Home insurance policy: घर के बीमा के लिए अनेकों पॉलिसी, जानें कौन आप के लिए हो सकता है बेहतर

बिजनेस
ललित राय
Updated Jul 18, 2020 | 13:13 IST

Home insurance policy types: जब हम लाखों का घर खरीदते हैं तो उस घर के इंश्योरेंस की सलाह दी जाती है। यहां पर हम आपको बताएंगे कि कौन सी पॉलिसी का चुनाव आप कर सकते हैं।

Home insurance policy: घर के बीमा के लिए अनेकों पॉलिसी के ऑफर, जानें कौन आप के लिए हो सकता है बेहतर
होम इंश्योरेंस पॉलिसी आज की सबसे बड़ी जरूरत 

मुख्य बातें

  • होम इंश्योरेंस के लिए बाजार में कई तरह की पॉलिसी की सुविधा
  • प्राकृतिक और मानव जनित आपदा से निपटने के लिए होम इंश्योरेंस की दी जाती है सलाह
  • रीइंस्टेटमेंट बीमा को जानकारों ने बताया बेहतर

अपना आशियाना हो यह हर एक शख्स का सपना होता है। हाड़तोड़ मेहनत के बाद किसी तरह जब लोग अपना घरौंदा बना लेते हैं तो फिक्र यह होती है कि कुछ ऐसा इंतजाम हो ताकि किसी अनहोनी के समय घर से हाथ न धोना पड़े। इसे ध्यान में रखते हुए अब बीमा कंपनियां घरों का भी बीमा कर रही हैं। ऐसे में किसी भी खरीदार के सामने यह मुश्किल आ सकती है कि कौन सी बीमा कंपनी उसके पॉकेट का ख्याल करते हुए घर को सुरक्षित रखेगी। अगर देखा जाए तो होम इंश्योरेंस भी एक तरह का निवेश है। सामान्य तौर पर लोग घरों का बीमा कराने से बचते हैं। लेकिन ऐसे इलाके जहां पर प्राकृतिक आपदा यानि बाढ़, भूकंप की संभावना ज्यादा होती है वहां बीमा कराने की जरूरत बढ़ जाती है। 

हाल ही में दिल्ली, मिजोरम समेत देश के अलग अलग हिस्सों में भूकंप ने दस्तक दी थी। ऐसे में इन इलाकों में रहने वालों के लिए होम इंश्योरेंस एक अनिवार्य जरूरत है। यहा पर हम होम इंश्योरेंस पॉलिसी को विस्तार से बताएंगे। होम इंश्योरेंस पॉलिसी में न केवल घर के स्ट्रक्तर बल्कि घर में रखे सामानों की भी हिफाजत का भरोसा दिया जाता है। इसके तहत न केवल प्राकृतिक आपदा बल्कि मानव जनित यानि की चोरी, लूट, दंगे या आतंकवाद से हुए नुकसान की भी भरपाई की जाती है। बाजार में इस समय अलग अलग होम इंश्योरेंस पॉलिसी मौजूद हैं जिसका फायदा उठाया जा सकता है।



रीइंस्टेटमेंट वैल्यू इंश्योरेंस(Reinstatement Value insurance)
यह एक सामान्य सुविधा ग्राहकों को इंश्योरेंस कंपनियों की तरफ से मुहैया कराई जाती है। रीइंस्टेटमेंट वैल्यू की गणना मकान के बिल्ट अप एरिया और मकान की मौजूदा कीमत के आधार पर की जाती है। 
पालिसी बाजार.कॉम में एसएमई और होम इंश्योरेंस के बिजनेस हेड संजय सिंह चौहान कहते हैं कि रिइंस्टेटमेंट कवर के लिए बीमा कंपनी दावे के समय जो वास्तविक कीमत होती है उसे अदा करती है। अदा की जाने वाली कीमत इंश्योर्ड रकम से कम हो सकती है लेकिव किसी भी पॉलिसी में जो तय राशि है उससे अधिक नहीं हो सकती है। 

बाजार भाव( क्षतिपूर्ति कीमत) बीमा(Market Value (Indemnity Value) insurance
बाजार भाव या इंडेमनिटी वैल्यू के आधार पर जब बीमा कराया जाता है तो उसमें संपत्ति की उम्र के हिसाब से डेप्रशिएशन को भी काउंट किया जाता है। 

एग्रीड वैल्यू इंश्योरेंस (Agreed value insurance)
ज्यादातक लोगों को मार्केट और रीइंस्टेटमेंट वैल्यू के बारे में पता होता है लेकिन इन दोनों के अलावा तीसरे तरह का भी बीमा कवर बाजार में मौजूद है और उसे एग्रीड वैल्यू इंश्योरेंस के नाम से जानते हैं। अग्रीड वैल्यू पर अपने घर का बीमा करवाने का अर्थ है कि बीमा पॉलिसी खरीदने के समय बीमा कंपनी द्वारा सहमति दी गई संपत्ति या सामग्री के मूल्य पर बीमाकर्ता द्वारा नुकसान का निपटान किया जाएगा।

चौहान बताते हैं कि सहमत मूल्य में, हम बीमा राशि को संपत्ति के वास्तविक बाजार मूल्य तक ले सकते हैं। दावे पर, बीमा कंपनी बीमा राशि का भुगतान करेगी, और ग्राहक तय कर सकते हैं कि वे प्रभावित निर्माण करना चाहते हैं या नहीं।

कौन सी पॉलिसी हो सकती है बेहतर

आदर्श अग्रवाल, डिजिट इंश्योरेंस में नियुक्त एक्चुअरी का कहना है कि पुनर्स्थापना राशि के साथ बीमा करना बेहतर है क्योंकि ऐसे मामले में आप किसी भी नुकसान के लिए कवर होते हैं जो आपके घर या सामग्री को हो सकता है और इसमें कोई अतिरिक्त या छिपी हुई लागत नहीं होगी। '

चौहान के मुताबिक बीमित राशि की घोषणा के समय, ग्राहक को बाजार मूल्य को मानने या उसका मूल्यांकन करने और उसे बीमित राशि के रूप में चुनने की आवश्यकता है। बीमा कंपनियां दावे के समय बाजार मूल्य पर भुगतान करती हैं, लेकिन यह कभी भी बीमित राशि से अधिक नहीं हो सकती है। 

सिंगल फ्लैट मालिकों के लिए (मल्टी-स्टोरी में अलग-अलग फ्लैट मालिकों) - सहमत मूल्य एक सुझाया गया विकल्प है। यदि एक मल्टीस्टोरी बिल्डिंग प्रभावित होती है, तो 1 मंजिल का निर्माण तब तक शुरू नहीं हो सकता जब तक कि जमीन या तहखाना पूरा नहीं हो जाता, ऐसे में परिदृश्य पहली और मंजिल से ऊपर, मालिकों को इंतजार करना होगा। हालांकि अगर वे मूल्य बीमा सहमत हैं, तो वे इस संपत्ति को बीमाकर्ता को सौंप सकते हैं और दावे के पैसे के साथ एक अलग संपत्ति में स्थानांतरित कर सकते हैं>

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
Mirror Now
Live TV
अगली खबर