Digital Life Certificate:पेंशनर्स के लिए खास पहल, डोरस्टेप डिलिवरी की व्यवस्था

बिजनेस
ललित राय
Updated Oct 04, 2021 | 11:17 IST

Digital Life Certificate: : इस महीने से सेवानिवृत्त सरकारी कर्मचारी अपने वार्षिक जीवन प्रमाण पत्र को डिजिटली भी जमा कर सकते हैं। इसके लिए खास व्यवस्था की गई है।

digital life certificate,digital life certificate for pensioners sbi,
डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट,पेंशनभोगियों के लिए खास पहल 

मुख्य बातें

  • पेंशनर्स के लिए डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट की शुरुआत
  • घर बैठे भी इस सेवा का उठाया जा सकता है लाभ
  • हर वर्ष 30 नवंबर तक पेंशनर्स को जीवित होने का देना पड़ता है प्रमाणपत्र

Digital Life Certificate: सरकारी नौकरी से रिटायर हो चुके लोगों से लिए यह खास खबर है। सरकारी नौकरी से रिटायर होने के बाद किसी शख्स को पेंशन मिलती है, हालांकि इसके लिए हर वर्ष उस शख्स को अपने जीवित रहने का प्रमाण पत्र पेश करना होता है। पहले की व्यवस्था में पेंशनर को दफ्तर जाकर प्रमाण पत्र देना होता था। लेकिन अब इसमें बदलाव कर पेंशनर्स को राहत दी गई है। अब पेंशनभोगी शख्स डिजिटल तरीके से भी अपने जीवित रहने का प्रमाण पत्र पेश कर सकता है। इसके लिए हर वर्ष 30 नवंबर की तारीख डेडलाइन के तौर पर होती है। इसका अर्थ यह है कि 30 नवंबर तक पेंशनभोगी शख्स को अपने जीवित रहने का प्रमाण पत्र पेश कर देना चाहिए। 

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) और देश की डाक सेवा सहित कई सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाओं का लाभ उठाकर पेंशनभोगी घर बैठे जीवन प्रमाण पत्र जमा कर सकते हैं। 20 सितंबर, 2021 को पेंशन और पेंशनभोगी कल्याण विभाग द्वारा जारी एक सर्कुलर में कहा गया है कि पेंशनभोगी 12 सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के डोरस्टेप बैंकिंग एलायंस या डाक विभाग की डोरस्टेप सेवा का उपयोग करके डिजिटल जीवन प्रमाणपत्र जमा कर सकते हैं। .

डोरस्टेप सेवाओं का उपयोग करके जीवन प्रमाण पत्र कैसे जमा करें
डोरस्टेप बैंकिंग एलायंस ने डोरस्टेप बैंकिंग सेवाओं के तहत जीवन प्रमाण पत्र कलेक्शन के लिए सेवा शुरू की है। सार्वजनिक क्षेत्र के 12 बैंक अपने ग्राहकों को घर-घर सेवाएं प्रदान करने के लिए एक कंसोर्शियम बनाने के लिए एक साथ आए हैं। इसमें भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई), पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी), बैंक ऑफ बड़ौदा, बैंक ऑफ इंडिया, केनरा बैंक, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, इंडियन बैंक, इंडियन ओवरसीज बैंक, पंजाब और सिंध बैंक, यूको बैंक और यूनियन बैंक ऑफ इंडिया शामिल हैं।

इस तरह से सेवा का उठाया जा सकता है लाभ
इस सेवा का लाभ उठाने के इच्छुक पेंशनभोगियों को पहले मोबाइल ऐप, वेबसाइट या टोल-फ्री नंबर पर कॉल करके सेवा बुक करनी होगी। नियुक्ति के अनुसार तिथि और समय पर डोरस्टेप एजेंट पेंशनभोगी के घर जाएगा।मौजूदा महामारी की स्थिति में, ग्राहकों, विशेष रूप से पेंशनभोगियों के लिए जीवन प्रमाण पत्र जमा करने के लिए शाखा का दौरा करना मुश्किल है। पीएसबी एलायंस ने डोर स्टेप बैंकिंग के माध्यम से डिजिटल जीवन प्रमाण पत्र जमा करने की सुविधा लाई है।

पेंशनभोगी किसी भी चैनल के माध्यम से सेवा बुक कर सकते हैं। डीएसबी ऐप / वेब पोर्टल / टोल फ्री नंबर। डीएसबी एजेंट ग्राहक के दरवाजे पर जाएगा और जीवन प्रमाण ऐप का उपयोग करके ऑनलाइन जीवन प्रमाण पत्र एकत्र करेगा, "एलायंस वेबसाइट का कहना है।इस सेवा को बुक करने के लिए Google Playstore से 'डोरस्टेप बैंकिंग' ऐप डाउनलोड करें या वेबसाइट Doorstepbanks.com या www.dsb.imfast.co.in/doorstep/login पर जाएं या टोल-फ्री नंबर 18001213721 या 18001037188 पर कॉल किया जा सकता है। 

