Air India: एयर इंडिया ने अपने स्टॉफ को लेकर किए ये अहम निर्णय

Air India Employee: एयर इंडिया ने गुरुवार को नागरिक उड्डयन मंत्रालय के साथ एक समीक्षा बैठक में अपने कर्मचारियों को लेकर कुछ अहम निर्णय किए गए हैं।

Air India said No salary cuts, no firings for Air India staff 
नागरिक उड्डयन मंत्रालय की एक बैठक में कर्मचारियों की लागत के युक्तिकरण के बारे में एयरइंडिया बोर्ड के हाल के फैसलों की समीक्षा की गई 

नई दिल्ली: एयर इंडिया ने कहा कि गुरुवार को नागरिक उड्डयन मंत्रालय (MoCA) के साथ एक समीक्षा बैठक में निर्णय लिया गया कि एयरलाइन के किसी भी कर्मचारी को नहीं निकाला जाएगा। एयर इंडिया ने कहा कि नागरिक उड्डयन मंत्रालय की एक बैठक में कर्मचारियों की लागत के युक्तिकरण के बारे में एयरइंडिया बोर्ड के हाल के फैसलों की समीक्षा की गई। बैठक में दोहराया कि अन्य एयरलाइंस जो अपने कर्मचारियों की बड़ी संख्या के विपरीत हैं, एयरइंडिया के किसी भी कर्मचारी को नहीं निकाला जाएगा।" 

एयरलाइन ने यह भी कहा कि कर्मचारियों में से किसी के वेतन में कोई कमी नहीं हुई है, हालांकि, कुछ भत्तों को युक्तिसंगत बनाया गया था। एयर इंडिया ने ट्विटर पर एक बयान में कहा, "किसी भी श्रेणी के कर्मचारियों के मूल वेतन, डीए और एचआरए में कोई कमी नहीं की गई है। एयरलाइन के कठिन वित्तीय स्थिति के कारण भत्तों के युक्तिकरण को लागू किया जाना था।" 

इसमें कहा गया है कि फ्लाइंग क्रू को उड़ान की संख्या के अनुसार भुगतान किया जाएगा। चूंकि घरेलू और अंतरराष्ट्रीय परिचालन का विस्तार पूर्व-कोविड ​​स्तरों तक पहुंचने के लिए होता है और एयर इंडिया की वित्तीय स्थिति में सुधार होता है, इसलिए भत्ते के युक्तिकरण की समीक्षा की जाएगी।

इससे कुछ दिन पहले नागर विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने राष्ट्रीय विमानन कंपनी एयर इंडिया द्वारा अपने कुछ कर्मचारियों को पांच साल तक के लिए बिना वेतन अवकाश पर भेजने के फैसले को उचित ठहराया था, पुरी ने गुरुवार को हर साल 500-600 करोड़ रुपए का इक्विटी निवेश टिकाऊ नहीं है और एयर इंडिया को लागत कटौती के उपाय करने होंगे।

एयर इंडिया पर करीब 70,000 करोड़ रुपए का कर्ज का बोझ

सरकार ने इस साल जनवरी में एयर इंडिया की बिक्री किसी निजी इकाई को करने की प्रक्रिया शुरू की है। वित्त वर्ष 2018-19 में एयर इंडिया को करीब 8,500 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था। कोरोना वायरस की वजह से यात्रा अंकुशों के चलते दुनियाभर में एयरलाइन कंपनियां बुरी तरह प्रभावित हुई है। भारत ने सभी एयरलाइंस ने लागत कटौती के कदम उठाए हैं। कुछ ने कर्मचारियों के वेतन में कटौती की है, तो कुछ ने छंटनी और कुछ ने कर्मचारियों को बिना वेतन अवकाश पर भेजा है।

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर