Toyota: टोयोटा ने अफवाहों को नकारा, कंपनी भारत में 2 हजार करोड़ का करेगी निवेश

टोयोटा किर्लोस्कर ने सभी तरह के अफवाहों पर विराम लगाते हुए स्पष्ट किया है कि वो भारत में 2000 करोड़ से अधिक का निवेश करने जा रही है। कंपनी का मकसद भारत बढ़ो के साथ आगे बढ़ने में है।

Toyota: टोयोटा ने अफवाहों को नकारा, कंपनी भारत में  2 हजार करोड़ का करेगी निवेश
भारत में दो हजार करोड़ का निवेश करेगी टोयोटा 

टोयोटा कुछ दिनों पहले भारत में विस्तार की योजना को समाप्त कर देगी इस तरह की खबरों के बाद तूफान आ गया था। लेकिन  दुनिया के सबसे बड़े वाहन निर्माताओं में से एक ने अगले दिन साफ कर दिया की वो खबर महज अफवाह थी। कंपनी, भारत में निवेश जारी रखेगी। टोयोटा की तरफ से बयान आया कि उसकी भारतीय शाखा  टोयोटा किर्लोस्कर मोटर - बड़े निवेश के साथ साथ अधिक से अधिक रोजगार के अवसरों को पैदा करने के लिए प्रतिबद्ध है।

अगले 12 महीने में 2000 करोड़ का निवेश
टोयोटा ने भारत के लिए निवेश किए गए निवेश के बारे में भी जानकारी दी है। टोयोटा घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय बाजारों के लिए विद्युतीकरण और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में अगले 12 महीनों में यहां 2,000 करोड़ का निवेश करने की योजना बना रही है। इसका मतलब है कि कंपनी अब इलेक्ट्रिर अप्लायंस के क्षेत्र में भारत को हब बनाने पर विचार कर रही है। 

भारत बढ़ो के साथ आगे बढ़ना ही मकसद
टोयोटा किर्लोस्कर मोटर के प्रबंध निदेशक मासाकाज़ु योशिमुरा ने कहा कि टोयोटा किर्लोस्कर का मकसद सिर्फ अपने व्यापार तक ही सीमित नहीं है, बल्कि हमारी सोच है कि भारत निर्माण में वो भी कुछ अपना योगदान कर सकें। भारत के विकास के हमारे दृष्टिकोण के साथ तालमेल रखते हुए - भारत के साथ बढ़ो, देश में अपनी उपस्थिति के पिछले दो दशकों के दौरान, हमने विश्व स्तरीय प्रतिभा पूल के निर्माण के लिए और इसके लिए अथक परिश्रम किया है। ”स्किल इंडिया’ और “मेक इन इंडिया” पहल के अनुरूप एक मजबूत प्रतिस्पर्धी स्थानीय आपूर्तिकर्ता इको-सिस्टम का निर्माण करना

इलेक्ट्रिफिकेशन बाजार को प्रतिस्पर्धी बनाने का लक्ष्य
भारत में हमारे संचालन हमारी दीर्घकालिक वैश्विक रणनीति का एक अभिन्न अंग हैं। इन प्रयासों के हिस्से के रूप में, टोयोटा। समूह भारत में आने वाले वर्षों में प्रौद्योगिकी और विद्युतीकरण पर घरेलू और निर्यात बाजार दोनों के लिए 2000 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश करने का लक्ष्य रखता है। इलेक्ट्रानिक बाजार में नई, स्वच्छ और विश्व स्तरीय प्रौद्योगिकियों और सेवाओं को बढ़ावा देने और पेश करने का प्रयास करता है। ”

इलेक्ट्रिफिकेशन में निवेश करेगी कंपनी
इसके साथ, जापानी कार निर्माता ने भारतीय बाजार के प्रति अपनी प्रतिबद्धता की फिर से पुष्टि की है। हालांकि, यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि कंपनी विद्युतीकरण में निवेश करेगी और क्लीनर गतिशीलता और संबंधित सेवाओं पर ध्यान केंद्रित करेगी। और मौजूदा परिचालन का विस्तार करने के लिए निवेश के रूप में, कंपनी ने उस बारे में कोई घोषणा नहीं की है। टोयोटा किर्लोस्कर मोटर के वाइस चेयरमैन शेकर विश्वनाथन ने कथित तौर पर कहा था कि भारत में मौजूदा कर व्यवस्था कंपनी के लिए परिचालन को कठिन बना रही है। 

Times now
Mirror Now
ET Now
zoom Live
Live TV
अगली खबर