INR USD: रुपया 2019 में पहली बार डॉलर के मुकाबले 72 के पार पहुंचा

बिजनेस
Updated Aug 23, 2019 | 12:10 IST | भाषा

रुपया 2019 में पहली बार डॉलर के मुकाबले 72 के पर आ गया है। डॉलर के मजबूत होने से रुपए में लगातार कमजोरी आ रही है। दूसरी तरफ शेयर बाजारों में गिरावट जारी है।

INR USD
रुपया लगातार कमजोर हो रहा है। 

मुंबई: घरेलू शेयर बाजारों में गिरावट तथा विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) की जारी निकासी के कारण शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में रुपया गिरकर 72 रुपए प्रति डॉलर के स्तर के नीचे आ गया। 

शुरुआती कारोबार में रुपया 22 पैसे गिरकर नौ महीने के निचले स्तर 72.03 रुपए प्रति डॉलर पर रहा। बृहस्पतिवार को रुपया 71.81 रुपए प्रति डॉलर पर बंद हुआ था।
कारोबारियों ने कहा कि विदेशी बाजारों में डॉलर में तेजी तथा एफपीआई की निकासी का रुपए पर दबाव रहा। प्रारंभिक आंकड़ों के अनुसार, एफपीआई ने बृहस्पतिवार को घरेलू बाजार से करीब 900 करोड़ रुपए की शुद्ध निकासी की। 

दूसरी तरफ सुस्ती से जूझ रहे औद्योगिक क्षेत्रों के लिये सरकार से राहत पैकेज मिलने की उम्मीदें क्षीण होने से शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 345 अंक टूट गया। हालांकि बाद में जब सूत्रों के हवाले से खबर आई की FPI पर से सरचार्ज हटाया जा सकता है तो सेंसेक्स रिकवर हो गया। 11.30 बजे के बाद सेंसेक्स और निफ्टी हरे निशान में ट्रेड करने लगे। 

बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स शुरुआती कारोबार में 345.55 अंक यानी 0.95 प्रतिशत की गिरावट के साथ 36,127.38 अंक पर चल रहा था। निफ्टी भी 94.30 अंक यानी 0.88 प्रतिशत गिरकर 10,647.05 अंक पर चल रहा था। सरकार के द्वारा परोक्ष तौर पर राहत पैकेज से मना करने के बाद एफएमसीजी, वाहन, बैंकिंग और वित्तीय कंपनियों में भारी बिकवाली देखने को मिली। 

सेंसेक्स की कंपनियों में मारुति सुजुकी, आईटीसी, बजाज फाइनेंस, रिलायंस इंडस्ट्रीज, एचडीएफसी बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक, एक्सिस बैंक, भारतीय स्टेट बैंक और इंडसइंड बैंक में 2.27 प्रतिशत तक की गिरावट रही। शुरुआती आंकड़ों के अनुसार, बृहस्पतिवार को विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने 900 करोड़ रुपए की शुद्ध बिकवाली की।

अगली खबर