यहां ध्यान देने वाली बात यह है कि आप बैंक इस दरवाजे पर सेवा प्रदान करने के लिए शुल्क ले सकता है। सेवा प्रदान करने वाले बैंकों की साझी वेबसाइट पर शुल्क के बारे में जिक्र नहीं है। लेकिन एसबीआई ने अपनी वेबसाइट पर उल्लेख किया है कि वित्तीय और गैर-वित्तीय सेवाओं पर जीएसटी के साथ 75 रुपये से अधिक के शुल्क का जिक्र है। 

डाकिया के माध्यम से डोरस्टेप सेवा
डाक विभाग ने इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के साथ मिलकर पिछले साल नवंबर में डाकिया के माध्यम से डिजिटल जीवन प्रमाणपत्र जमा करने के लिए डोरस्टेप सेवा शुरू की थी।इस सुविधा को पूरे देश में उपलब्ध कराने के लिए, डीओपीपीडब्ल्यू ने इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (आईपीपीबी) में पोस्टमैन और ग्रामीण डाक सेवकों के अपने विशाल नेटवर्क का उपयोग करने के लिए पेंशनभोगियों को डिजिटल रूप से जीवन प्रमाण पत्र जमा करने की सुविधा प्रदान करने के लिए अनुबंधित किया। इस सेवा का लाभ उठाने के लिए, पेंशनभोगी को 'पोस्टइन्फो' ऐप डाउनलोड करना होगा, "पेंशन विभाग ने अपने परिपत्र में उल्लेख किया है।

यह सेवा आईपीपीबी और गैर-आईपीपीबी दोनों ग्राहकों के लिए उपलब्ध है। डाकघर की डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट (डीएलसी) सेवा का लाभ उठाने के लिए, ग्राहक या तो नजदीकी डाकघर से संपर्क कर सकता है या डाकिया/ग्रामीण डाक सेवक द्वारा घर-घर जाने का अनुरोध कर सकता है। अपॉइंटमेंट पोस्ट इंफो ऐप या वेबसाइट http://ccc.cept.gov.in/covid/request.aspx के माध्यम से भी निर्धारित किया जा सकता है।

डिजिटल जीवन प्रमाणपत्र (डीएलसी) सेवा का लाभ उठाने के लिए शुल्क

डीएलसी की प्रत्येक सफल पीढ़ी के लिए 70 रुपये (जीएसटी / सेस सहित) का मामूली शुल्क लिया जाएगा। डीएलसी जारी करने के लिए आईपीपीबी या गैर-आईपीपीबी ग्राहकों के लिए कोई डोरस्टेप शुल्क नहीं लगाया जाएगा। डीएलसी पूरी तरह से कागज रहित, निर्बाध और परेशानी मुक्त प्रक्रिया है, और प्रमाण पत्र तुरंत उत्पन्न होता है। सफलतापूर्वक पूरा होने पर, एक प्रमाण आईडी तैयार की जाती है जिसे सीधे राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (एनआईसी) द्वारा पेंशनभोगी के साथ साझा किया जाता है। प्रमाण आईडी जनरेट होने के बाद, पेंशनभोगी https://jeevanpramaan.gov.in/ppouser/login लिंक के माध्यम से डीएलसी डाउनलोड कर सकते हैं।

हालांकि, डाकिया या ग्रामीण डाक सेवक के आपके स्थान पर आने से पहले, पेंशनभोगियों को निम्नलिखित दस्तावेजों को संभाल कर रखना होगा।

  1. आधार संख्या
  2.  मौजूदा मोबाइल नंबर
  3.  पेंशन का प्रकार
  4.  मंजूरी प्राधिकरण
  5.  पीपीओ नंबर
  6. बैंक खाता संख्या जहां पेंशन जमा की जाती है

यहां ध्यान देने योग्य बात यह है कि पेंशनभोगी का आधार नंबर बैंक या डाकघर जैसी पेंशन वितरण एजेंसी के साथ पंजीकृत होना चाहिए। जानकार इस कदम को पेंशनभोगियों के संबंध में बड़ी सुविधा के तौर पर देख रहे हैं। 

Times Now Navbharat पर पढ़ें Business News in Hindi, साथ ही ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें ।

Times Now Navbharat
Times now
zoom Live
ET Now
ET Now Swadesh
Live TV
अगली खबर