Gold Outlook 2020: क्या साल 2020 में भी चमक बिखेरेगा सोना? जानिए क्या कहते हैं एक्सपर्ट्स

Gold Forecast 2020: साल 2019 सोने में निवेश के लिए एक बेहतर साल साबित हुआ है। इस साल में निवेशकों को अच्छा रिटर्न मिला है। जानिए कैसा रहेगा सोने में निवेश के लिए साल 2020।

Gold Prediction 2020
Gold Prediction 2020: जानिए कैसा रहेगा साल 2020 में सोने का हाल 

नई दिल्ली: साल 2019 सोने में निवेश के लिहाज से बेहतर रहा है। सोने ने इस साल निवेशकों को अच्छा रिटर्न दिया है। अमेरिका और चीन के बीच चल रहे ट्रेड वॉर (व्यापार युद्ध) और अंतरराष्ट्रीय बाजार में आई अनिश्चिता के कारण सोने की कीमतें अंतरराष्ट्रीय बाजार में इस साल  1550 डॉलर के ऊंचे स्तर पर पहुंच गई है। साल 2019 ने सोने में निवेश करने वालों को शानदार रिटर्न दिया है और मेनस्ट्रीम संपत्ति के रूप में सोने की धमाकेदार वापसी हुई है। 

ट्रेड वॉर से बीच सुरक्षित है सोने में निवेश!

अंतरराष्ट्रीय बाजार में चीन और अमेरिका के बीच चल रही ट्रेड वॉर के कारण निवेशकों में डर बना हुआ है। विभिन्न अंतरराष्ट्रीय रिपोर्ट्स में सोने के भाव साल 2020 में जबरदस्त उछाल आने की बात कही गई है। Kitco की रिपोर्ट के मुताबिक साल 2020 में सोने का भाव 2000 डॉलर प्रति औंस तक जा सकता है। फिलहाल अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोने का भाव 1500 डॉलर प्रति औंस के स्तर पर है। 

क्वांटम एएमसी के सीनियर फंड मैनेजर- अल्टरनेटिव इन्वेस्टमेंट, चिराग मेहता ने बताया, 'जब तक व्यापार युद्ध का कोई समान और न्यायोचित हल नहीं हो जाता, वित्तीय मुश्किल जारी रहेगी और गहराती जायेगी। आगामी चुनाव और गिरती वृद्धि, दोनों ही अनिश्चितता को बढ़ाएंगे, क्योंकि ट्रम्प अब अपनी लोकप्रियता बढ़ाने वाले काम करने को प्रेरित होंगे।' 

उन्होंने बताया,  'ट्रम्प सुरक्षावादी नजरिये से पीछा छुड़ाने की आखिरी कोशिश में कोई नया दृष्टिकोण प्रचारित करने के लिए बाध्य हो सकते हैं। इससे वित्तीय बाज़ारों की चाल-ढाल व्यापक रूप से तय होगी और सोने को बढ़िया सहारा मिलेगा। निवेशकों के लिए यह याद रखना बेहतर होगा कि सोना धन का एक जांचा-परखा भण्डार है और वैश्विक पैमाने पर अभी व्याप्त अनेकों गिरावट के खतरों के मुकाबले विविधीकरण का एक बहुमूल्य साधन है।'

साल 2019 में कुछ ऐसा रहा सोने का हाल

चिराग मेहता ने बताया, 'विश्व के सबसे बड़े आयातक और सबसे बड़े निर्यातक के बीच व्यापार विवाद से व्यावसायिक उत्साह पर चोट पड़ी और वैश्विक अर्थव्यवस्था पर चौतरफा मार पड़ी, जिसके सिकुड़ने के संकेत दिखाई पड़े। विश्वव्यापी संकुचन के कारण वित्तीय बाजारों में अनिश्चितता बढ़ी और साथ ही दुनिया भर में केंद्रीय बैंकों की मौद्रिक नीति का स्वरूप तैयार हुआ।

उन्होंने बताया,  'इसके कारण बैंकों ने ज्यादा शान्ति का रास्ता चुना जिसमें समायोजन-सामंजस्य को बढ़ावा दिया गया और ब्याज दरों में कटौती की गई। दुनिया भर में ब्रेग्जिट पर फैसले में कमजोरी, हांगकांग में अशांति, मध्य पूर्व में तनावों जैसे भौगोलिक-राजनैतिक घटनाक्रम की परिणति भी सोने के लिए सुरक्षित मांग के रूप में हुई।' 

10 साल में 100 फीसदी बढ़ी कीमत, पिछले एक साल में बढ़ी 19 फीसदी

पिछले एक साल के आंकड़े पर नजर डालेंगे तो पाएंगे कि सोने में निवेश करना फायदे का सौदा रहा है। साल 2018 से साल 2019 में धनतेरस के मौके पर खरीदे गए सोने के भाव में लगभग 19 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। जबकि 10 साल पहले यानी साल 2010 में धनतेरस के मौके पर खरीदे गए सोने के भाव में 2019 तक में लगभग 100 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है।

 

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर