5G नेटवर्क के खिलाफ कोर्ट पहुंची जूही चावला, बोलीं- जीव-जन्तु से साथ-साथ मानव के लिए भी खतरनाक

देश में 5G वायरलेस नेटवर्क स्थापित करने के खिलाफ अभिनेत्री जूही चावला कोर्ट पहुंच गई हैं। उन्होंने कहा कि यह जीव-जन्तु, वनस्पति के साथ-साथ मानव के लिए भी खतनाक है।

Juhi Chawla reached court against 5G network, Said- it is dangerous for humans along with animals
अभिनेत्री जूही चावला 

मुख्य बातें

  • देश में 5G वायरलेस नेटवर्क स्थापित करने के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट पहुंची
  • 2 जून को मामले की सुनवाई होगी
  • उन्होंने कहा कि कोई भी व्यक्ति, जानवर, पक्षी, कीट के लिए 5जी का रेडिएशन खतरनाक है

नई दिल्ली: अभिनेत्री जूही चावला, जो एक पर्यावरण कार्यकर्ता भी हैं। उन्होंने सोमवार को देश में 5G वायरलेस नेटवर्क स्थापित करने के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया, जिसमें नागरिकों, जानवरों, वनस्पतियों और जीवों पर विकिरण के प्रभाव से संबंधित मुद्दों को उठाया गया। न्यायमूर्ति सी हरि शंकर, जिनके समक्ष मामला सुनवाई के लिए आया। उन्होंने 2 जून को सुनवाई के लिए मामले को दूसरी पीठ को स्थानांतरित कर दिया।

जूही चावला ने कहा कि अगर 5G के लिए दूरसंचार इंडस्ट्री की योजनाएं पूरी होती हैं, तो कोई भी व्यक्ति, कोई जानवर, कोई पक्षी, कोई कीट और कोई भी पौधा पृथ्वी पर 24 घंटे, साल में 365 दिन जोखिम से बचने में सक्षम नहीं होगा। आरएफ रेडिएशन जो आज मौजूद है उससे 5जी का रेडिएशन 10 से 100 गुना अधिक होता है।

उन्होंने कहा कि हम तकनीकी प्रगति के कार्यान्वयन के खिलाफ नहीं हैं। इसके विपरीत, हम लेटेस्ट प्रोडक्ट का उपयोग करने का आनंद लेते हैं जो कि टैक्नोलॉजी वर्ल्ड को पेश करना है, जो वायरलेस संचार के क्षेत्र में भी शामिल है। हालांकि, बाद के उपकरणों का उपयोग करते समय, हम निरंतर दुविधा में रहते हैं, क्योंकि वायरफ्री गैजेट्स और नेटवर्क सेल टावरों से आरएफ रेडिएशन के बारे में हमारे रिसर्च और अध्ययन बताते हैं कि हमारे पास यह मानने का पर्याप्त कारण है कि रेडिएशन अत्यंत हानिकारक है और लोगों के स्वास्थ्य और सुरक्षा के लिए हानिकारक है।

अधिवक्ता दीपक खोसला के माध्यम से दायर मुकदमे में अधिकारियों को बड़े पैमाने पर जनता को प्रमाणित करने के लिए निर्देश देने की मांग की गई कि 5G टैक्नोलॉजी मानव जाति, पुरुष, महिला, वयस्क, बच्चे, शिशु, जानवरों और हर प्रकार के जीवों, वनस्पतियों के लिए सुरक्षित है। 
 

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर