अलग अंदाज में डीजेजीएम का नवां संस्करण , 'आभूषणों के प्रति रुचि बढ़ाने के लिए प्रचार की जरूरत'

दिल्ली के प्रगति मैदान में ज्वैलरी और जेम फेयर में इस बात पर बल दिया गया कि आभूषणों के प्रति लोगों में रुचि बनाए रखने के लिए अधिक से अधिक प्रचार की जरूरत है।

Delhi Jewelery And Gem Fair, Informa Market,Jewelry And Gem Market In India,
अलग अंदाज में डीजेजीएम का नवां संस्करण , 'आभूषणों के प्रति रुचि बढ़ाने के लिए प्रचार की जरूरत' 

मुख्य बातें

  • इस तरह के आयोजन से उत्तर भारत के सैकड़ों एग्जिबिटरों को मदद मिलेगी-दुष्यंत चौटाला
  • इनफॉर्मा मार्केट की ओर से आयोजित उत्तर भारत के सबसे बड़े ज्वेलरी एंड जेम्स एक्सपो के नवें संस्करण का शानदार आगाज
  • एक्सपो में 200 एक्जीबिटर, 850 ब्रांड तथा 15,000 से अधिक डिजाइन की प्रदर्शनी

नई दिल्ली। प्रगति मैदान में इनफॉर्मा मार्केट की ओर से महामारी के बाद से पहला ज्वेलरी एक्सपो लगा, जिसमें उत्तर भारत के तमाम आयात और निर्यात से जुड़े कारोबारी शामिल हुए। इस एक्सपो में 200 एक्जीबिटर ने डिस्प्ले लगाया और 850 ब्रांड तथा 15,000 से अधिक आकर्षित करने वाले डिजाइन शामिल थे। 3 दिन तक चलने वाले एक्सपो के पहले दिन लोगों में ज्वेलरी और जेम्स के प्रति काफी रुचि दिखी। आयोजित उत्तर भारत के सबसे बड़े ज्वेलरी एंड जेम्स एक्सपो के नवें संस्करण का शानदार आगाज हुआ। इसकी शुरुआत मुख्य अतिथि के तौर पर सत्येंद्र जैन, स्वास्थ्य मंत्री दिल्ली सरकार, दुष्यंत चौटाला, उपमुख्यमंत्री हरियाणा सरकार, पी के गुप्ता, एडीशनल चीफ सेक्रेट्री दिल्ली सरकार, आशीष पेठे, चेयरमैन ऑल इंडिया जेम एंड  ज्वेलरी, योगेश मुद्रास, मैनेजिंग डायरेक्टर, इनफॉर्मा मार्केट, योगेश सिंगल प्रेसीडेंट टीबीजेए, पल्लवी मेहरा, ग्रुप डायरेक्टर, इनफॉर्मा मार्केट ने दीप प्रज्वलित करके किया।

हरियाणा सरकार पूर्ण रूप से करेगी सहयोग
दिल्ली ज्वैलरी एंड जेम फेयर में उपस्थित हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा, "इस तरह के आयोजन से उत्तर भारत के सैकड़ों एग्जिबिटरों को मदद मिलेगी। भारतीय आभूषण और रत्न उद्योग ने एक उल्लेखनीय छाप छोड़ी है और सरकार इसका समर्थन करती है। आगे  उन्होंने भारतीय आभूषण और रत्न उद्योग को हरियाणा राज्य में भी आमंत्रित किया और वादा किया कि राज्य सरकार इस क्षेत्र में संपूर्ण बुनियादी ढांचे की स्थापना के लिए कई एकड़ भूमि प्रदान करने के लिए कहा।

 आभूषण के प्रति लोगों के रुझान के लिए प्रचार की आवश्यकता
सत्येंद्र जैन, स्वास्थ्य मंत्री, दिल्ली सरकार, ने कहा कि हमारा हमारा उद्देश्य होना चाहिए कि आभूषण के प्रति लोगों के रुझान को ज्यादा से ज्यादा प्रचारित किया जाए।  भारतीय आभूषण और रत्न उद्योग सकल घरेलू उत्पाद में 4-7.5% तक योगदान देता है देश के निर्यात में 14% योगदान देता है। उन्होंने उस उद्योग को बढ़ावा देने पर भी ध्यान केंद्रित किया जो वर्तमान में देश भर में 5 मिलियन से अधिक कुशल मजदूरों को रोजगार देता है।

डीजेजीएफ की भौतिक स्वरूप में वापसी पर बोलते हुए, श्री योगेश मुद्रा, प्रबंध निदेशक, इंफॉर्मा मार्केट्स इन इंडिया ने कहा, “भारत में कई दशकों से रत्न और आभूषण की लोकप्रियता को कोई चुनौती नहीं दी गई है।  नए सामान्य रूप में व्यवसायों और प्रदर्शनियों के फिर से शुरू होने के साथ, जैसे ही हम त्योहारी तिमाही और शादियों के मौसम में प्रवेश करते हैं, इंडस्ट्री फिर से उसी जोश के साथ वापसी करने के लिए उत्सुक है।  भारत में उपभोक्ताओं को कीमती गहनों के मालिक होने पर गर्व है, युवाओं के लिए निवेश के रूप में सोना खरीदना, जो बीस्पोक डिजाइन, मौसमी ट्रेंडिंग स्टाइल की तलाश में हैं, और ओमनी-चैनल खरीदारी के अनुभवों में लिप्त हैं - डिजिटल रूप से और साथ ही ईंट-और-मोर्टार स्टोर से खरीदारी करना आज आभूषण बनाने की कला उन्नत हो गई है और विभिन्न युगों की संस्कृति और शिल्प कौशल का प्रतिनिधित्व करती है।"

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर