NPS टियर II में निवेश पर पिछले 1 साल में मिला 19% रिटर्न, और बढ़ने की उम्मीदें

 नेशनल पेंशन स्कीम (एनपीएस) अधिक रिटर्न प्राप्त करने का बेहतर विकल्प है। इसमें निवेश कर आप अच्छी कमाई कर सकते हैं। 

19% return on investment in NPS Tier II in last 1 year, and expectations to grow
नेशनल पेंशन सिस्टम  

नई दिल्ली: नेशनल पेंशन स्कीम (एनपीएस) के तहत इक्विटी योजनाओं ने निवेशकों के लिए शानदार लाभ दिया है। एनपीएस टियर II अकाउंट की स्कीम G  ने पिछले एक साल में 19% तक का रिटर्न दिया है। हाल में इक्विटी मार्केट में उछाल ने लॉन्ग टर्म रिटर्न को भी प्रेरित किया है। एनपीएस स्कीम E में उच्चतम पांच साल का रिटर्न 16% मिला था। जो HDFC पेंशन फंड द्वारा दिया गया था।

आदित्य बिड़ला सन लाइफ पेंशन फंड ने NPS टियर II अकाउंट की स्कीम E के तहत 18.66% का उच्चतम 1 साल का रिटर्न दिया है, इसके बाद HDFC पेंशन फंड (18.64%) और ICICI प्रूडेंशियल पेंशन (17.9%) है।

नेशनल पेंशन सिस्टम (एनपीएस) में टियर II अकाउंट एक ऐड-ऑन खाता है जो आपको एनपीएस में उपलब्ध विभिन्न योजनाओं से बिना किसी एक्जिट लोड के निवेश करने और निकालने की सुविधा प्रदान करता है। जबकि NPS के टियर I अकाउंट में आपकी उम्र के 60 साल तक का लॉक-इन है, जब तक कि आप इसका विस्तार नहीं करते हैं, टीयर II अकाउंट के लिए लॉक-इन अवधि नहीं है। निवेश एक्सपर्ट्स का मानना है कि निवेशक बैंक के बचत खाते के विकल्प के रूप में एनपीएस के टियर II अकाउंट का उपयोग कर सकते हैं। इसके अलावा, एनपीएस टियर 2 अकाउंट के लिए कोई न्यूनतम बायलेंस राशि या न्यूनतम सालाना योगदान नहीं है।

एनपीएस के टियर I अकाउंट के तहत इक्विटी स्कीम ने इसी तरह के रिटर्न दिए हैं:-

निवेश एक्सपर्ट बजट में एनपीएस के लिए बड़े सुधारों की उम्मीद करते हैं ताकि सभी ग्राहकों के लिए इसे और बेहतर बनाया जा सके।  Paisabazaar.com सीईओ और सह-संस्थापक नवीन कुकरेजा ने कहा कि केंद्र सरकार के कर्मचारियों के लिए बजट 2020 में घोषित एनपीएस टियर- II टैक्ससेवर स्कीम में सिर्फ 3 साल का लॉक-इन पीरियड है और इक्विटी और बाकी डेट इंस्ट्रूमेंट्स में एक निश्चित परिसंपत्ति आवंटन 10-25% है। इस साल के बजट में राज्य सरकारों और प्राइवेट सेक्टर के साथ काम करने वाले स्वरोजगार और वेतनभोगी व्यक्तियों के लिए इस टैक्स सेविंग योजना को खोलना चाहिए। यह उन्हें निवेश करके धारा 80 सी के तहत टैक्स को बचाने का विकल्प प्रदान करेगा। डेट-ओरिएंटेड इंस्ट्रूमेंट, खासकर ओवरवैल्यूड इक्विटी मार्केट्स के दौरान।
 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर