TATA Sons:साइरस मिस्त्री ने किया साफ-'टाटा समूह में किसी भी भूमिका में लौटने में कोई इंट्रेस्ट नहीं'

Cyrus Mistry on NCLAT Order: साइरस मिस्त्री ने कहा कि वह न तो टाटा संस का चेयरमैन बनेंगे और न टाटा समूह की किसी कंपनी का निदेशक ही बनेंगे।

TATA Sons:साइरस मिस्त्री ने किया साफ-'टाटा समूह में किसी भी भूमिका में लौटने में कोई इंट्रेस्ट नहीं'
साइरस मिस्त्री 2012 में टाटा समूह के छठे चेयरमैन नियुक्त किए गए थे 

मुख्य बातें

  • साइरस मिस्त्री ने कहा है कि टाटा समूह में किसी भी भूमिका में लौटने में उनकी कोई रुचि नहीं है
  • मिस्त्री 2012 में टाटा समूह के छठे चेयरमैन नियुक्त किए गए थे, 24 अक्टूबर, 2016 को उन्हें पद से हटा दिया गया था
  • मिस्त्री ने कहा- मैं टाटा संस के कार्यकारी अध्यक्ष या टीसीएस, टाटा टेलीसर्विसेज या टाटा इंडस्ट्रीज के निदेशक की अध्यक्षता नहीं करूंगा

नई दिल्ली:राष्ट्रीय कंपनी विधि अपीलीय न्यायाधिकरण (NCLAT ) के फैसले के बाद साइरस मिस्त्री ने कहा है कि टाटा समूह में किसी भी भूमिका में लौटने में उनकी कोई रुचि नहीं है, साइरस मिस्त्री ने ट्वीट कर कहा है कि मैं यह स्पष्ट करना चाहता हूं कि मेरे पक्ष में नेशनल कंपनी लॉ अपीलेट ट्रिब्यूनल (NCLAT) के आदेश के बावजूद, मैं टाटा संस के कार्यकारी अध्यक्ष या टीसीएस, टाटा टेलीसर्विसेज या टाटा इंडस्ट्रीज के निदेशक की अध्यक्षता नहीं करूंगा।

मिस्त्री 2012 में टाटा समूह के छठे चेयरमैन नियुक्त किए गए थे, लेकिन 24 अक्टूबर, 2016 को उन्हें पद से हटा दिया गया था। साइरस मिस्त्री ने कहा कि वह न तो टाटा संस का चेयरमैन बनेंगे और न टाटा समूह की किसी कंपनी का निदेशक ही बनेंगे। लेकिन वह एक माइनॉरिटी शेयरहोल्डर के रूप में तथा टाटा संस के बोर्ड में एक सीट के शापूरजी पालोनजी समूह के अधिकारों की रक्षा के लिए सभी विकल्प आजमाएंगे। उन्होंने कहा कि उन्होंने यह निर्णय टाटा समूह के हित में लिया है, जिसका हित किसी के व्यक्तिगत हित से ज्यादा महत्वपूर्ण है।

 

 

मिस्त्री ने कहा, "फैलाई गई गलत सूचनाओं को स्पष्ट करने के लिए मैं यह स्पष्ट करना चाहता हूं कि एनसीएलटी का आदेश मेरे पक्ष में भले ही आया है, लेकिन मैं टाटा संस का कार्यकारी चेयरमैन नहीं बनना चाहूंगा, मैं टीसीएस, टाटा टेलीसर्विसिस या टाटा इंडस्ट्रीज का निदेशक भी नहीं बनना चाहूंगा।"

 

 

मिस्त्री का यह बयान ऐसे समय में आया है, जब टाटा संस और उसके पूर्व चेयरमैन रतन टाटा ने नेशनल कंपनी लॉ अपीलेट ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) के दिसंबर के फैसले के खिलाफ चंद दिन पूर्व सर्वोच्च न्यायालय में चुनौती दी है। एनसीएलटी ने साइरस मिस्त्री को टाटा संस के चेयरमैन पद पर बहाल करने का आदेश दिया था।

रतन टाटा ने तीन जनवरी को सर्वोच्च न्यायालय में दाखिल याचिका में कहा था कि मिस्त्री और टाटा ट्रस्ट्स के बीच रिश्ता बिगड़ गया है और टाटा ट्रस्ट्स ने महसूस किया है कि भविष्य में टाटा संस में उन्हें मजबूत नेतृत्व नहीं दिया जाना चाहिए।

 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर