जीएसटी के ऑफलाइन टूल ANX-1 और ANX-2 का ऐसे उपयोग करें

जीएसटी के रिटर्न के लिए ऑफलाइन टूल लॉन्च किया गया है। ये अभी ट्रायल वर्जन है। इस नए टूल के जरिए कारोबारियों को कई नई तरह की सुविधाएं मिलेंगी। यहां जानिए आप इसका कैसे उपयोग कर सकेंगे।

GST
जीएसटी रिटर्न के लिए नई सुविधा।  |  तस्वीर साभार: BCCL

नई दिल्ली: कारोबारियों को रिटर्न भरने में सुविधा हो इसलिए जीएसटीएन ने जीएसटी फॉर्म का ऑफलाइन टूल लॉन्च किया है। ये टूल जीएसटी एएनएक्स-1 और जीएसटी एएनएक्स 2 है। सप्लाई का अर्थ है बिक्री मतलब इसकी जानकारी ANX-1 में देनी है वहीं खरीद की जानकारी ANX-2 में देनी है।

सबसे पहली बात ये है कि ये टूल ट्रायल वर्जन है आप जो भी डेटा इसमें डालेंगे अंतिम वर्जन आने पर पुराना सारा डेटा हट जाएगा। ये नए फॉर्म जीएसटी रिटर्न फाइलिंग सिस्टम का हिस्सा होंगे। इसके तहत करदाता को फॉर्म GST RET-1, फॉर्म GST RET-2 (सहज) और फॉर्म जीएसटी RET-3 (सुगम) भरने होंगे। इस ऑफलाइन टूल को डाउनलोड कर रिटर्न भरा जा सकेगा। 

सभी आउटवर्ड सप्लाई जीएसटी के ANX-1 में आएगी वहीं सभी इनवर्ड सप्लाई जीएसटी ANX-2 में आएंगी। इसें फॉर्म GSTR-5 और GSTR-6 फॉर्म की पूरी जानकारी भी होगी। 

इस पूरी कवायद का मकसद ये है कि करदाता जीएसटी रिटर्न के नए सिस्टम से पूरी तरह वाकिफ हो जाए। इसके अलावा इस पर उनके फीडबैक और सलाह भी मिल जाएगी। GSTN ने कहा है कि सभी टैक्सपेयर्स इन नए टूल्स का उपयोग करें और उनका फीडबैक दें। कुछ जगहों पर यूजर्स को बीटा लिखा दिखेगा। 

इन टूल का उपयोग कर कारोबारी परचेस रजिस्टर के लिए कर सकेंगे। जिसका उपयोग परचेस रजिस्टर का डेटा इंपोर्ट करने में किया जाता है। इस टूल को कैसे उपयोग करना है इसकी विस्तृत जानकारी 'हेल्प' सेक्शन में दी गई है।

इस नई सुविधा से कारोबारी पोर्टल पर लॉगिन कर नए टूल का उपयोग करते हुए JSON फाइल बना सकेंगे। ट्रायल वर्जन में कुछ सुविधाएं नहीं दिखाई देंगी। जैसे कि रिसिपियंट टैक्सपेयर्स का अपलोड किया हुए डेटा सप्लायर टैक्सपेयर्स को नहीं मिलेगा। बाद में ये उपलब्ध होगा।

जीएसटी के नए ऑफलाइन टूल का उपयोग करके ही ANX-1/2 में JSON फाइल बना सकेंगे। इस तरह से डेटा अपलोड करने पर जीएसटी पोर्टल आपके लिए लायबिलिटी नहीं बनेगी। ये डेटा अलग रहेगा और आपको और आपके सप्लायर्स बायर को भी दिखेगा। 

ट्रायल पीरियड खत्म होने के बाद ये पूरा डेटा ANX1/ANX2 से हटा दिया जाएगा। इसका कोई भी हिस्सा पोर्टल में नहीं रहेगा। आप अपना फीडबैक https://selfservice.gstsystem.in/ पर जाकर दे सकेंगे।

जीएसटी के रिटर्न फॉर्म भरने की प्रक्रिया को आसान करने के लिए लगातार कई कदम उठाए जा रहे हैं। अगर ये ट्रायल वर्जन सफल हुआ तो कारोबारियों की सुविधा और बढ़ जाएगी।

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर