अगले एक महीने में 6 कंपनियों के आईपीओ आने वाले हैं

बिजनेस
Updated Jul 18, 2019 | 16:34 IST | टाइम्स नाउ डिजिटल

शेयर बाजार में एक बार फिर आईपीओ की बहार आ सकती है। जुलाई और अगस्त में कम से कम 6 कंपनियां आईपीओ की योजना के साथ तैयार हैं। यहां जानिए कौन सी कंपनी आईपीओ से कितनी रकम जुटा सकती है।

IPO
आईपीओ के बाजार में एक बार फिर बहार की उम्मीद।  |  तस्वीर साभार: BCCL

नई दिल्ली: अगर आप आईपीओ में निवेश करने का मन बना रहे हैं तो अगले एक महीने में कई कंपनियों के आईपीओ आने वाले हैं। ये कंपनियां आईपीओ से 10 हजार करोड़ रुपए जुटाने वाली हैं।

इन कंपनियों में स्टर्लिंग एंड विल्सन सोलर, एएसके इन्वेस्टमेंट मैनेजर्स, स्पंदना स्फूर्ती फाइनेंशियल, एफले इंडिया, एजीएस ट्रांसेक्ट टेक, मझगांव डॉक शिपबिल्डर्स जैसी कंपनियां आईपीओ की तैयारी कर रही हैं। 

रिपोर्ट के मुताबिक ये कंपनियां अगस्त में आईपीए के लिए रोड शो करेंगी। 2019 आईपीओ बाजार के लिए बहुत खराब रहा। 2019 के पहले 6 महीने में सिर्फ 8 कंपनियों के आईपीओ आए। इन कंपनियों ने बाजार से सिर्फ 5,509 करोड़ रुपए जुटाए। वहीं साल 2018 में आईपीओ से 24 कंपनियों ने 30960 करोड़ रुपए जुटाए हैं। वहीं 2017 में 36 कंपनियों ने आईपीओ से 67200 करोड़ रुपए जुटा लिए थे।

आईआईएफएल कैपिटल में इन्वेस्टमेंट बैंकिंग के प्रमुख निपुण गोयल के मुताबिक सेबी के पास 50 से ज्यादा डीआरएचफी फाइल हैं। अगर अगले कुछ आईपीओ अच्छे से ट्रेड हुए तो आने वाले समय में ज्यादा आईपीओ और क्यूआईपी आ सकते हैं।

इन कंपनियों में शॉपूरजी पालोनजी ग्रुप की कंपनी स्टर्लिंग एंड विल्सन सोलर की आईपीओ से 4500 करोड़ रुपए जुटाने की योजना है। कंपनी ये रकम ऑफर फार सेल के जरिए जुटाएगी। मुंबई के एएसके इन्वेस्टमेंट मैनेजर्स का आईपीओ जुलाई के अंत में खुल सकता है। इस कंपनी की 1500 करोड़ रुपए जुटाने की योजना है। इस कंपनी के प्रोमोटर समीर कोटीचा है।

सरकारी कंपनी मझगांव डॉक शिपबिल्डर्स कंपनी 650 करोड़ रुपए जुटा सकती है। मझगांव शिपयार्ड कंपनी है। ये कंपनी 2.24 करोड़ शेयर बेचेगी। इस कंपनी में सरकार 10 फीसदी हिस्सा बेचेगी।

पिछले महीने इंडियामार्ट ने आईपीओ से 475 करोड़ रुपए जुटाए थे। इस कंपनी का आईपीओ 36 गुना सब्सक्राइब हुआ था। ये शेयर 4 जुलाई को 21 फीसदी प्रीमियम के साथ लिस्ट हुआ था।

एक और कंपनी एफल की भी आईपीओ से 500 करोड़ रुपए जुटाने की योजना है। ये कंज्यूमर इंटेलीजेंस कंपनी है। इसके पीछे माइक्रोसॉफ्ट कंपनी है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सेबी से लिस्टेड कंपनियों में पब्लिक शेयर होल्डिंग 25 फीसदी से बढ़ाकर 35 फीसदी करने के लिए कहा था।

इस साल बाजार में तेजी है लेकिन कंपनिया आईपीओ नहीं ला रही हैं। दरअसल पहली छमाही में लोकसभा चुनाव होने के कारण शेयर बाजार में अनिश्चितता थी इस कारण कोई बड़ी कंपनी बाजार में उतरना नहीं चाहती थी। अब ये अनिश्चितता नहीं है इसलिए बाजार की हालत देखकर कंपनिंया आईपीओ की योजना बना रही हैं।

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर