इन रूट्स पर चलने वाली ट्रेनों के यात्रियों को, पैसेंजर का लगेज घर पहुंचाने की सुविधा भी प्रदान की जाएगी। इन ट्रेनों को रूट्स पर प्राथमिकता दी जाएगी, जिससे ये अपने तय समय से पहुंच सकें। 

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन विनोद कुमार यादव ने बताया, 'हम अगले महीने इन 150 ट्रेनों के लिए बोली की प्रक्रिया शुरू करेंगे।' उन्होंने बताया कि चूंकि देश में ऐसा पहली बार हो रहा है इसलिए बोली की प्रक्रिया में वक्त लगेगा। दुनिया में इस सिस्टम पर पहले से इस्तेमाल होता आ रहा है। ये पूरी प्रक्रिया दो हिस्सों में पूरी होगी। पहले प्राइवेट बिडर्स को बोली लगाने के लिए बुलाया जाएगा।

इसके बाद उनसे प्रस्ताव मंगाए जाएंगे। इस प्रक्रिया को पूरा होने में 6 महीने लग जाएंगे। प्रस्ताव मिलने के बाद रेवेन्यू और रूट पर चर्चा होगी। अधिकारियों ने बताया कि मुंबई वाली ट्रेन छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनल, मुंबई सेंट्रल, कुर्ला एलटीटी और बांद्रा टर्मिनल से चलेगी। इन ट्रेनों के चलने का प्रभाव पहले से चल रही ट्रेनों पर नहीं पड़ेगा। 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर